#ABHIVYAKTI30

48 posts
  • lovetowrite990 78w

    #abhivyakti30@goldenwrites_jakir maffi chahiye thoda late likhne liye but thodi tabiyat nasaz chal rahi thi toh uski wajah se deri ho gayi .

    Read More

    Intzaar

    Intzaar mein uski kyu har shaam beetati hain
    Jab kadar nahi usko teri gidgida uske aage kyu
    Apna aatam saman ganvati hain.
    Is kadar dil mein jagah de rakhi hain tune usse
    Ki bus khayalon se uske puri raat kat jaati hain
    Jyada waqt na diya kar usse
    kyuki yeh kadwa sach hain
    Jisko jitna jyada waqt or izatt dete ho ussi ki
    Nazaron mein ahmiyat gatt jaati hain.
    Khair tujhe pyaar hain na usse
    Jiski khatir tu uske diye gum bhi
    Khushi khushi sehen kar jaati hain
    Magar usse kya uski badolat toh
    Har baar tere naseeb mein
    Intzaar ki ghadiyaan aati hain.
    ©lovetowrite990

  • gunjit_jain 79w

    #abhivyakti30
    @goldenwrites_jakir भाई द्वारा दिए गए आज के विषय "इंतज़ार" पर लिखने का कुछ प्रयास��
    विलम्ब के लिए मैं क्षमाप्रार्थी हूँ��

    Read More

    "इंतज़ार"

    माथे पर सजती हुई बिंदी
    उर में मोतियों के हार सा
    याद आती है अब उनकी
    ये किस्सा है, मेरे यार का
    ये लम्हा, मेरे इंतज़ार का।

    वियोग हुआ है जो उनसे
    दे गया दर्द वो अपार सा
    इस बिछुड़न के बाद बढे
    मेरे इस बेशुमार प्यार का
    ये लम्हा, मेरे इंतज़ार का।

    चंचल मन ज़रा माने नहीं
    रोता है बूंदों की फुहार सा
    मचलता रहता है पल पल
    खयाल आए, ऐतबार का
    ये लम्हा, मेरे इंतज़ार का।

    आएगा जरूर मेहबूब मेरा
    बनकर कोई वो बहार सा
    उम्मीद लिए बैठे ही हैं हम
    अब ये किस्सा हर बार का
    ये लम्हा, मेरे इंतज़ार का।

    बगैर उनके यूँ अकेले जीना
    हो गया अब कुछ दुश्वार सा
    न जाने अब कब अंत होगा
    मेरे वियोग के इस विचार का
    ये लम्हा, मेरे इंतज़ार का।
    ©गुंजित जैन

  • smritishukla 79w

    #abhivyakti30
    #intezar
    @goldenwrites_jakir. Ji
    कृपया देरी हेतु क्षमा कीजिएगा ������������

    Read More

    इंतज़ार

    सैनिक परिवार का_
    लौटे वो सलामत रब से यही दुआ है,
    अगर हो शहीद लपटे तिरंगे में,
    संतोष है, निसार वतन पर हुआ है।

    देश का पालक किसान_
    इंतज़ार है ,उस बारिश का
    सुनहरी फसल लहराएगी
    मुझ से ही सही किसी के यहां
    दो जून की रोटी बन जाएगी।
    आपका अपना अंतर्मन_
    कब होगी खुद की खुद से मुलाकात
    इस भीड़ भरी दुनिया में हो रहा
    इंतज़ार
    आयेगी ख़ुशी, बहेगी प्रेम वयार।
    ©smritishukla

  • rangkarmi_anuj 79w

    इंतज़ार

    जाने वाले शख्स का सब करते हैं इंतज़ार
    चौखट पर नज़र रख कर करते हैं इंतज़ार

    सबसे वादा करके वापस आने का घर अपने
    वो वीर जवान रुलाकर हमेशा कराते हैं इंतज़ार

