#anodyne

21 posts
  • gannudairy_ 20w

    ♥️

    मुलाकात नहीं होती तो क्या हुआ,
    मुहब्बत तो फिर भी बेशुमार करते हैं तुमसे!!!!










    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 21w

    अगर वो दे तो कोई रोक नहीं सकता,
    वो ना दे तो कोई ताकत ला नहीं सकती!!!

    #incompleteLove
    #anodyne♥️
    ��������

    @anusugandh @mamtapoet @_do_lafj_ @riya_bakshi @mini___

    Read More



    छोड़ दिया तुझसे तेरा साथ माँगना मैंने,
    अब तो खुदा से तुझे ही माँग लूँगा!!!!








    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 23w

    ♥️

    सुनो....️
    एक बात सुनोगी क्या..?

    रोक कर इस हलचल को..
    कुछ वक़्त मुझे दोगी क्या..?

    हर किसी को देखती हो..
    एक नजर मेरी तरफ देखोगी क्या..?

    बहुत काम हैं पता है..
    पर कुछ पल मेरे नाम करोगी क्या..?

    ऐसा करो जिस्म तुम ही रख लो..
    मगर वो रूह मेरे नाम करोगी क्या..?

    थाम कर हाथ मेरा..
    इन वीरान रस्तों पर चलोगी क्या..?

    सुनो..मेरी Anodyne
    इस बेज़ान की जान बनोगी क्या..??
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 23w

    ❣️❣️

    चाहवां किसे होर नूं, ख्याल ही नहीं उठदा...

    होवां किसे होर दा, सवाल ही नहीं उठदा...!!
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 24w

    ♥️♥️

    तेरी बातों की नादानियां वजह बन चुकी हैं जीने की..
    "तेरा माथा" बस अब इकलौती ख्वाहिश है मेरे सीने की..
    तेरा हाथ पकड़ के चलना है मीलों भी..
    'इस सफ़र की हमसफ़र' तू बने बस इतनी सी ख्वाहिश है इस मुसाफिर की..

    पकड़ के तेरी उंगलियाँ मैं ढलता सूरज उगता चांद देखना चाहता हूँ..
    इन महँगी गाड़ियों के दौर में मैं सड़क-ए-सुनसान देखना चाहता हूँ..
    मुबारक हो आशिकों को महंगे mobile phones..
    मैं इस mobile phone के दौर में भी
    तेरी तस्वीर अपने बटुए में देखना चाहता हूँ..

    भीग जाना चाहता हूँ उन बेमौसम बरसातों में..
    जिनकी बूँदों में तेरा प्यार नजर आता है..
    आजमाले दूर जाकर कितना भी..
    मैं सूरज हूं जो हर रात ढलने के बाद फिर लौट आता है..
    और माना तू होगी चांदनी पूरे शहर के लिए..
    मैं आसमां हूँ जो चाँद को भी खुद में समेट लाता है..
    और मोहब्बत है तुझसे जिद नहीं..
    इसलिए ये आशिक इस कबीर सिंह के जमाने में
    एक रांझा बनकर रहना चाहता है..

    यकीन ना हो मेरी मोहब्बत पे तो..
    तो एक बार आजमा के लौट जाना..
    मिलने आओ जब भी मुझसे तुम..
    बेशक वो जिस्म घर छोड़ना पर अपनी मुस्कान लेते आना..
    और कुछ खास लगाव नहीं मुझे मेरे खाली घर में..
    तुझे सिर्फ प्यार देना चाहता हूँ..
    फरेबी होते हैं वो आशिक जो खाली कमरे की तलाश में होते हैं..
    जब घर वाले जोड़े में फ़ूलों वाली गाड़ी में भेजे तब तुझे अपने घर लाना चाहता हूँ..

  • gannudairy_ 24w

    ❣️

    मुझे इंतजार दोनों का है....
    उसकी हाँ और मेरे IAS बनने का!!
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 24w

    रूहानी प्रेम

    बात है ये बड़ी पुरानी, है ये सदियों लम्बी बड़ी पावन प्रेम कहानी
    एक थे चितचोर सांवले कृष्ण और एक थी प्यारी राधारानी
    छोटे थे मेरे गिरिधर गोपाल, और राधा भी न थी सयानी
    जब मिले दोनों तो धन्य हुआ प्रेम, तब शुरू हुई ये प्रेम कहानी
    पिता के संग राधा गई थी गोकुल, तब मिले थे कृष्ण और राधारानी
    फिर समय बीतता गया और आगे बढ़ती गई यह प्रेम कहानी
    कृष्ण की बाँसुरी की तान सुनकर दौड़ी चली आती थी राधारानी
    कुछ वर्ष बीते इसी तरह, कुछ समय बीता प्रेम के दौर का
    फिर कृष्ण ने कहा, अब उन्हें जाना है कर्तव्य पथ पर अकेले
    गोपियों और राधा ने उन्हें कहा मत जाओ, विरह वेदना देकर
    तब कान्हा बोले राधिका से, प्रेमी बिछड़ जायें तब भी प्रेम नहीं मरता
    अभी प्रेम का सर्वश्रेष्ठ आदर्श हमें जग के सामने रखना है
    आने वाले प्रेमियों को सही राह दिखाने के लिए हमें प्रेम विरह सहना है
    जिस दिन कृष्ण, राधा से दूर हुए उस दिन बहुत रोई राधा रानी
    कान्हा भी दुःख से व्याकुल थे, लेकिन वे आगे बढ़े क्योंकि
    प्रेम शरीरों का नहीं आत्माओं का मिलन होता है, ये बात थी सबको समझानी
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 24w



    बेवफ़ा वो याद जब भी आँखें आ गईं
    दिल की दीवारों पे फिर दरारें आ गईं

    मैंने ख़्वाब तुम्हारा देख तो लिया मगर
    मुसलसल जागते रहने की रातें आ गईं

    मैंने जब भी चाहा के भूल जाऊं उसे अब
    रात के सन्नाटे में उस की आवाज़ें आ गईं

    अब जुदाई है तो फिर जुदाई ही रहे दरमियाँ
    ये ज़बाँ पे हमारी कैसी मुनाजातें आ गईं

    तसव्वुर में जब मिलन की तलब हुई उससे
    मेरे गले में "गौरव" उस की बाहें आ गईं
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 25w

    ❣️

    ऐ दिल तू किसी की बातों में आ गया
    वो तो जहन में था इबादतों में आ गया

    झूठी तारीफ ना महबूब के हक जो हुई
    वो आफरीन तो पाक आयतों में आ गया

    अब के जाती नहीं उस तक सदायें कोई
    वो मौत सा जिंदगी की मिन्नतों में आ गया

    आने लगी उसके जिक्र भर से हसीं लबों पे
    'गौरव' तू किसी की मोहब्बतों में आ गया
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 25w

    ❣️

    मैं शायर हो कर अब कोई गजल नही कहता
    लगता है शायद मुझ मैं अब मैं भी नही रहता

    तुम जो मेरे खयालो मैं अब दौड़े चले आते हों
    अब अपना ख्याल मुझे किसी वक़्त नही रहता

    हम तो क्या तुम्हें देख कर कोई भी होश मैं नही
    "आईना" भी तुम्हे देखकर अपने होश में नही रहता

    ओर ये जो आपकी आंखे है पता नहीं कैसी है
    इन्हें देख कर जादूगर भी जादूगर नहीं रहता
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 25w

    परछाई

    गुजार दिए होंगे तुमने कई दिन, महिने साल पर काट ना पाओगे वो एक रात हूँ मैं..

    की होगी तुमने कई लोगों से गुफ़्तगू, दिल पे लगेगी वो एक बात हूँ मैं...

    भीड़ में खुद को तन्हा पाओगे अपनेपन का एहसास कराए, वो एक साथ हूँ मैं...

    बिताए होंगे तुमने कई हसीन पल सबके साथ भुला ना पाओगे, वो एक याद हूँ मैं...

    और छोड़ा होगा तुम्हें लोगों ने बीच राह जिसे कभी चाह कर भी दूर ना कर पाओगे, वो एक रूहानी इश्क़ की परछाई हूँ मैं..
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 25w



    पहली बार किसी इंसान के लिए
    बच्चे की तरह रोये हम....
    ये बात ताउम्र याद रहेगी!!
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 25w

    वो

    वो जब भी खफा होती है मुझसे मुझे खामोश करती है,
    मुझे समझ नहीं आता वो मेरे साथ ही ऐसा क्यु करती है!

    हाँ गुस्सा तो आता है उसे मेरी छोटी छोटी बात पे,
    पर कुछ भी हो वो मुझसे रोज बात करती है!

    मैं गलती भी कोई जान पूछ के तो करता नहीं हूँ,
    बस वो साफ़ दिल की है हर बार मुझे माफ़ कर देती है!

    उसकी मासूमियत पे शायद घमंड ही है बेहद,
    कुदरत भी अपनी सादगी उसपे शुमार करती है!

    मैं हर बार एक नई सोच के साथ ग़ज़ल लिखता हूँ,
    काग़ज़ कोई भी हो कलम उसका नाम लिखा करती है!

    मैं तो बस मिट्टी सा हूँ जो एक चोट से भी टूट जाता है,
    उसके अल्फाज़ गोंद जैसे हैं मुझे हर बार जोड़ा करती है!

    थोड़ी नाराज है मुझसे वो चंचल हवा की तरह अभी वो,
    मेरे पास से गुज़रती है फिर अपना रुख मोड़ लेती है!
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 25w

    ❣️❣️

    कभी वो ये भी इनायत कर देता है,
    मेरे कहे लफ़्ज़ों को ग़ज़ल कर देता है!!

    अधूरा हूँ जिसकी तलब में एक अर्से से,
    ख्वाबों में आए तो मुकम्मल कर देता है!!

    कहा था मैंने उससे कि बिछड़ना मत,
    कि हिज्र ये दिल को पत्थर कर देता है!!

    बस्ल की तड़प तो कभी हिज्र का डर,
    इश्क़ इंसान को बेबस कर देता है!!

    जहां - जहां से भी वो गुज़रे है,
    अपने जैसे दिलकश मंजर कर देता है!!

    मुझ में एक बागी रहता है "गौरव",
    गैर को सोचूँ तो बगावत कर देता!!
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 25w

    ❣️

    ऐ मस्त लहरों जरा रहम हो मैं अभी नाविक नया हूँ..
    जवां हैं तेवर चटक जवानी अभी मैं आशिक नया नया हूँ!!

    हाँ मेरे लहजे से छलकती हैं गुरूर की कुछ नयी झलकियाँ,
    मुआफ करना दोस्तों अभी मैं मालिक नया नया हूँ!!

    लगाओ चोटें कुछ हौले हौले मेरे मौला कहीं बिखर ना जाऊँ निखरने में,
    मुझे तराशो ना जौहरी इतना अभी मैं माणिक नया नया हूँ!!

    नहीं है बिल्कुल तजुर्बा हमको तामीर भरी हैं खराबियों से,
    जरा व्खत दो सुधार लूँगा अभी मैं खालिक नया नया हूँ!!

    वफा निभाउंगा मैं वफा से ताउम्र बनकर नज़ीर दिलबर,
    ना कर शिकायत यूँ बेरुखी से अभी मैं सादिक नया नया हूँ!!

    कि ये भी होगा शिकार हाथों में आते आते छिटक पड़ेगी,
    ना समझो इसे शिकस्त मेरी अभी मैं जालिक नया नया हूँ!!
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 26w

    ❣️

    रब्बा उम्र वधा दे घर परिवार दी..
    मैं वी हंस खेड के लंघोनी जवानी दिन चार दी..
    मांँ मेरी नूंह रानी दे सुपने सजाई बैठी है..
    छोटा वीर वी कहंदा ओनी लाडली भाभी आ..
    फोटो घरे दिखाई होई आ.. घर दयां नू कुड़ी पसंद आ..
    नैंण नक्ष तां सोहणे ते कणकां वरगा रंग आ...
    गल्लां तां सोहणियां हि करदी आ.. बस गुस्सा माड़ा नक ते ओ रखे..
    घर दे ओदे वि मन जाणे आ बस रब सुख रखे..।।
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 26w

    ❣️

    प्रेम तारीखों का मोहताज न हो, अपना ही तीज त्यौहार हो!
    मैं बनूँ चाहे तेरा वेलेंटाइन सा या तुम मेरी तीज बन जाओ!

    शब्द शब्द प्रेमपत्र का हो, हर शब्द का अर्थ तेरे नाम का हो!
    मैं बनूँ छंदमय प्रियतम, तुम कविता सी प्रेयसी बन जाओ!

    दूर देश का रहवास हो, विरह से मिलन की बड़ी आस हो!
    मैं बनूँ सिर्फ तेरा साजन, तुम मेरी सावन सी सजनी बन जाओ!

    करवाचौथ का उपवास हो, मेहंदी से लिखा मेरा नाम हो!
    मैं बनूँ सिंदूर पति का, तुम अमर सुहागिन पत्नि बन जाओ!

    दिल में मचलते अरमान हो, कहीं छुप छुप मुलाकात हो!
    मैं बनूँ छैल छबीला प्रेमी, तुम छबीली प्रेमिका बन जाओ!

    गली का नुक्कड़ ठिकाना हो, इंतजार में सुबह से शाम हो!
    मैं बनूँ मिजाज आशिक का, तुम शर्मीली माशुका बन जाओ!

    तेरी आवाज मुरली की तान हो, होठों से लगने की प्यास हो!
    "गौरव" बने कृष्ण सखा सा, तुम राधा सी सखी बन जाओ!
    ©gannudairy_

  • gannudairy_ 26w

    इश्क़

    है इश्क़ मेरा "मीरा" के प्यार सा,
    यकीन तेरे ना आने का,
    फिर भी इंतजार सा!!
    ©gannudairy_

  • chabala_vii 137w

    Laugh
    and laugh some more
    For laughter is a medicine
    Prescribed by heavens doctors

    Love
    and love some more
    For love is an anodyne
    That binds us together

    ©chabala_vii

  • nighttimestranger 223w

    #chaos
    Anodyne: something that calms or soothes pain
    #writersnetwork #readwriteunite #Anodyne #relationship

    Read More

    Anodyne chaos

    he is like a anodyne in her life,when she is facing chaos in her relationship..

    ©anmol