Grid View
List View
Reposts
  • dars_e_ulfat 20w

    रिश्तें

    सिखाते है रिश्तें अक्सर इम्तिहान लेकर
    कभी आबाद तो कभी ए बर्बाद कर गए
    हम निभाते रहे ईमानदारी से हमेशा ही
    इशरतें तब्दील कर के आज़ाब कर गए

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 20w

    अब लम्हें गुज़रते है फ़क़त वो लुभाते नहीं
    दर्द उभरते है बहुत पर अभी सताते नहीं

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 20w

    इस शब-ए-ग़म की बात और है
    मग़्मूम ज़रूर पर जज़्बात और है

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 21w

    पहचान मेरी बस क़लम-फ़न बने तो क़ाबिल हूँ
    किसी अशार-ए-ग़ज़ल का मैं भी तो साहिल हूँ

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 21w

    आब-ए-नहर - आँसू की नदी, सूरत-ए-ज़ेबा- सुंदर चेहरा, मुस्तक़िल-स्थायी, मयस्सर-उपलब्ध, मग़्मूम-उदास,

    Read More

    आब-ए-नहर सूरत-ए-ज़ेबा पर मुस्तक़िल मयस्सर रहा
    मग़्मूम हम ही थे कहाँ के तन्हाईयों में दिल मयस्सर रहा

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 21w

    रौशन कर दे जो रह-ए-सफ़र ऐसा चराग़ नहीं मिलता
    अपनों की क़तार में कौन अपना? सुराग़ नहीं मिलता

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 21w

    लुत्फ़-ए-मुहब्बत - प्रेम का मनोरंजन

    Read More

    लुत्फ़-ए-मुहब्बत उठाने का अंदाज़ अलग था
    हार गए दिल उस भीड़ का मिज़ाज अलग था

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 21w

    फऱयाद ना करो किसी से 'राज' ऐ उम्र ऐ क़बर तुम्हारी है
    अच्छाईयों से अली-वली मिलेगा, अब ऐ नज़र तुम्हारी है

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 21w

    बुराईयाँ मुर्दा-ए-दिल सोहबत रखता नहीं
    फ़िक्र-जिक्र, मुहब्बत-नफ़रत रखता नहीं

    ©dars_e_ulfat

  • dars_e_ulfat 21w

    बाम-ए-फ़लक - आस्मान की छत
    बे-दर्द-ए-दिल - दिल का बुरा

    Read More

    फ़िर उतर आए वो बाम-ए-फ़लक से
    बे-दर्द-ए-दिल कर गए इक़ झलक से

    ©dars_e_ulfat