73mishrasanju

all pics use in background ©google I am not a professional writer. I write only self satisfaction. https://www.youtube.com/watch?v=AJCMjpCVsKs

Grid View
List View
Reposts
  • 73mishrasanju 12w

    बस यूँ ही
    तम तमी अँखियों में बीत गई ,
    तुम बेवज़ा फिर याद आ गई ।
    हम टूट गए थे बा वज़ तुम पर
    तुम तम सी बेवफ़ा यामिनी हो गई।

    बा वज़ / सभ्यता के साथ
    बेवज़ा/ बगैर बनावटी ढंग के

    ©73mishrasanju

    26 /10/2021 4:00 am

  • 73mishrasanju 22w

    तकिया

    मैंने बदल दिया है
    वह तकिया जिस पर सर रखकर हम सोते थे
    सपने देखते थे
    बहुत दिनों तक मेरी नींद सोख लेता था वह तकिया
    सपने बुलबुले हो गए
    अपने जाने कहां खो गए
    धुल धुल कर भी ना गई तुम्हारी खुशबू
    उस तकिए से
    मेरा रतजगा बुलाती रही हर रात
    बिस्तर के हर तरफ से उतरता रहा, चढ़ता रहा पैर ,पेट ,कांधे सब सो गए ,सोते रहे
    सिवाय एक मन के ,
    जो प्रेत सा उड़ता रहा रात भर जागता रहा या पीता रहा अश्क ,मन मेरा ,अब
    मैंने वह तकिया बदल दिया है ।
    संजय मिश्रा
    15/8/2021

    ©73mishrasanju


    If you like, please tag your friends

  • 73mishrasanju 33w

    जागृत स्वप्न

    दिनभर की थकन से पस्त हुआ
    बिस्तर पर आकर बैठा था
    आँखे बोझिल होती जाती थी
    जैसे तैसे सिरहाना सर को टिकाया था
    सरगोश नींद की हुई शुरू
    तभी शरारत करके अचानक
    मन ने सपनों को जगा दिया
    सोने पर तो सभी देखते
    तुम देखो जगती आँखों से ख़्वाब
    गहन नींद में गाहेबगाहे आये
    सपनों की तुलना से अधिक सजग होंगे
    नींद बेचारी अचकचाई सी
    ये गई कि वो गई
    देखने सपने शुरू किये
    बढ़ते ही गए बढ़ते ही गए
    कुछ छूटा कुछ पकड़ा
    कुछ बांधा कुछ छोड़ा
    कुछ लिया सहेज लिया सदा के लिए
    कुछ छोड़ दिए बस गिरह लगा
    ताना बाना भूली बिसरी
    खट्टी मीठी यादों की
    डोर पकड़ बढ़ता ही गया
    सपनों की विस्तृत ये चादर
    जितनी समेटी उतनी ही
    फैलती गई जिद्दन बच्ची सी
    कुछ रंग बिरंगे से सपने थे
    कुछ काले और सफेद भी थे
    कुछ स्वप्नों पर थी राख जमी
    कुछ दहके हुए लावे भी थे
    कुछ बर्फ से सर्द कठिन थे
    कुछ रंग बहारों के भी थे
    कुछ बीत चुके सपने भी थे
    कुछ नए सँजोये से भी थे
    सपनों की आपा धापी में
    गुजर तीसरा प्रहर गया
    नींद कहीं पथराई सी
    इंतजार करती होगी
    मैं सोच रहा आँखे खोले
    कल सुबह हकीकत क्या होगी
    सब प्यारे सपने पलकों में भर
    आँखों को कसकर भींच लिया
    अब नींद रूठ कर बैठी है
    आती भी नहीं बुलाने से

    संजय मिश्रा
    3/6/2021

    ©73mishrasanju

    If you like, please tag your friends

  • 73mishrasanju 38w

    जलती चिताओं की अनल अब ,
    दावानल वलय सी लगती है ।
    चमकती बेफिक्र ज़िंदगी अब ,
    धुँआ धुँआ , राख सी लगती है ।

