#basant

27 posts
  • ehsaas007 18w

    Basant..

    Nav pallavit Nav Prasfutit hain konpalein..
    Nav agman hai basant ka ye nav varsha ka..
    Sarson ke khait hain lehlaha uthe..
    Gunguni hai dhoop har taraf surya ka prakash hai..
    Hai chamak phoolon main bhi..damak raha aakash hai..
    Hai panchiiyon main bhi chehak..oonchi oonchi ye udaan hai..
    Nav Varsha ka hai aagman..Basant udayimaan hai..
    ©ehsaas007

  • sramverma 21w

    Date 02/2/2022 Time 12:14 PM #SRV #basant

    चारों ओर चहचहाहट
    हो रही है
    ख़ुश्क पत्ते अब सब्ज़
    हो रहे है
    और
    सर्द मौसम जाने वाला है
    अब सब यही
    पैग़ाम सुना रहे हैं
    साथ ही इक अजीब
    सी यक़ीनी
    मुस्कराहट बन कर
    छा रही है
    आसमान का नीला-पन और
    उड़ते परिंदे भी
    शाम की गहरी गूंज पर
    चहचहा रही हैं
    बसंत आने वाला है
    जाती हुई सर्द मौसम
    चारों ओर ये गर्म
    खबर फैला रही हैं !
    शब्दांकन © एस आर वर्मा

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner

    Read More

    चारों ओर चहचहाहट
    हो रही है
    ख़ुश्क पत्ते अब सब्ज़
    हो रहे है
    और
    सर्द मौसम जाने वाला है
    अब सब यही
    पैग़ाम सुना रहे हैं
    साथ ही इक अजीब
    सी यक़ीनी
    मुस्कराहट बन कर
    छा रही है
    आसमान का नीला-पन और
    उड़ते परिंदे भी
    शाम की गहरी गूंज पर
    चहचहा रही हैं
    बसंत आने वाला है
    जाती हुई सर्द मौसम
    चारों ओर ये गर्म
    खबर फैला रही हैं !
    ©sramverma

  • ammy21 31w

    Patjhad ki tanhayiyo me ye dil basant ka sukoon chahta hai
    Hn mera dil tumhe behad, be-intehaa aur beshumaar pyar krna chahta hai
    ©ammy21

  • ammy21 63w

    Tere chehre par ...

    Tere chehre par hi toh humari duniya ka naksa hai
    Jaha muskaan hai teri vahi humara basera hai
    Jaha aansho hai tere vahi dukho ka dariya hai
    Jaha maasum nazare hai teri vahi basant ka sehra hai
    Jaha tu kuch pyar se gungunaye vahi varsavan gehra hai
    Jaha tujhe bura lag jaaye vahi toofano ka khatra hai
    Jab teri nazare ho humari taraf tabhi sama sunehra hai
    Tere chehre par hi toh humari duniya ka naksa hai
    ©ammy21

  • sramverma 66w

    Date 21/03/2021 Time 8:55 PM #SRV #basant

    सुनो आ रहा है बसंत का मौसम ,
    इसे ही कहते है गुलों का मौसम ;

    कौन जाने ये क्या गुल खिलायेगा ;
    गुलों के बदन पर है काँटों का मौसम !

    शब्दांकन © एस आर वर्मा

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner..

    Read More

    ,

  • qisaagoshayar 69w

    बसंत के उजाले

    दिल की खिड़की से
    बहते बहुत उजाले हैं
    दिन दिन की बात है
    आज लटकते यहाँ ताले हैं।

    रात होतीं छोटी
    भोर में बंद पंखे
    सुबह में ठंड,
    पीले दिन
    बसंत ऋतु में
    बस कुछ दिन।
    ख़ामोशी की सर्द
    कुछ पिघल जायेंगी ...
    मेरे आंगन
    अब चिड़िया
    फिर से
    चहचहायेंगी ...

  • quotescribe 71w

    वसंत

  • khwahishaan 71w

    धरा पे छाई है हरियाली
    खिल गई हर इक डाली डाली
    नव पल्लव नव कोपल फुटती
    मानो कुदरत भी है हँस दी
    छाई हरियाली उपवन मे
    और छाई मस्ती भी पवन मे
    उडते पक्षी नील गगन मे
    नई उमन्ग छाई हर मन मे
    लाल गुलाबी पीले फूल खिले
    शीतल नदिया के कूल हँस दी है
    नन्ही सी कलियाँ भर गई है
    बच्चो से गलियाँ देखो
    नभ मे उड़ते पतंग
    भरते नील गगन मे
    रंग देखो यह बसन्त मस्तानी
    आ गई है ऋतुओ की रानी
    ©अज्ञात


    #2021 #basantpanchami #basant #saraswatipuja
    #mauniamawasya #amawas #love #prayer #lord #shiv #mirakee #mirakeeindia #mirakeeworld #mirakians #instagram #instagramwriters #tweeter #khwahishaanfoundation

    Read More

    ..

  • ammy21 71w

    Vasant

    Meri patjhad si jindagi me
    Kuch vasant mausam sa
    nazar aane lga hai
    Grahan lga hai chand me
    Par chand me
    Roshan✨ sa kuch
    nazar aane lga hai
    Kya vo sach me grahan hai
    Kya jo kuch tha roshan✨ sa
    vo veham hai
    Bas yahi baat
    Dil❤ dimaag ko
    Dimaag dil❤ ko
    Samjhane lga hai
    Ki andheri padi zindagi me
    Roshan✨ sa kuch nazar aane lga hai
    ©ammy21

  • katara_rakesh 113w

    एहसास

    दो
    खूबसूरत रूह
    जब इक दूसरे में
    घुलती मिलती है
    तो पैदा होते है
    कभी ना मरने वाले
    खूबसूरत एहसास,
    जो पतझड़ में भी
    ठहरे रहते है और
    बसंत की बहार में भी
    महकते रहते है ।।

    ©katara_rakesh

  • vishal_agrawal 125w

    बसंत आयी है

    चिड़िया चहकीं, कलियाँ महकीं
    फूलों ने ली अंगड़ाई है,,
    मधुर-मधुर उमंगों के संग
    देखो प्यारी बसंत आयी है,,,

    नीले पीले फूल खिले हैं
    जन-जन में खुशियाली छायी है,,
    खेतों में हरियाली लेकर
    देखो प्यारी बसंत आयी है,,,

    सांबरी सुहावनी सुन्दर छठा ने
    फिर से एक आश जगाई है,,
    आशा की नयी किरणे लेकर
    देखो प्यारी बसंत आयी है,,,
    ©vishal_agrawal

  • peddatimma 126w

    Basant

    Sarson khile more angane me
    Khile champak juhi har dalna
    Ayo basant dekh gaye sant
    Sun bhuli jaye kay kehna

    Koel gaaye kooho kooho
    Aur piyu piyu kart hi papeeha
    Rakhun kaise jiya re mora ab
    Na aye raas aur sabeeha.

    Dur des se saiyyan more
    Bheje hain sandesha
    Is basant me khilegi kaliya
    Aur honge hum sath hamesha.
    ©peddatimma

  • jasjyot 126w

    Patangon ko kat-te dekha hai maine,
    Ye dil ki door to ajkl hi kamzor hui hai.
    ©jasjyot

  • writer_babu 126w

    गुल गुलाब होने को हैं तैयार बसंत में,
    महकेगा एक बार फ़िर गुलज़ार बसंत में ।
    कई क्यारियाँ तबाह कर गई यारियाँ ऐब की,
    पर होश में है बाग़बान अब की बार बसंत में ।

    ©logliner

  • juhigrover 153w

    बसन्त के बाद जो पतझड़ आई,उसकी क्या कहिए,
    कि जिसने खुद को ही खुद पर हँसना सिखा दिया,
    कभी हँसते थे दूसरों पर,
    आज खुद को ही अपना शिकार बना लिया।
    ©juhigrover

  • juhigrover 155w

    निशा
    जिससे सहम जाते हैं हम अक़्सर,
    आज अग्रसर हो कर उसने हमें,
    रोशनी की चमक दिखाई है।

    सूरज
    जो ढलता था कभी,
    आज उगता नज़र आने लगा है।
    किरणें शायद फिर से मिलने आईं हैं।

    पतझड़
    जो ज़िन्दगी का आईना था कभी,
    आज बसन्त के आगमन का संदेश देता है,
    शायद दुख को सुख से मिलाने लाया है।

    सुबह
    जो नई ऊर्जा का संकेत देती है,
    आँखों के सामने अंधेरों को रोशन कर देती है,
    जैसे हर पल आज हमीं से मिलने आया है।

    जीवन
    जो धीरे धीरे मृत्यु की ओर अग्रसर है,
    अगर उद्देश्य हो कोई,रास्ताें को रोशन कर देता है,
    जैसे सब कुछ भूल कर जीना सिखाने आया है।
    ©juhigrover

  • ruchi_talks 175w

    "फ़िरोज़ी बसंत"

    और फिर कुछ वक्त के बाद उदासी रंग लेती है खुदको आसमानी रंग में...मौसम बदलते सारे दुःख खत्म।

    ©ruchi_talks

  • dinesh_shukla 176w

    बसंत

    प्रकृति की सौन्दर्य देख लग रहा,
    बसंत आ रहा है।
    तितली और भौरों में भी उमंग सा
    अब छा रहा है।
    मौसम की ठंडी को सूरज की किरणें
    निगल रही है।
    पेड़ो को कोंपलों की नई काया सी
    मिल रही है
    धरती ने भी हरियाली का कम्बल ओढ़
    लिया है।
    हवाओं ने भी अपना रुख अब मोड़
    लिया है।।
    फूलों से प्रकृति की सजावट चारों
    ओर दिख रही है,
    बसंत के आगमन की ध्वनि पक्षियों की
    चहचहाहट से सुनाई दे रही है
    खेत-खलिहानों में भी हरियाली
    छा रही है।
    किसानों के मन में फसलों के आने की
    खुशियाँ ला रही हैं।
    रात में खुले आकाश में तारों का टिमटिमाना ,
    मन को अब भा रहा है।
    प्रकति का सौन्दर्य देख लग रहा,
    बसंत आ रहा है।
    ©pandit_dinesh

  • aryamanchetas 176w

    #hindi #vasant #ghanaakshari #chhand #poetry #poem #mothertongue #spring #saraswati #vasantpanchami #basant #हिंदी #हिन्दी #मातृभाषा #छन्द #घनाक्षरी #कवित्त #कविता #वसन्त #बसंत #बसन्त #वसंत #सरस्वती #मधुमास #मधूत्सव #मधुऋतु

    Read More

    पूरब के सूरज ने अरज सुनी, रे! आज
    भोर वारी रज के सिंगार से सजाओ रे!
    आज मधुमास के सुवासन्ह को वास,
    दस दिसिन्ह की आस - "अवकास को भराओ रे!"
    धरती सुहागन, रे! आज बड़भागन, रे!
    फागन के राग! चौक-आँगन पुराओ, रे!
    आओ ऋतुराज! रतिराज! रसराज! आज
    आओ रंगराज! गाज-बाज संग, आओ, रे!
    _____________________________
    ०७:४२ पूर्वाह्न, रविवार, १० फ़रवरी २०१९
    भुवनेश्वर, ओडिशा

    © चेतस

    .

  • soulmantra 176w

    Happy Basant panchami

    आया बसंत
    मां सरस्वती को नमन
    दें हमें खुशियां अपार
    भर दें ज्ञान का भंडार।

    बसंत पंचमी की हर्दिक शुभकानाएं।
    ©soulmantra