bechain_ruh

खुश हूं मैं, खुद में

Grid View
List View
Reposts
  • bechain_ruh 11w

    तुम्हारा क्या है, तुम्हे सिर्फ "ज्ञान" देना है,

    हमारी सोचो, हमे "इम्तेहान" देना है।

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 11w

    ये मेरी जिंदगी का वो दौर है
    जहां मैं
    अपनों में छिपे गैरों से रूबरू हो रही हूं

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 11w

    मेरे अपने,

    मेरे जिंदा रहने से खुश नहीं है
    और मेरे मरने से भी खुश नहीं होंगे

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 11w

    सब कुछ बहुत खूबसूरत चल रहा था
    ना जाने क्यों,
    मैंने जिंदगी को एक रिश्ते में उलझा दिया था

    छुप सकता था जो एहसास,
    ना जाने फिर क्यों,
    मैने उसे बता दिया था ।।।
    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 12w

    हम मिडिल क्लास के लोग भी कितने इज्जतदार होते है

    इज्जत बचाने के खातिर.....

    "मरी हुई बेटी देख सकते है
    मगर तलाक शुदा नहीं"

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 18w

    ज्यादा "अच्छा" होना भी,
    बहुत "खराब" होता है !

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 18w

    खुद को इतना सवारना है कि..
    पाने वाले को क़दर हो,
    और खोने वाले को अफ़सोस ..!

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 18w

    "बात" करने में और "बातें" करने में वही फर्क होता है,
    जो रात भर जागने में और नींद न आने में होता है

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 18w

    बदली नही मैं, मेरी भी एक कहानी है,
    बुरी बन गई मैं, मेरे अपनों की मेहरबानी है !!

    ©bechain_ruh

  • bechain_ruh 18w

    जिंदगी

    तू "बिखर" चुकी है,
    मैं जानती हूं....

    मगर थोड़ा सा "वक्त" दे बस,
    यकीनन मैं "समेट" लूंगी तुम्हें !!

    ©bechain_ruh