    अपने खत लिख लिख कर अपनी मोहब्बत का
    मरते दम तक आस लगाए बैठे करते हैं इंतज़ार

    दर्द चीख पुकार अफरा तफ़री बंद हो जाए
    हवा में शांति घुलने तक करते हैं इंतज़ार

    ताले में जड़क कर जो बाहर चले गए
    उस औलाद का माँ बाप करते हैं इंतज़ार

    पुराने आशियाने जो सूने रह कर ढह गए
    अपने मालिक का अभी भी करते हैं इंतज़ार

    खेत की फसल जो गर्मी से झुलस गई
    उसके साथी अगले साल तक करते हैं इंतज़ार
    ©rangkarmi_anuj

  • pankaj_rathore 79w

    अभिव्यक्ति में मेरी आज की रचना,आज के शीर्षक इंतजार पर
    #abhivyakti30
    Sorry bhai @goldenwrites_jakir hum late ho gaye
    Maaf kar dena bhai
    Late hone ke liye dil se maafi chate hai

    @fairygurl @rani_shri @gjain2309 @chahat1samrat
    उम्मीद है आप सबको पसंद आएगी, अगर कुछ गलती हुई हो तो उसके लिए माफी चाहूंगा

    Read More

    कभी वो लौट के मिलने आए तो उनसे हर हाल में मिलेंगे,
    जहां वो छोड़ गए थे, वही उनके इंतजार में बेहाल से मिलेंगे,
    वो तो शायद तब भी बड़े खुशमिजाज हाल में मिलेंगे,
    पर पता नहीं, हम सामने मिलेंगे या दीवार पर मिलेंगे।।
    ©psrathore

  • rnsharma65 79w

    #Abhivyakti30(✒)

    परमेश्वर के सृष्टि होती कितनी अद्भुत
    हरपल इंतेज़ार में रहते सकल जीव जगत ।
    जैसे साधारणतः सबका सूर्याेदय का इंतेज़ार
    व्रत पालन में करते चंद्रोदय का इंतेज़ार ।
    पेड़ पौधा करते फल फूल की इंतेज़ार
    पशु पक्षी करते आहार का इंतेज़ार ।
    नदी की रहती समन्दर से मिलने की इंतेज़ार
    देवादेवी करती अपने त्यौहार के इंतजार ।।

    मानव का किन्तु इंतेज़ार होते अनेक
    किसी को वसंत का तो किसी को बारीस का
    किसी को अध्ययन की तो किसी को नौकरी का
    किसी को सन्तान का तो किसी को दादा दादी होने का
    किसी को भगवत प्राप्ति की तो किसी को धन की
    किसी को साधु बनने का तो किसी को सेवक होने का
    ऐसे हर दिन हर पल करते रहते हम इंतेज़ार ।।
    सुबह सुबह अभिव्यक्ति विषय की इंतेज़ार
    और रात को फलाफल की उत्सुकता से इंतेज़ार ।।
    ©rnsharma65

  • _harsingar_ 79w

    इंतज़ार#abhivyakti30
    @Goldenwrites_jakir

    तेरे नाम का पहरा था,और ध्यान का ताला था
    आंखों में तस्वीर तेरी लिए तेरी याद को पाला था
    बन्द दरवाज़ा नहीं किया कि आओगे इक दिन
    कुछ ख्वाब सजाए थे बुलाओगे इक दिन

    हर तरफ तेरी मुहब्बत का साया है
    हमने अकेले ही इश्क को परवान चढ़ाया है।
    अजब हमारी मुहब्बत का फलसफा है,
    के सब कहते है, मुहब्बत हमारी इकतरफा है

    पर इन्तजार अब और नहीं
    तेरा ऐतबार अब और नहीं
    किसी भी फरेब की दरकार अब और नहीं
    तेरा ज़िक्र मेरे यार अब और नहीं।

    डॉ सीमा अधिकारी

    #unrequitedlove #ignorance #philosophy
    writersnetwork #writerstoli #hindikavita #hindiwriters #hindipoets #hindiwriteup #mirakee #pod

