aka_ra_143

❤️Mere❤️Alfaaz❤️

Grid View
List View
Reposts
  • aka_ra_143 7h

    कई ज़िंदगियों को खुद में समाकर समंदर का सैलाब भी ऊंचाइयों की चाह रखता है
    और वो इंसान बवंडरों को खुद में समेटकर ज़िंदगी जीने की प्यास रखता है
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 7h

    इनायत ऐसी की खुदा मंजूर कर ले
    ज़िंदगी ऐसी की वफ़ा मंज़ूर कर ले
    रिश्ता ऐसा जो निभाना मंज़ूर कर ले
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 15w

    वो सबसे खूबसूरत कहते हैं मुझे
    जबकि असली खूबसूरती तो उनकी आँखों में हैं
    जो मुझे सबसे खूबसूरत बनाती हैं
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 15w

    कब तक हम दुखों का बोझ उठाए
    अब बन्द खुशियों की चाबी दे मौला
    तो जी भर कुछ पल ये लब मुस्कुराए
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 15w


    यूँ हाथों में लेके आपका हाथ
    अपने बेशुमार प्यार के साथ
    चलो हम चले खुशिओं के साथ
    विश्वास और साथ फेरों के साथ
    दो दिल भी हो जाये एक साथ
    अब कुबूल करो आप हमारा साथ
    खुश रहें हम सदा एक दूसरे के साथ

    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 15w

    मैं अपने कितने अनकहे अल्फ़ाज़ कागज़ पर उतारूँ
    ए मेरे मौला हम डरते है कहीं
    कागज़ ने ग़द्दारी दिखा दी तो बिखरे रिश्ते कैसे संभालूं
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 16w

    उड़ान

    उड़ान का हाल ज़रा उनसे पूछो
    जिनके पंखों के होते हुए भी
    उन्हें उड़ने की आज़ादी न हो
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 16w

    ख़ामोश हूं मैं इस वक़्त कुछ पल के लिए
    लौट कर आऊंगा मैं आवाज़ देने के लिए

    मेरी शायरी का सिलसिला थम गया कुछ पल के लिए
    लेकर आऊंगा मैं शायरी का संग्रह तुम्हें सुनाने के लिए
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 16w

    ए खुदा!
    सबको तुमसे यही आस लगी है
    सलामत रखे,
    खुदा सभी को मैंने यही दुआएं पढ़ी है
    ©aka_ra_143

  • aka_ra_143 17w

    आकाश की बुलंदियों में न ढूंढो हमें
    समुद्र की गहराईयों में न ढूंढों हमें
    हम भी सादा जीवन ही जीते हैं तो
    तुम बस धरती पर ही ढूंढों हमें
    ©aka_ra_143