    संजय मिश्रा - 1/5 / 2021

    ©73mishrasanju

    If you like, please tag your friends

  • 73mishrasanju 38w

    स्वप्नद्रष्टा

    मै एक अचेतन स्वप्नदृष्टा
    देखता हूँ अलस भोर में अँधकार से निकल भागने को आतुर सूर्य की छटपटाहट
    दोपहर को खुले आसमान में रार मचाते धरा को दह्काते सूर्य को
    और सांझ के साँवरे सलोने उच्च भाल पर बिंदी से जड़े शालीन सूर्य को
    मैं महसूस करता हूँ सुदूर प्रांतों से लंबा रास्ता
    तय करके आईं अद्भुत गुलाबी हवाओं को
    देखता हूँ मै विस्मय से मुंह खोले से नवपल्लवित नर्म पौधों को
    देख पाता हूँ चाँद के देर से आने पर भयभीत हिरणी सी बेसुध होती और खिल उठती चांदनी को
    हां मै हूँ एक अचेतन स्वप्नदृष्टा
    संजय मिश्रा 26/04/2019

    ©73mishrasanju

    If you like, please tag your friends

  • 73mishrasanju 47w

    जीवन बोध

    स्मृति के वे चिह्न उभरते हैं कुछ उजले कुछ धुंधले-धुंधले।
    जीवन के बीते क्षण भी अब कुछ लगते है बदले-बदले।

    जीवन की तो अबाध गति है, है इसमें अर्द्धविराम कहाँ
    हारा और थका निरीह जीव ले सके तनिक विश्राम जहाँ
    लगता है पूर्ण विराम किन्तु शाश्वत गति है वो आत्मा की
    ज्यों लहर उठी और शान्त हुई हम आज चले कुछ चल निकले।
    स्मृति के वे चिह्न उभरते हैं ... ...

    छिपते भोरहरी तारे का, सन्ध्या में दीप सहारे का
    फिर चित्र खींच लाया है मन, सरिता के शान्त किनारे का
    थी मनश्क्षितिज डूब रही, आवेगोत्पीड़ित उर नौका
    मोहक आँखों का जाल लिये, आये जब तुम पहले-पहले।
    स्मृति के वे चिह्न उभरते हैं ... ...

    मन की अतृप्त इच्छाओं में, यौवन की अभिलाषाओं में
    हम नीड़ बनाते फिरते थे, तारों में और उल्काओं में
    फिर आँधी एक चली ऐसी, प्रासाद हृदय का छिन्न हुआ
    अब उस अतीत के खंडहर में, फिरते हैं हम पगले-पगले।
    स्मृति के वे चिह्न उभरते हैं ... ...
    अज्ञात



    If you like, please tag your friends

  • 73mishrasanju 65w

    ये दिल अपना न जाने क्यूँ
    यूँ ही बस टूट जाता है
    मनाते हैं जो हम दिल को
    तो जग ये, रूठ जाता है

    मेरी दीवानगी मुझको,
    कहाँ ले कर के जाएगी
    मेरी ख़्वाहिश किसी को भी,
    न शायद रास आएगी
    ये ग़म मेरा न जाने क्यूँ,
    मुझी पर मुस्कुराता है
    मनाते हैं जो हम दिल को
    तो जग ये, रूठ जाता है

    खिज़ाओं में बसे थे हम,
    बहारें थीं मुहाने पर
    क़रीब आईं नहीं पल भर,
    मेरे इतना बुलाने पर
    ये 'सच' मेरा न जाने क्यूँ,
    मुझे बरबस रुलाता है
    मनाते हैं जो हम दिल को,
    तो जग ये रूठ जाता है

    मेरी ख़ुशियाँ मेरे दिल से,
    यूँ ही तक़रार करती हैं
    ज़रा ख़ुश हम जो होते हैं,
    हमीं पर वार करती हैं
    मेरा हँसना, न जाने क्यूँ
    क़हर मुझ पर ही ढाता है
    मनाते हैं जो हम दिलको
    तो जग ये रूठ जाता है

    ये दिल अपना,न जाने क्यूँ
    यूँ ही बस टूट जाता है
    मनाते हैं जो हम दिल को
    तो जग ये, रूठ जाता है

    ©73mishrasanju

    If you like, please tag your friends
    ©73mishrasanju

  • 73mishrasanju 66w

    मेरा इश्क़ ही मेरी ज़िंदगी , इसको मिटायें किस तरह ,
    तेरी ज़ुस्तज़ू में जी रहे , तुझे भूल जायें किस तरह ।

