#hostellife

154 posts
  • laconic_words 46w

    When you have an awesome and funny company,
    Even the tasteless food in corona feels good.
    ©laconic_words

  • stellaire_mystique 48w

    Yes I once Lived In A Paradise
    Where entering through gate was just all about your changing fate...
    Where settling down felt like everything is about to drown...
    Where meeting people was just my bucket list crown...
    Where eating food were just not the part of our appetite goals...
    Where changing moments were just the part of driving through roles...
    Where sleep cycle was never on its chains...
    Where 3 AM felt like 3 PM..&..3 PM like 3 AM...
    Where time was never the part of our moody desires...
    Where changing clothes was never the only attire...
    Where peaks of the mountains never let me felt like all alone...
    Where frienemis were all about those bombing drones...
    Where walking through crowd felt like the telepathy of eons...
    Where wishing about something was like package of crayons...
    Where being judged by your round witnesses were always about pros and cons...
    Where part of me was never okay around those morons...
    Where being understood by someone was as simple as a structure of photons...
    Where waking up every day was as similar as felt like roses with throns...
    Where surviving through days felt like a tons of scorn...
    Where being nice always comes with a price of dice...
    Yes I once lived in a paradise...
    Where I still wished to be belong just Upright...!!!

    #life#hostellife#frienemis#alone#scorn#belong#paradise#mountains#collegelife#time#attire#roles#mundane#dehumaniser#living#feelings#emotions

    Read More

    *Yes!! | Ønce Lived In A ₱aradise...*
    ©stellaire_mystique
    'Read the caption'

  • _a_n_u 62w

    Life

    Wanted to be among the stars
    But reached only the sky
    Wanted to be happy
    But ended up in sorrows
    Wanted to be loved
    But was left unloved
    Wanted to stay at home
    But has ended up in HOSTEL
    ©_a_n_u

  • pbswritesofficial 64w

    Wo Jo bit gaya wo bhi ek haseen pal tha
    Hum SB saath the aur apna wo ek alag hi andaaz tha.

    Jaha pr na jane kitni mastiya ki hai pr ha aaj wo SB yaade ban gayi
    Samay ka bhi kuch pata na Chala,
    Ek pal me wo pal aise bit gaya ki jaise dudh me Pani.

    Ha ab saal ho gaya ki mulaquat nahi hoti
    Aur kuch se to Sahar me rehke bhi mulaquat nahi hoti.
    Ha abhi B's un kisson ko yaad KR aansu ko rok leti hu.
    Aaj bhi us pal ko sochkr jee leti hu.

    Karta hai Mann ki chaldu wahi B's tum 4 yaaro ki toli k sang..
    Pr afsoos aisa ab mumkin kaha...
    Haa pr tum sbke yaado k sahare jee lungi Mai yaha.


    @writersnetwork @word_of_sorrow @poetrydelivery @poemsnb

    #pbs_writes #writerscommunity #writersnetwork #wopal #yaade #memories #hostel #hostellife #lifeinhostel #friends #friends4ever #madeforeachother #travel #akola #akoladiaries #pune #nagpur #akola #pusad #train #punjab #mansa #viral #trending #explore #covid-19 #vaccine #exploremore #like #comment #share #save

    If you like my content ..follow me on Instagram & mirakee as @pbswritesofficial

    Read More

    Wo pal

    ©pbswritesofficial

  • seaweed 74w

    3 AM THOUGHTS

    3 am during a sleepless night, following a terrible day. I stood alone on the terrace of my hostel, watching the scarce population on the road. It was that special time of the day which eluded both night owls and early birds. In a university that never slept, it was the sacred hour. I was on what could've been my fourteenth cigarette that night. The cold was penetrating my skin, despite of the jacket, scarf and cigarette. This had become a routine. I lost count of the nights I slept (or didn't sleep) on the terrace.

    I drew my scarf tighter and wondered what would happen if I jumped. The palm trees inside the hostel compound looked ethereal in the yellow streetlights. They reminded me of those pictures in toy cameras me and my friends used to have as kids. They used to be sold at fairs and festivals. They showed pictures when you looked through them. I used to be so fascinated by them.

