anamikaasthana

youtu.be/4-aepZF6pwY

do follow my channel ..like n subscribe too

Grid View
List View
Reposts
  • anamikaasthana 8w

    यूँ ही नहीं मंज़िलें मुक़म्मल मिलती सबको...
    कुछ हाथ सफर में छूट जाया करते हैं।।

    अनामिका
    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 98w

    ज़िन्दगी के फ़लसफ़ों की बस इतनी सी कहानी है...
    "ख़ुशी " और "ग़म "....
    बस इन्हीं के साथ पूरी ज़िन्दगी बितानी है।।


    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 105w

    No matter whosoever comes n leave...
    Its only YOU...whom I want to BELIEVE...❤️

    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 107w

    कभी अंदर कुछ टूट भी जाता है।
    तो हम मुस्कुराकर नज़रअंदाज़ कर दिया करते हैं।।


    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 107w

    मेरे लहज़े से मेरे किरदार की पहचान न करना।
    मैं टूट कर बिखर भी जाऊं...
    तो ख़ुद को संभाल सकती हूं।।


    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 107w

    फ़कत बोलने से ही मोहब्बत हुआ नहीं करती...
    कोई हीर राँझे से मिलने की यूँही दुआ नहीं करती।।
    लाख जुदा कर लो तुम इन हीर- राँझो को..
    इनके दिलों में बसी मोहब्बत यूँ...
    फ़ना नहीं हुआ करती।।

    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 107w

    Mujhe adat hai tumhari...
    Tum kabhi ye jaan paoge kya?
    Mujhe mohabbat hai tumse...
    Tum kabhi ye maan paoge kya?
    Tum mere zehan me har waqt rehte ho..
    Tum kabhi ye ehsaas kar paoge kya?
    Ankhon k kone se girte hai ansu..
    Tum kbhi inhe poch paoge kya?
    Darti hu mai tumhe khone se...
    Tum kbhi ye dar nikal paoge kya?
    Be-inteha...be-tahasha...be-panah chahat hai tumse....
    Tum kabhi is chahat ko nibha paoge kya??


    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 110w

    वो मिलने का वादा करके भी मिल नहीं पाते हैं।
    अब उन्हें कैसे बताए हम...
    उनकी इस आदत से...हम किस कदर बिखर जाते हैं।।


    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 110w

    सुना है तू सबकी झोलियाँ भरता है...
    ए - रब!
    दो- चार बरकतें ...मेरी झोली में भी भर दे।।


    ©anamikaasthana

  • anamikaasthana 110w

    समाज के तानों का भार लड़की ही क्यों सहती है हमेशा....
    जिस्मों के खेल में भागीदारी तो लड़कों की भी बराबर की होती है।।


    ©anamikaasthana