    बीत जाये उम्र यूँ ही , नाम तेरे कर जो दी ,
    मेरी ज़िंदगी बेहिसाब है , इसका हिसाब दूँ किस तरह।

    हद से गुज़र जाये यूँ ही , ये तड़प जो मेरे दिल की है
    ये ईनाम हैं जो ज़ख्म हैं , उनको छिपायें किस तरह।

    दर पर तेरे झुक जाये यूँ ही , सज़दे को मेरी नज़र ,
    तू ख़ुदा है मेरा ख़फ़ा है क्यूँ , तुझको मनायें किस तरह।

    मेरी सांस रूक जाये यूँ ही , तेरी ख़ुशबू अब जुदा न हो ,
    धड़कन मेरी तेरे नाम हैं , तेरा नाम न लूँ किस तरह,

    करे जा सितम मुझ पर यूँ ही , तेरी हर सज़ा क़ुबूल है ,
    मुझे दर्द देना अदा तेरी , इसे न कुबूलूँ किस तरह ।

    ©73mishrasanju

    If you like, please tag your friends

  • 73mishrasanju 66w

    बैठ किनारे , देखता हुआ
    सरोवर में गिरती उन बूँदों को
    ओस की बूँदें , जो
    झिलमिलातीं, सपनों की रात सी ,
    परिणीति, तरंगें उत्पन्न करतीं ,
    आश्चर्य है ! मेरा हृदय भी शांत ,
    किन्तु कहीं-कहीं पर
    डूबती - उतराती
    वह यादें , जो ओस बन मेरी पलकों से झरीं थी कभी ।
    देखता हूँ मैं कि मेरे छूते ही ,
    वह पत्ता काँप उठता है,
    सह नहीं पाता क्या वह भी,
    तपती रेत की तरह मेरी आस को,
    जो चुनती है ,
    ओस ,
    और सुंदरतम अतीत के ,
    भाव विह्वल पल,
    जैसे कि मैं फिर पूछता हूँ तुमसे ,
    क्या मैं ,
    देख सकता हूँ तुम्हें ?
    अपने हाथों से ?
    तुम मुस्कुरा देती हो,
    अहसास करके मेरे हाथों की छुअन का ,
    वह स्पर्श , जो अधरों से किया , तुम्हारा ,
    मेरी अंगुलियों ने कभी ।
    आह ! नहीं है अंत इसका , यह सब कुछ,
    बनेगा - मिटेगा
    बस इसी तरह से,
    लहरें-तरंगें , आत्मसरोवर में उठेंगी किन्तु ?
    यह भी हलाहल है जो ,
    मजबूर कर रहा है , मुझे ,
    शिव बनने को ।
    बैठ किनारे ,
    सोचता हूँ मैं ,
    तुमसे है जीवन या तुमसे था कभी ?

    ©73mishrasanju

    If you like, please tag your friends

  • 73mishrasanju 66w

    मेरा इश्क़ ही मेरी ज़िंदगी , इसको मिटायें किस तरह ,
    तेरी ज़ुस्तज़ू में जी रहे , तुझे भूल जायें किस तरह ।

    बीत जाये उम्र यूँ ही , नाम तेरे कर जो दी ,
    मेरी ज़िंदगी बेहिसाब है , इसका हिसाब दूँ किस तरह।

    हद से गुज़र जाये यूँ ही , ये तड़प जो मेरे दिल की है
    ये ईनाम हैं जो ज़ख्म हैं , उनको छिपायें किस तरह।

    दर पर तेरे झुक जाये यूँ ही , सज़दे को मेरी नज़र ,
    तू ख़ुदा है मेरा ख़फ़ा है क्यूँ , तुझको मनायें किस तरह।

    मेरी सांस रूक जाये यूँ ही , तेरी ख़ुशबू अब जुदा न हो ,
    धड़कन मेरी तेरे नाम हैं , तेरा नाम न लूँ किस तरह,

    करे जा सितम मुझ पर यूँ ही , तेरी हर सज़ा क़ुबूल है ,
    मुझे दर्द देना अदा तेरी , इसे न कुबूलूँ किस तरह ।

    ©73mishrasanju