    I thought of how much life has changed. Then I remembered how much have remained the same... Me, I was the same, clueless kid who picked up some habits that made me look like an adult. A soon to be homeless kid. After a few more days, this hostel wouldn't be my home anymore. It was as if I was being swallowed by a snake in a game of snake and ladder. I was going back to level one. Back to the same uncertainty I had before I got admission here... No job, no plan, with a very broken heart and a degree. No matter how hard I tried, I couldn't rejoice in that accomplishment.

    Down the road, I spied a few small groups of friends and a few couples, trying to make the most of their last days together. The sky was slowly turning pink. Runners were beginning to show up. I took off my scarf and jacket and felt the air on my skin.. it was warmer now. I was certain that I'm going to fall asleep in class. But that's alright. I wouldn't have missed this for anything. My nights were numbered in this place I came to love so much.

    SEAWEED

    #picturec #writersbay #mirakee #writersnetwork #3am #3amthoughts #night #hostel #hostellife #climacteric #homeless @anirockz7 @writersbay @unapologeticssoul

    @writersbay thanks for this picture, it took me back in time. ❤

    Read More

    3 AM THOUGHTS

    © SEAWEED

  • saivijay 94w

    This day

    It was this day 4 years ago
    We, cocoons from various parts
    Came flying into a common shelter
    Mourning inside in tears...
    Today,
    We moulded into beautiful butterflies
    Unable to fly out of the shelter
    Bursting into happy tears...
    We can never forget
    This first day of our meet...
    PSNA Hostel dairies...

  • saivijay 96w

    First day

    I was lying on my cot after the inauguration
    Accompanied by a stranger on the opposite
    Only bed filled the third with no sign of human
    Knocking door; opening lock
    There entered a stylish sobbing eyes
    Filling the fourth
    That made my life upside down...
    Even now all beds have no creature
    But lots of memories....
    ©saivijay

  • ppghose 98w

    The Hostel butterflies

    Hostel life ,New people,
    Everyone is so different.
    Yet life had brought them together,
    For years intermittent.

    For some people their parents called,
    Some people only received money.
    For some missed their siblings,
    For some phoned their honey.

    Some studied,Some slept with their phones,
    Some chatted all day long,
    Yet all of us were confused on,
    Where we belong.

    We had troubled relationships.
    We didn't know who we were,
    Yet when tears welled up,
    All us of were there.

    We were fifteen of us,
    Three of us were close.
    Yet when fever strikes
    All rallied to give the dose.

    I was finally happy and free,
    I slept on a hard bed and saw no TV,
    Since all of us will huddle together,
    And share stories for free.

    Thank God for the memories,
    Those days of budding hope.
    We still talk about them,
    When life is hard to cope.
    ©ppghose

  • warm_hugs_from_olaf 101w

    बहोत याद आएंगे hostel के वो दिन जहां हम इतने साल साथ बिताए भी आज कुछ ही दिनों के मेहमान बन गए हैं, जहां से हम अपने यादें बटोरने लगे हैं
    किसी से न मिले थे कभी न कोई हमें जानता था मगर हर कोई जैसे अपना बना गए हैं

    पहले ही दिन से room को अपना बना लेना, अपने room को अतरंगी खुशीयों से भर देना, देर रात jhal muri के साथ दोस्तों से पुरे दुनिया की problems solve करना
    अपने crush को stalk करना, चुपके से kettle में maggie बनाना, फिर winter के सन्नाटों भरी रातों में अपने छोटे से theatre screen पर साथ में horror movies देखना
    खिड़की से enjoy करते हुए भोर की वो ठंडी हवाएं, पंछीयो के चहकना ओर एक दूसरे को देख एक लम्बी सी मुस्कराहट भरना
    सुबह सुबह dinning table pe वो नखरें , दोपहर के भागा दौड़ि में नापसंद सा lunch करना, शाम की फीकी चाय के साथ lawn में घुमना, और जान बुचके late entry कर थोड़ा सा drama करना
    Dinner के वक्त एक दूसरे को पूरे दिन का महाभारत सुनाना, एक दूसरे का हालचाल पूछना, Roommate के नाम पे चुपके से extra frooti लाना, ओर छुट्टी वाले दिन झुठ बोलके घुमने जाना...

    कभी midnight के वो b'day celebrations b'day bombs
    तो कभी best friend से अपने life के झटके share करना
    फिर placement के दिनों में अपने ही दोस्त का interview लेना, रात रात भर अपने study lamp से बातें करना, ओर एक दिन पुरे room के khusi में अपने room के door पर all placed का वो tag लगाना...