    Read More

    इंतज़ार
    abhivyakti30


    ©_harsingar_

  • kanchanjha 79w

    ए भ्रमर कर ले तू बस जरा इंतजार,
    रात जाते ही स्वर्णिम सहर आयेगा।
    खिल उठेंगी बहारों में कलियां सभी,
    मन का मधुवन भी हर्षायेगा।।
    इंतजार की घड़ी, थोड़ी लगती बड़ी,
    मन को मधुकर, जरा थीर रखना अभी,
    बाद पतझड़ के सावन बरस जाएगा।
    रात जाते ही स्वर्णिम सहर आयेगा।
    दामन उम्मीदों की छोड़ना तुम नहीं,
    मुश्किलें देखकर मोड़ना पग नहीं।
    है बुरा वक्त तो कल संवर जाएगा।
    रात के बाद स्वर्णिम सहर आयेगा।
    ©kanchanjha

  • goldenwrites_jakir 79w

    #abhivyakti30 @flame_ @maakinidhi

    आप सभी दोस्तों बहनों भाइयों और सभी writer का dil से स्वागत करता हूँ आप सभी ने abhivyakti में हिस्सा लेकर इस पाठशाला की नीब रखी उम्मीद करता हूँ आप अब का प्यार हमेसा ही ऐसे ही बना रहे ।। कल की जिम्मेदारी @loveneetm कलम की निगरानी में खुदको अच्छा महसूस कर रहा हूँ कल हमें एक और जिंदगी की सच्चाई का सामना करना है जिस के लिए हम सब को एक साथ एक मंच एक पाठशाला abhivyakti के साथ कदम से कदम मिलाकर चलना है .... ।
    मुझसे जो भी गलतियां हुई में उनसब गलतियों की माफ़ी चाहता हूँ
    आप सब का प्यार साथ दुआ हमेसा बनी रहें
    वो साथ वो आशिर्बाद का प्राथी हूँ ज़ाकिर .....
    ������������������������������������

    Read More

    Abhivyaqti30

    आज का दिन मेरे लिए ख़ास था एक स्पेशल दिन
    जिसकी कभी कल्पना नहीं की थी आज वो दिन मेरी जिंदगी में आया ---- @flame_ दि को दिल से बधाई देता हूँ
    मुझे आज इस मुकाम पर पहुंचाया जिसके काबिल नहीं था उस क़ाबिल बनाया एक उम्मीद एक भरोसा मुझपर दि ने जताया ... में सफल हुआ या नहीं वो नहीं पता पर कोसिस दिल से की इस abhivyakti की पाठशाला को निभाने की
    मुझसे जहाँ भी गलती हुई छोटा समझकर आप सभी भाई - बहन - दोस्त मेरे दिल के करीबी सब मुझे माफ़ करें ...
    आप सब ने जो भी पोस्ट किए है वो सब दिल को छूकर एक जगह अलग ही मेरी जिंदगी में बनाई है --- में किसी का नाम नहीं लेना चाहता सभी ने दिल से मेहनत की है में सभी का शुक्र गुज़र हूँ सभी का स्वागत करता हूँ और सभी से दुआ की आरजू है और ऐसे ही #abhivyakti की पाठशाला को आगे बढ़ाते चले सब का साथ मिल जुल कर अपने बिचार अपनी कलम के जादू से एक नई राह दिखाते रहें बस यही अपील - यही गुजारिश आप सब से है --- #abhivyakti31 की जिम्मेदारी @loveneetm को देना चाहता हूँ
    और कल के लिए आज ही उन्हें बधाई देता हूँ उम्मीद करता हूँ आप सब भी मेरे फैसले से ख़ुश होंगे ... ।।

    आज की winner @maakinidhi ...


