bhavesh_sharma

www.instagram.com/bhavesh12sh

IG: @bhavesh12sh(7K family) Youtube - Bhavesh Sharma (4.5k)family

Grid View
List View
Reposts
  • bhavesh_sharma 3w

    ना जाने किस मोड़ पर है जिंदगी,
    कोई राह नजर नहीं आ रही,
    रास्ते बहुत से हैं और मंजिलें अनेक,
    मगर मेरी कौन सी है मंजिल
    ये जिंदगी नहीं बता रही....

    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 3w

    हमारा ख्वाब देखना उस ईश्वर को गवारा नहीं ,
    कुछ और तो क्या ही मिलेगा जिंदगी में हमें ,
    जो है वह भी हमारा नहीं .....


    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 9w

    अपने सपनों को कभी तवज्जो नहीं दे पाए हम,
    हमारे हालातों ने हमसे हर सपना छीना है ।



    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 10w

    जहरीली रसायनिक खाद डालकर
    जब फसलों को उगाएंगे,
    उस फसल का अनाज खाकर
    हम कहां स्वस्थ रह पाएंगे...

    कोरॉना जेसी बीमारी के आगे
    हमारे शरीर कहां टिक पाएंगे
    अन्न के रूप में भी जब हम
    ये जहर ही खायेंगे ...

    रोग प्रतिरोधक क्षमता को हमें बढ़ाना होगा,
    रसायनिक उपवर्कों वाली खेती को छोड़
    प्राकृतिक खेती पर आना होगा...

    हवा पानी तो दूषित हो रहा है हर दिन
    अन्न को दूषित होने से बचाना होगा,
    ये जहर का कारोबार छोड़
    प्राकृतिक खेती पर आना होगा...

    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 10w

    बच्चों की उमर के साथ उसकी चिंताएं भी बढ़ गईं,

    एक एक करके हर शौक छोड़ना पड़ा उसको,

    पास उसके बस जिम्मेदारियां रह गई

    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 10w

    कोई इन पढ़े लिखे गवारों को समझाओ
    देश बेचने में और Privatization
    में फर्क होता है
    जिस अंबानी टाटा महिंद्रा को तुम गालियां
    देते हो वो अर्थव्यवस्था में कितना योगदान
    देते हैं कभी सोचा है?
    Aur tum log kya sochte ho
    privatization kya sirf Bharat me ho rhi hai??

  • bhavesh_sharma 11w

    मेरी कामयाबी से जलोगे,
    और कितनी नीच हरकत करोगे?
    बहुत गिराना चाहा तुमने हमको,
    काफी है या अभी कोशिश और करोगे ?

    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 11w

    भारत देश में अंग्रेजी ना आना शर्म का विषय नहीं
    हिंदी नहीं आए तो वो शर्म का विषय है



    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 12w

    लिखता हूं प्रेम गीत मगर
    वो भाव नहीं ला पाता हूं
    हर कविता तुम्हारे लिए
    और तुम्हें ही नहीं सुना पाता हूं ...

    ©bhavesh_sharma

  • bhavesh_sharma 12w

    सपने बहुत ऊंचे हैं मेरे मेरे
    घावों में मेरे गहराई है ...
    हर रात अकेलापन साथ मेरे
    अपने आप से ही मेरी लड़ाई है...

    उसको भूल जाने की हजारों कसमें
    मैं हर दिन तोड़ा करता हूं
    उसे याद ना करने की कोशिश
    दिन रात मैं किया करता हूं ...

    लिखता हूं प्रेम गीत मगर
    वो भाव नहीं ला पाता हूं
    हर कविता तुम्हारे लिए
    और तुम्हें ही नहीं सुना पाता हूं ...।

    ©bhavesh_sharma