    ये वक्त का ही तो अजीब खेल है इन चार सालों में जो न जाने कई सारे यादें बना गए हमारे दिल में, जो न जाने कहीं धुंधले से होने लगे हैं ...

    #prayasss49

    #writersofmirakee #mirakee #writersnetwork #readwriteunite #writersofindia
    #zindagi #hostellife #yaadein

    Read More

    Hostel Life

    ©warm_hugs_from_olaf

    कभी midnight के वो b'day celebrations b'day bombs
    तो कभी best friend से अपने life के झटके share करना
    फिर placement के दिनों में अपने ही दोस्त का interview लेना
    रात रात भर अपने study lamp से बातें करना
    ओर एक दिन पुरे room के khusi में अपने room के door पर
    all placed का वो tag लगाना...

  • abhantika04 101w

    From celebrating birthdays to
    celebrating new years,
    You people have added
    new chapters in my life's diary!

    ©abhantika04

  • tathagatkaushik 103w

    Hotel life ����
    .
    .
    .
    .
    .
    My Hotel life��

    One room,
    Two beds,
    Six years,
    Four friends,
    Hundreds of fights,
    Thousands of laughter and
    Millions of unforgettable
    Memories.�� #hostellife #hostel #room #fight #friends #laughter #unforgettable #memories @mirakee @mirakeeworld

    Read More



    My Hotel life

    One room,
    Two beds,
    Six years,
    Four friends,
    Hundreds of fights,
    Thousands of laughter and
    Millions of unforgettable
    Memories.

    ©tathagatkaushik

  • abhan_prince 104w

    VALLABH VIDYANAGAR

    वैसे तो मैं सुरती हूं लेकिन मेरा प्यार सुरत नहीं,

    विद्यानगर में ही हमारी जान बसती है,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    सरदार पटेल के नाम की यह धरती है,

    साक्षात मा सरस्वती की यह भूमि है,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    चारो तरफ कॉलेज और हॉस्टल ही है

    लेकिन फिर भी धरती मा हरी हरी है,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    नाश्ता हाउस विद्यानगर की सुबह चाय पोहे से होती हैं,

    हम घर आके भी ब्रेडबटर नहीं मम्मी से पोहे ही मांगते हैं,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    रोज घर की याद नहीं आती ऐसा बिल्कुल नहीं है,

    पर विद्यानगर की हर शाम हमें यहां रोके रखती है,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    यह शहर भी आईआईटी वाले कोटा से कम नहीं,

    यहां का हरेक बंदा इंजीनियर के सिवा कोई और नहीं,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    हॉस्टल के कमिने दोस्तो तो सच में कमिने ही है

    लेकिन फिरभी यहां आके अपने से लगते है,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    देर रातको ऐसे ही चाय या सोड़ा पीने निकल लेते है,

    और शास्त्री मैदानमें जाके बस बैठते है,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    आपके लिए मायानगरी मुंबई होगी लेकिन,

    विद्यानगर की माया तो मुंबई से भी अधिक है,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    कुछ साल बाद हम इंजिनियर बनके यहां से चले जाएंगे,

    लेकिन ये साला विद्यानगर हम में से नहीं जाने वाला,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    सोचा है हर महीने यहां आते रहेंगे,

    हर महीने हमारे दूसरे घर आते रहेंगे,

    विद्यानगर हमारे दिल में बसता है।


    ©abhan_prince

  • saivijay 105w

    Ours

    Not a day or two,
    For nearly 1325 days it was ours
    For next 7 to 10 days it is ours
    It is abandoned in between
    It is forbidden hereafter
    The place now our home
    Will be no where said
    OURS...
    The place our joy exists
    Will take its past as existed...
    That's L.I.F.E.
    ©saivijay

  • uttamky 107w

    #hostellife#oldmemories#hostelerfriends
    #prayasss49 @tiwaripriti #uk_lyf

    Tow years story-
    Hostel: कभी घर हुआ करता था अपना...����

    कहने को तो घर नहीं था अपना,पर कभी घर हुआ करता था अपना वैसे तो मैं अपनों से बहुत दूर था, फिर भी ‌यहां हर कोई था अपना

