alonestar1

����❤️Truth Is God And God Is Truth ❤️����

Grid View
List View
Reposts
  • alonestar1 1d

    #समय,साथ

    समय पर साथ किसी ने कभी दिया नहीं ।।
    वैसे आगे पीछे लोगों की सौगातें आती गई ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 5d

    #नुकसान

    बहुत बड़े नुकसान से अच्छा है,,,
    अपना छोटा नुकसान किया जाए ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 1w

    #झुक कर

    अमन बहुत बार जिंदगी में,,,
    थोड़ा झुक कर चलना ही सही रहता है ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 2w

    #अहसान

    अहसान नहीं मांगा था,,,साथ मांगा था ।।
    पराया नहीं,,, मैंने तुमको अपना माना था ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 2w

    #अकड़

    अपनी अकड़ को अपने पास रखो ।।
    मुझसे खुद की अकड़ नहीं संभाली जाती ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 3w

    #प्रदेश

    प्रदेश को प्रदेश ही रहने दीजिए ।।
    मत इन्हें अलग देश कीजिए ।।

    नफ़रत घृणा से जो भर दिए है आपने ।।
    ऐसे कामों से कभी तो परहेज़ कीजिए ।।

    और यूं कब तक खून की नदियां बहाओगे ।।
    कभी तो अमन की बरसात कीजिए ।।

    अपने फायदे के लिए यूं हवा में जहर घोल देना ।।
    कभी तो प्यार का प्याला पीजिए ।।

    और एकजुट होकर रहे देश अपना ।।
    कभी तो ऐसा प्रयास कीजिए ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 4w

    #खाली पन्ना

    ना कोई शाम है ना कोई यादों का शहर ।।
    ना मैं अधूरा हूं हां मैं एक खाली पन्ना हूं ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 4w

    #दिखाए

    जो दिखाए तुम्हें अपना,,,और मुसीबत में साथ खड़ा ना हो ।।
    हो सके जितना,,,उससे दूरी बनाकर रखो ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 5w

    #Dr.B.R.अंबेडकर जी

    जय भारत जय भीम ।।

    ( जीवन परिचय )
    ( बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर जी )

    बात चली है उस दौर की,,,जिसे पढ़कर रूह भी कांपती है ।।
    बाबा साहब जी का नाम सुनकर,,,एक आग,एक उमंग जागती है ।।

    वो जन्मा महू मध्य प्रांत में,,,1891, चौदह अप्रैल में ।।
    6 दिसंबर 1956 को,,,कर गए प्रस्थान इस जहां से ।।

    पिता का नाम था,,,राम जी सकपाल,,,माता थी भीमाबाई जी ।।
    15 साल में शादी हो गई,,,पत्नी थी रमाबाई जी ।।

    भिवा,भीम आंबड़वेकर के नाम से जाना जाता,,,
    आंबेडकर नाम दिया,,,कृष्णा केशव ने ।।
    दूसरी पत्नी शारदा कबीर,,,सविता आंबेडकर नाम चुना फिर खुद उन्होंने ।।

    1907 में 10वीं पास,,,मुंबई यूनिवर्सिटी से B.A पास ।।
    कोलंबिया से M.A,PHD,ALD की,,,लंदन (इंग्लैंड) से इकोनॉमिक्स,MSC,DSC की ।।

    हर औरत को समझा जाता,,,मर्द के पांव की जूती ।।
    जब तक चाहा तब तक डाली,,,नई लाकर,पुरानी फैंकी ।।

    कभी सत्ती प्रथा,,,कभी झूठे आरोप लगाकर उनको,,,
    जिंदा ही जलाया ।।
    चार दिवारी में कैद रही,,,चूल्हे चौंके तक सीमित रही,,,
    फिर भी किसी ने तरस ना खाया ।।

    छुआछूत का दौर था,,,अधिकार नहीं था कुछ भी ।।
    सर्वोत्तम कहलाते थे वे सब,,,बेशक अक्ल से हो तुच्छ ही ।।

    गुलामी से भी बद्तर माना,,,उसने छुआछूत को ।।
    असमानता का विरोध किया,,,इसलिए जला दिया उसने मनुस्मृति को ।। ( 25/12/1927 )

    तथागत गौतम बुद्ध जी,संत कबीर जी,महात्मा ज्योतिराव फुले जी,,,
    आंबेडकर जी के गुरु तीन थे ।।
    ज्ञान,स्वाभिमान और शील,,,तीन ही उनके देवता थे ।।

    बहुत प्रयास किए उन्होंने,,,इस धर्म में समानता लाने के लिए ।।
    धर्म परिवर्तन जरूरी हो गया,,,क्योंकि हर प्रयास विफल हो गए ।।

    11 भाषाओं का ज्ञान था उनको,,,32 डिग्रियां हासिल की ।।
    वकील,प्रोफेसर,राजनीतिज्ञ,,,महात्मा गांधी की भी जान बचाई ।।

    बाबा साहब जी ने विरोध किया,,,खत्म किया इस प्रथा को ।।
    कानून मंत्री बने वो,,,संविधान दिया इस सत्ता को ।।

    ©alonestar1

  • alonestar1 5w

    #मंजिल

    छोड़ दी है पढ़ाई मैंने,,,अब कुछ और ही करना है ।।
    खुद ही रास्ता तैयार कर,,,अमन खुद ही मंजिल बनना है ।।

    ©alonestar1