    ©goldenwrites_jakir

  • undetectable_liar 79w

    इंतज़ार का दर्द तो वही बाप जानता होगा,
    जो बेटी को इन्साफ दिलाने के लिए पल
    पल इंतज़ार करता होगा,
    ����������������
    ज्यादा कुछ लिखने की हिम्मत नहीं हुई

    @goldenwrites_jakir भाई बस इतना हीं लिख पाया ����
    #abhivyakti30
    @rani_shri @noor_e_huma @khamoshiiii
    @happy81, @cherry_sakshi @chahat1samrat @rim__writes @pragya__ @sonakshiakhil

    Read More

    इंतज़ार

    इंतज़ार का दर्द
    उनसे पूछो साहब,

    बेटी की आबरू लूट जाती है
    और इन्साफ भी
    जैसे घुट सी जाती है!

  • karan_ahir 79w

    इंतज़ार

    इंतज़ार है कि घट नहीं रहा
    वक़्त भी तो कट नहीं रहा

    हुई जो गलतियां उसका पछतावा है मुझे
    लेकिन ये जुर्म है कि मिट नहीं रहा
    ©karan_ahir

  • loveneetm 79w

    इंतजार

    जीवन भर इस इतंजार में ,
    मैंने रैन गुजारी,
    आएँगे कब प्रियतम आँगन,
    सोच सोच मन हारी।

    माघ मास से भादव आया,
    बदरा अश्रु बन बरसे,
    भूल गए प्रियतम मुझको,
    बिन देखें नयना तरसे।

    हरियाली तीज निकट है,
    घर आ जाओ साजन,
    बिना तुम्हारे कैसा सजना,
    सुना लगता आँगन।

    सखियाँ बोलें धीर धरो,
    करों सोलह श्रृंगार,
    प्रेमी के तो भाग्य लिखा है,
    करना इंतजार।

    आएंगे साजन घर को,
    मन मंदिर दीप जलाओ,
    मिलन घड़ी की आस लगा,
    सुंदर स्वपन सजाओ।

    @लवनीत
    ©loveneetm

  • sanjay_kumr 79w

    आज भी मैं उसके इं'तजार में बैठा हूं
    कब आएगी और गले से लगाएगी और
    रोते हुए कहेगी इतना क्यों तड़पाते हो हमें
    यूं तुम्हारे बगैर एक पल भी काटना मुश्किल है।
    ©sanjay_kumr

  • suno_naa 79w

    माँ का संघर्ष अब इन्तज़ार में बदल गया
    जिस दिन से उसका बेटा सरहद पर गया
    ©reenu312
    #umeed01
    #abhivyakti30
    @life09

    Read More

    संघर्ष

  • beautiful_feelings 79w

    #abhivyakti30
    @goldenwriter_jakir

    ����������������

    कड़ी धूप में भी
    मै तेरा इंतजार करती हूं
    उन चांद सितारों के साथ भी
    मै तेरा इंतजार करती हूं

    ����������������

    Read More

    इंतजार

    जब तक तुझ पर ऐतबार है
    तब तक का ही इंतजार है
    ऐतबार खत्म
    इंतजार खत्म

    जब तक ये दिल बेकरार है
    तब तक का ही इंतजार है
    बेकरारी खत्म
    इंतजार खत्म

    ©beautiful_feelings

  • di_hearted 79w

    Intezaar-e-ishq

    Dil ki khidki pe khade hain hum palke bichaye,
    Intezaar kar rahe hain unka jo vada kar gaye the lautne ka

    Ye ghadiyan hain ki kat hi nahi rahi hain,
    Har guzarta pal besabri ko aur bada jata hai

    Jazbaaton ki dukaan ko saja kar rakha hai unke liye humne,
    Har beetne wala lamha khwaishon ko bada jata hai

    Saanso ke mod pe ek aashiyana saja rakha hai humne,
    Ye waqt dheere-dheere us ghar ko teri khusboo se meheka jata hai

    Intezaar-e-ishq bhi kitna khubsurat hota hai,
    Pata nahi kab aayenge wo lekin phir bhi umeedon ka gulab khilta hi jata hai
    ©di_hearted

  • goldenwrites_jakir 79w

    .

  • daddy_princess 79w

    @goldenwrites_jakir chota sa pryas sir ����

    इंतजार है मुझे उस घड़ी का,
    जिस घड़ी मौत मेरे सामने होगी...
    इंतजार है मुझे,
    जब मेरी रूह मेरे जिस्म से अलग होगी...
    इंतजार है मुझे जब,
    मेरी सांसे रुक जाएेगी...
    इस दुनिया के लिए,
    इंतजार है मुझे जब भीड़ में से गुजर के
    अकेलेपन का साथ होगा...
    इंतजार है मुझे जब,
    प्यारी सी मौत के बाद
    मिट्टी मे दफ़न हो जाएंगे...
    इंतजार है मुझे अाह!
    जब मौत को अजमाये गए....
    ~sakshi_cherry

    #abhivyakti30

    Read More

    .

  • bal_ram_pandey 79w

    #abhivyakti30{✒️}
    @goldenwrites_ jakir ji��thanks for remembering me dear

    #rachanaprati123(repost)

    Read More

    **इंतजार** एक ग़ज़ल

    तुझको देखे हुए ज़माना हुआ
    यह भी कोई आजमाना हुआ

    न होती उल्फत तो ना याद करते
    तेरा मगर गज़ब का भुलाना हुआ

    इबादत की तरह ज़हन में है तू
    तेरा भी क्या रिश्ता निभाना हुआ

    मुकद्दर का लिखा कैसे पढ़ें कोई
    ख़ुद से ख़ुद को यह बताना हुआ

    मुखालिफ ही रहे सफीने हरदम
    कश्ती का हर बार यूं डूबाना हुआ

    न लौटे परिंदे शजर पे कभी फिर
    वक्त का शाखों का यूं हिलाना हुआ

    ©bal_ram_pandey

  • misty_2004 79w

    #abhivyakti30

    आज का विषय है ,"इंतज़ार"
    ये विषय @goldenwrites_jakir जी के द्वारा निर्धारित है।

    खास अच्छा लिखना नहीं आता हमें। कोई गलती हो तो हमें माफ़ कीजिएगा।
    उम्मीद हैं आपको पसंद आएगा।

    Read More

    "इंतज़ार"

    इंतज़ार है हमें की वो समय बहत शिघ्र आएगा,
    जब मुझें जन्म से पहले ही नकारा ना जाएगा।
    जब सांसो को हमारी भी होगी पहचान की प्राप्ति,
    जहा हमारे लिए भी होगी खुशियों की वापसी।

    इंतेज़ार हैं हमें एक ऐसे स्थान का
    जहा चार दीवारी की कैद नहीं,
    पर आसमान से ऊंचा गंतव्य होगा।
    जहा सिर्फ रसोई की कढ़ाई नहीं,
    परंतु सफलता का स्वप्न सच्चा होगा।

    इंतेज़ार हैं हमें,की एक ऐसी दुनिया होगी,
    जहा हमे इंसानों के बीच हैवानों का खौफ़ ना होगा।
    जहा दिनों की रोशनी और रातों की अंधेरी में भी,
    हमारे रूह का दर्दनाक कतल ना होगा।

    इंतेज़ार हैं हमें की एक ऐसी जीविका होगी,
    जहा रूप नहीं पर ज्ञान से हमारा परीक्षण होगा।
    जहा रक्त बहाने पर ये समाज ,
    एक नारी के लिए भय का अंगार ना होगा।

    इंतेज़ार है हमे एक ऐसे इश्क़ की उपलब्धि का,
    जहा रंग से सुंदरता का विचार ना हो,ना ही हो शरीर से मोहब्बत का।
    जहा किसीकी बहन या मा का शोषण ना हो,
    न ही ससूराल नरक हो किसी बाप की बेटी का।

    इंतेज़ार हैं हमे की ये समाज बदलेगा,
    समानता के उच्चतम विचार होंगे और खिलेगा फूल नेकी का।
    जहा लड़का लड़की में भेद-भाव ना होगा,
    और समाज के काले बादलों से परह दिखेगा इंद्रधनुष उन्नति का।

    -स्वर्णाली