Grid View
List View
Reposts
  • dil_k_ahsaas 3w

    " सौगात और फरियाद "


    इश्क के बदले अश्कों की सौगात झोली में भर लाए हैं
    जिंदगी के बदले हम, मौत की फरियाद कर आए हैं।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 3w

    " दर्द "

    दर्द समझने के लिए
    दर्द से गुजरना होगा।
    कुछ घावों को दिल पर लगा कर
    फिर उन्हें कुरेदना होगा।

    दर्द समझने के लिए
    पल-पल बेमौत मरना होगा।
    कुछ ज़ख्मों को चीर कर
    फिर कच्चे धागों से सिलना होगा।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 3w

    नया साल आप सबको मुबारक हो। ������������

    Read More

    " Happy New Year "

    नए सिरे से शुरुआत करते हैं
    कुछ हौसलों का हाथ पकड़ते हैं
    डर जो घर बना बैठा है दिल में कहीं
    चलो उस डर को बेघर कर उम्मीद भरते हैं।

    नए सिरे से शुरुआत करते हैं
    एक नया आग़ाज़ जोश से करते हैं
    राहें मंजिलों तक का सफर माँगती हैं
    एक बार फिर थके हुए कदमों में जान भरते हैं।

    नए सिरे से शुरुआत करते हैं
    जीतने की कोशिश करते हैं
    जो फिसल गया एक छोटी सी हार से
    उसे मेहनत से जीत कर अपने नाम करते हैं।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 4w

    " Sweater "

    I have weaved a sweater using the threads of my warm love.
    Whenever you feel numb and cold do wear this sweater.
    Feel the warmth in the cold weather of sadness and revive your sinking heart.

    Rekha Khanna
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5w

    दर्द सारी रात कराहता रहा
    अश्कों की भेंट, मैं नींद को चढ़ाता रहा।

    नीला पड़ा बदन ठंडा होता रहा
    रूह की तड़प देख, मैं मौत को बुलाता रहा।

    दरिया अपनी राह को मस्त हो बहता रहा
    डूबने के डर से, मैं हाथ-पैर बेतहाशा चलाता रहा।

    नासाज़ तबियत से दिल बेचैन होता रहा
    झूठी तसल्लियों से, मैं दिल को बहलाता रहा।

    रिश्तों में ग़लतफहमियांँ बेवजह ही पालता रहा
    आस्तीन के सांँप को मैं रोज़ दूध पिलाता रहा।

    महक चँदन की थी या रात की रानी महक रही थी
    रात भर बीन बजा कर मैं नाग को बुलाता रहा।

    दिल सच्चे प्रेम को दर बदर भटकता ढूँढता रहा
    रूहानी प्रेम की कहानियांँ, मैं दिल को सुनाता रहा।

    इबारत लिखी थी किताब में एक इँसान बनने की
    खुदा की बस्ती में, मैं सच्चा इँसान तलाश करवाता रहा।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5w

    " Unknown Vibes "

    Some unknown vibes are calling me
    They surround and haunt me
    They want to touch and revive me back to the life again
    Some unknown vibes are continuously trying to get noticed by me
    My heart is sinking and refused to revive again
    My heart doesn't trust anyone anymore
    Vibes, vibes doesn't listen to me they just want me too feel them and accept completely
    My heart and body is getting blue and numb unable to feel anything
    Vibes shakes me vigorously and doesn't allow me to die
    Some unknown vibes wants me to live but without love for myself how can I live
    Without happiness from within, it's difficult to survive and chirp again
    Vibes doesn't want to listen anything, they keep revolving around me.

    Rekha Khanna
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5w

    Let be silent
    Let's talk with the eyes
    and
    dance on the rhythmic waves of the heartbeat.

    Rekha Khanna
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5w

    Collab with @my_sky_is_falling

    Apki post kharab kar di ����

    Read More

    " सितम "

    मौसमों की मुझ से अब तक बदसलूकी जारी है
    घर मेरा बह चुका पर बरसात अभी भी जारी है।

    ©my_sky_is_falling

    मौसम की बदसलूकियाँ अब दिल को रास आने लगी है
    आँखों की बारिशों की जगह मौसमी बारिशें भाने लगी है।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5w

    Collab with @my_sky_is_falling ����

    Read More

    " अश्क "

    ये तेरी मोहब्बत तेरे वादे तेरी वफाएँ ले जा
    तू तो बस अपनी आँखों की नमी मुझे दे जा।

    ©my_sky_is_falling

    मोहब्बत के वादों संग अपनी सदाएं भी ले जा
    तुझसे मिलने से पहले का सुकून मेरा वापस दे जा।
    ना तेरी मोहब्बत रास आई और ना तेरी वफाएँ
    अपनी वफाओं की घुटन और बंदिशों से आजादी दे जा।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5w

    रूहानी इश्क का‌ हाथ थाम कर मन जोगी हो चला
    बहकता था जो‌ मन‌, अब शांत चित वैरागी हो चला।

    कलमा मोहब्बत का क्या पढ़ा कि मलंग हो गया
    दर पर बैठ खुदा के एक शातिर, संत हो चला।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas