#hindimirakee

163 posts
  • medha_singh 25w

    O sajna..!

    When Akhil Sachdeva said

    "Kyun na tujhko chah kar bhi main pa sakun
    Kyun hai ye fasle,kyun ashq behne lage
    Kyun na sari dooriyan mita sakun...????"

    It hurts

  • smriti_mukht_iiha 46w

    थाह कितनी, कौन जाने
    गति कितनी भला कैसे पहचाने!!!
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    © Smriti Tiwari
    ••✍✍✍
    FB/IG❤�� : #smriti_mukht_iiha
    छायाचित्र आभार ���� : अंतरजाल(बोले तो internet)
    ➖➖➖➖➖➖➖
    #smit�� #hindimirakee #hindikavita #hks #hindilekhan #hind #hindiwriters

    Read More

    थाह!

    'बाहर से हम बोध सागर बन पड़े हैं,'
    स्थिर पहाड़ से अड़े हैं
    शांत तन कर खड़े हैं!

    किंतु हम फेंक देते हैं...
    अंदर कौंधता हर गुबार
    रोष, आक्रोश, पीड़ा
    दूसरे की ओर....
    कभी चीख कर,
    कभी खीझ कर,
    तेजी से बस
    हर कुछ फेंक देते हैं....

    'हम अंदर से बहुत छिछले हैं!'
    ©smriti_mukht_iiha

  • smriti_mukht_iiha 50w

    सारी राहें मिलन की,
    अब तेरी ओर मोड़ूँ।
    मैं जग के पैमाने पर,
    कहो प्रीत कैसे तोलूँ!

    @anougraphy
    ©स्मृति तिवारी
    ••✍✍✍
    FB/IG❤�� : #smriti_mukht_iiha
    ➖➖➖➖➖➖➖
    #smit�� #hindimirakee #hindikavita #hks #hindilekhan #hind #hindiwriters

    Read More

    बोलो! कैसे?

    साची-साची बतियाँ, कैसे तोसे बोलूँ।
    बोल मोरे सजना, मैं प्रीत कैसे तोलूं।

    मन भरमाये मोरा दुनिया ये सारी,
    इसमें ही उलझी है जीवन गाड़ी।
    गाड़ी के पहिये पर भरम सारे छोड़ूँ।
    बोल मोरे सजना
    प्रीत कैसे तोलूं।

    यादों की गुल्लक धरी है जतन से,
    सिक्के खनकते हैं कोर नयन पे।
    नयनों के पोरों से स्वप्न सारे जोड़ूँ।
    बोल मोरे सजना
    प्रीत कैसे तोलूं।

    ढ़लता सा बचपन चढ़ता सा यौवन,
    यौवन में दमके सिंगार का जोबन।
    जोबन छिपाने को चूनर मैं ओढूँ।
    बोल मोरे सजना
    प्रीत कैसे तोलूं।

    तुमसे मन का बंधन जुड़ गया जबसे,
    रीत की रस्सियां ढ़ीली पड़ी तबसे।
    जग बिसरा के मैं तेरी ओर दौडूं।
    बोल मोरे सजना
    प्रीत कैसे तोलूं।

    साची-साची बतियाँ, कैसे तोसे बोलूँ।
    बोल मोरे सजना, मैं प्रीत कैसे तोलूं।
    ©smriti_mukht_iiha

  • smriti_mukht_iiha 51w

    मुझे भागीरथी सा थाम केशों में,
    शिवांश हो जाना तुम!
    ©स्मृति तिवारी
    ••✍✍✍
    FB/IG❤�� : #smriti_mukht_iiha
    ➖➖➖➖➖➖➖
    #smit�� #hindimirakee #hindikavita #hks #hindilekhan #hind #hindiwriters

    Read More

    यूँ आना तुम!

    जब टूटे भय का बाँध कहीं,
    सरयू सा बहे संत्रास कहीं।
    द्रुतवेग से पिघले हर पीड़ा,
    सुख बने अंतिम ग्रास कहीं।
    तब....
    आह की ओप गिरा करके ,
    क्रंदन के मेघ विदा करके,
    निर्झर हो झरते जाना तुम,
    यूँ मुझसे मिलने आना तुम!

    जब चक्रव्यूह अभेद्य लगे,
    अस्तित्व गिराने सेंध लगे।
    नियम कसौटी पर कसती,
    मर्यादा छल का केंद्र लगे।
    तब.....
    पैने शब्दबाण चला करके,
    लाज की ढ़ाल गिरा करके,
    मंतव्य ध्वजा लहराना तुम,
    यूँ मुझसे मिलने आना तुम!
    ©smriti_mukht_iiha

  • smriti_mukht_iiha 51w

    पतित द्वेष उत्सर्ग कर,
    क्षमा हृदय से लगा लो!
    ©स्मृति तिवारी
    ••✍✍✍
    FB/IG❤�� : #smriti_mukht_iiha
    ➖➖➖➖➖➖➖
    #smit�� #hindimirakee #hindikavita #hks #hindilekhan #hind #hindiwriters

    Read More

    ग्रहण!

    भित्तिचित्रों पर सजा दो,
    पोथियों में ये लिखा दो,
    जो धधक जाये स्वयंभू,
    विद्रोह को ऐसी हवा दो!

    मन अमासी हो रहा है,
    आज सूर्य भी छिपा दो,
    सागर हुये अब कूप सूखे,
    भय भरे कंकड़ गिरा दो!

    टूटे तारों के रुदन पर,
    एक नई सरगम बजा दो,
    शृगाल ताके मौन साधे,
    मसान में आशा जला दो!

    भावी कल के स्वप्न सारे,
    नयन कोरों से बहा दो,
    स्मृति रहे नहीं शेष कोई,
    काया को अंतिम विदा दो!
    ©smriti_mukht_iiha

  • abhinavsahare 51w



    उमर से लम्बी इन सड़कों पे चल कर

    पैरों मे ना कामयाबी के छाले पड़ रहे है

    हमारा सफर देख कर सब हस तो रहे है

    पर ये हसने वाले आज भी आलस के मंजन से दांत घस रहे है
    ©abhinavsahare

  • smriti_mukht_iiha 52w

    ये भी एक परिचय है साथी !
    ©स्मृति तिवारी
    ••✍✍✍
    FB/IG❤�� : #smriti_mukht_iiha
    ➖➖➖➖➖➖➖
    #smit�� #hindipoetry #hindimirakee #hindikavita #hks #hindilekhan #hind #hindiwriters

    Read More

    दीप-बाती!

    एकाकी जीवन पाती,
    रैना भी यादें बिसराती।
    यौवन की चंचलता जो,
    रही हृदय को भरमाती।
    निश्छल अनुनय स्पर्श से,
    काया तनिक है सकुचाती।
    मनुहार मिलन का ऐसा हो,
    तुम दीप बनो और मैं बाती!
    ©smriti_mukht_iiha

  • jindagi28 56w

    गुफ़्तगू हमारे दरमियाँ आज भी वही है
    पर कुछ एहसासों की कमी सी है
    Mannkibaatein
    #mirakeewriters
    #mannkibaatein
    #hindiwriters
    #quotes
    #shayari
    #hindimirakee
    #writersofmirakee

    Read More

    दरमियाँ

    गुफ़्तगू हमारे दरमियाँ आज भी वही है
    पर कुछ एहसासों की कमी सी है

    ©Mannkibaatein

  • inoxorable 69w

    बेरुख़ी

    लफ्ज़ कहा तेरे आजकल बोलते हैं कुछ
    यूँ गुमसुम सी है बेरुख़ी तेरी मेरे सामने
    ©inoxorable

  • rahul_varsatiy_parmar 71w

    Single Nahi Sakht Launda Hu

    it's
    RAHUL VARSATIY PARMAR
    (AN IAS ASPIRANT)
    I am not a flutter me is a #शायर
    Single nahi sakht launda hu

    ©rahul_varsatiy_parmar

  • sweta_singh99 75w

    कल की कौन जाने

    *कल की कौन जाने
    *आज़ जीने के बहाने है
    *पल भर के प्राण पखेरू
    *कल चिड़ा को उड़ जाने है
    *सोने की पिंजरा में
    *शाम सवेरे के अफसाने है
    *राहत कहां मिलती
    *आज यहां ,कल कहीं
    *और के ठिकाने हैं
    *जीवन की सारी कमाई
    *यही धरती पर रह जाने है
    *रोते हुए आते हैं लोग
    *पर हंसा कर सबको
    *जाने है जीवन का
    *यही मुल्य है आप हम
    *हैं अतुल्य धन
    *धनवान वहीं जो
    *परस्पर प्रेम के धागों से
    *बांध दिया है
    *आपने और पराए
    *को ना कोई
    *भेद भाव हैं ना कोई द्वेष है
    *इंसान में ही तो प्रभु का भेष है
    *जीवन का यह सूत्र
    *करो बराबर प्रेम सबसे
    *हो चाहे वो जीव कैसा
    *बसते हैं ईश्वर सबमें चाहें
    *हो वो इन्सान कैसा
    *कल की कौन जाने
    *आज जीने के बहाने है।
    ©sweta_singh99

  • endlesslife_rhythm 76w

    दुश्मनों की तो आदत होती है पीठ के पीछे वार करने कि
    आगे आके तो हर कोई गले लगता है।।।
    ©endlesslife_rhythm

  • sushant94 80w



    Usoolon pe jahaan aanch aaye takrana zaroori hai Jo zinda ho to phir zinda nazar aana zaroori hai

    Nayi umron ki khud mukhtaariyon ko kaun samjhaye Kahan se bach ke chalna hai kahan jaana zaroori hai

    Thake haare parinde jab basere ke liye laute Saliqaamand shaakhon ka lachak jaana zaroori hai

    Bahut bebaak aankhon mein ta'alluq tikk nahi paata Muhabbat mein kashish rakhne ko sharmaana zaroori hai

    Saliqa hi nahi shaayad use mahsuus karne ka Jo kahta hai khuda hai to nazar aana zaroori hai

    Mere honthon pe apni pyaas rakh do aur phir socho ki is ke baad bhi duniya mein kuch paana zaroori hai

  • virtuous 81w

    कुछ दोस्त चाहिए

    कुछ दोस्त चाहिए
    ऐसे हो
    जो काम से काम तो रखते को
    लेकिन एक दूसरे का वो प्यार वाला दुख भी बांट सके।

    कुछ दोस्त चाहिए
    जो किसी और से इश्क करते हो, लेकिन बात करने को हम ही याद आएं।

    कुछ बातें करनी है,
    अपने इश्क़ के वाक़िए सांझा करने है।
    क्या पता कुछ नया सीखने को मिल जाए।

    कुछ ऐसे दोस्त, जिससे दिल में उठती टीस को बया कर सकू।
    जिन्होंने खुद कभी प्यार किया हो, और जानता हो के मै किस दौर से गुजर रहा हु।

    कुछ मशवरा लेना है।
    क्या मेरा जीवन इश्क़ में आधा सा ही रह जाएगा? क्या यही वो बाहर है, जिसकी हम स्कूल में बातें करते थे।

    कैसे कसमंजस में है ज़िन्दगी, अब जो चाहा था, वो मिला है तो और पाने की चाह क्यों नहीं जाति।

    कोई दोस्त मुझे बताए,
    उसने क्या किया होगा, जब उसको किसी से इश्क़ क्या होगा?

    कैसी कसमें खाए थी, कैसे वादे किए थे ।

    तुमने वक्त के साथ क्या पाया और क्या खोया?







    कुछ दोस्त चाहिए
    ©virtuous

  • sweta_singh99 87w

    जाड़े की धूप

    सुबह की धूप
    कोहरे की धुंध
    ठंडी ठंडी नाक
    धुंए का कस
    कट कटाते दांत
    थरथर कांपते हाथ
    चाय की प्याली
    टमाटर की सूप
    फटे हुए गाल
    होंठ लाल लाल
    सरसों का खेत
    मक्के की रोटी
    धनिए की चटनी
    गरमा गरम पकोड़े
    साथ में समोसे
    मूंगफली के दाने
    गरम बिछावन
    सर्द हवाएं
    लम्बी रात
    दोपहर की धूप
    हाथों में दस्ताने
    सर पे टोपी
    गरम स्वेटर
    शौल में लपेटें
    हम और तुम

    सर्दी की शुभकामनाएं
    ©sweta_singh99

  • wandering_beast 90w

    Swapnon Ke Baarishom Mein Sirph Aanhin Bandhkar Thamasha Dekh Raha Hai ,
    Swapnam Ke Sikklhana tho Life Mein Kamyaab Ho sahkthi Hei, Teri Haathom Kei Teri Nazaron Mei Theri Mansha Dikha Hei
    ©kelvin_mathew98

  • dnswords 93w

    ✍️...मेहनत !

    20 से 30 साल की उमर मे आपकी पहचान,सम्बन्ध,तालुक,दोस्ती सिर्फ

    मेहनत से होनी चाहीए

    ताकी बाद मे आनेवाले सभी सालो

    मे सफलता आपको पहचानेंगी !

    ©dnswords

  • dnswords 100w

    धैर्य

    Google को 8 साल लगे थे बनने मे

    और आज हम उस google को 1मिनिटभी नही छोड सकते....!

    ©dnswords

  • sweta_singh99 103w



    आज सांम की बेला में
    खुले आसमां की लाली..........हो
    सावन की रिमझिम फुहार ......हो
    गरम चाय की चुस्की .............हो
    और सुनहरे मक्के की बाली ....हो
    साथ में अपनी घर वाली.........हो

    ©sweta_singh99

  • suyash_j 103w

    #sjdiary #ज़िन्दगी #मंजिल #mirakee #hindimirakee #mirakee_hindi

    Read More

    किस तरह हासिल मंजिल होगी,
    बस इसी सवाल में शायद ज़िन्दगी बसर होगी।
    ©suyash_j