Grid View
List View
  • adibaa 5w



    सुबह भविष्य
    दुपहर वर्तमान
    और रोज रात को
    मेरा अतीत मुझसे मिलने आता है।।

  • adibaa 5w



    क्या पता हम कहानी
    या कहानीयों में हम?

  • adibaa 5w



    ज़िन्दगी तो तब मुश्किल जान पड़ी
    जब मालूम हुआ ,
    जिस बात पे रोना आया,
    लोगों के सामने हंसना होआ।

  • adibaa 5w



    घुटन का बोझ उन लोगों से पूछो
    जो ज़िम्मेदारियां के तले दब गए।

  • adibaa 6w



    ज़ख्म दिखते नहीं अभी लेकिन
    ठंडे होंगे तो दर्द निकलेंगे।

  • adibaa 7w

    ❤️

    जिस सवाल का जवाब न समझ आए
    उसका जवाब न ही होता है।।

  • adibaa 8w

    ❤️

    प्रेम और भविष्य में से
    स्त्री ने सदा भविष्य चुना।।

  • adibaa 11w

    ❤️

    समाज बड़ा दोगला होता है,
    बुद्ध जंगल से लौटे तो तथागत हो गए।।
    सीता वन से लौटी तो कलंकित हो गई।।

  • adibaa 12w



    मैरी ज़िन्दगी का ऐसा सफ़र चल रहा
    जिसमें पैर नहीं दिल दुख रहा।।

  • adibaa 13w



    संयम क्या है?
    एक युद्ध अपने ही विरुद्ध।।