    क्या खूब हुआ करता था यह हुनर भी अपना,एक हाथ में करछुल तो दूसरे हाथ Notes का पन्ना
    खाने में बस एक ही Vege.(सब्जी) बनता था अपना,पर जब बैठुं यारों के संग vege mix हो जाता डिश अपना

    अगर कभी पास में पैसे ना हो,फिर भी निराश ना होता ये मन अपना उस दिन खाने की थाली में सब्जी होती यारों की और रोटी होता अपना
    हमारी पार्टी भी कुछ खास होती थी,अब इसका क्या कहना
    शादी कहीं और की होती,पर यह दावत होता अपना

    फिर हर रोज वह सुबह होती,पर सबका Same Time था उठना नहाने को बाल्टी-मग यारों का ले भागते और Towel-साबुन होता अपना

    जब जी रहे थें ये जिंदगी,सोचते थे कब कटेगा यह दिन अपना और वह दिन भी आया जब आंखों में थे आंसू और मुश्किल था यारों से बिछड़ना
    याद आता है वह दिन जब इस घर में आए कपड़े-बिस्तर बांध कर अपना और एक दिन चले ही जाना है इस घर से,अब यादों के सिवा यहां कुछ नहीं अपना

    जब कभी गुजरता हूं इन राहों से,बस दिल का यही है कहना
    इस घर में कभी दोस्त रहते थे अपने और यह कभी घर हुआ करता था अपना...I miss so much that day❤️❤️

    ©uttamky

    Read More

    ❤️My hostel❤️

    ©uttamky

  • akhileshdobhal 109w

    लगता है...

    लगता है बच्चे राज़ छुपाने लगे हैं,
    खिड़की दरवाज़ों में पर्दे सजाने लगे हैं।

    कल तक जो डरते थे अकेले कमरे में,
    आज एक कमरा अलग चाहने लगे हैं,
    कल तक रोटी के नीचे -
    मनपसंद सब्जी छुपाने वाले,
    घर की सब्जी को देख मुँह बनाने लगे है,
    दूध-रोटी को लड़ने वाले भाई-बहन-
    आज छुपकर बर्गर पीज़ा खाने लगे हैं,
    लगता है बच्चे राज़ छुपाने लगे हैं,
    खिड़की दरवाज़ों में पर्दे सजाने लगे हैं।

    कल तक जो पल्लू पकड़कर माँ का-
    रोटी बनाने की ज़िद करती थी,
    आज बाहर से खाना मंगाने लगी है,
    कल तक कहती थी, पापा-
    मैंने तकिया के नीचे कुछ छुपाया है,
    आज पासवर्ड -पिन बदलकर,
    संदेश निजी बताने लगी हैं,
    लगता है बच्चे राज़ छुपाने लगे है,
    खिड़की दरवाज़ों में पर्दे सजाने लगे हैं।।

    पापा के डर से चेहरा झुकाने वाले,
    आज फेसबुक में छाने लगे हैं,
    माँ को अपना हाल बताने वाले,
    आज खुशी ग़म में-लाइव आने लगे हैं,
    कल तक जो ख्वाइशें-
    फरमाइशें पूरी होती थी,
    मांगने में छोटे न हों जाए कहीं,
    आज इतने बड़े ख़्याल आने लगे हैं,
    लगता है बच्चे राज़ छुपाने लगे है,
    खिड़की दरवाज़ों में पर्दे सजाने लगे हैं।।


    ये समय है-कुछ राज भी हैं,
    कुछ आम कुछ खास भी हैं,
    बच्चे बड़े क्या हुए उनपे वो हक़-
    अब कहाँ जताने लगे हैं,
    कहते हैं- उनकी जिंदगी है, जीए जैसे जिए,
    कान खींचकर सबक सिखाने वाले,
    कान पकड़कर अपनी विवशता दिखाने लगे हैं,
    लगता है बच्चे राज़ छुपाने लगे है,
    खिड़की दरवाज़ों में पर्दे सजाने लगे हैं।।

    मुझे हक़ है- मैं गुस्सा होता हूँ,
    नाराज़ भी- जरूरी है,
    बच्चे अपने हैं- आग को छुए,
    तो बचाना मुझे है,
    चुप रहकर भविष्य को जलाने वाले,
    कई माँ-बाप अब आँख चुराने लगे हैं,
    लगता है बच्चे राज़ छुपाने लगे है,
    खिड़की दरवाज़ों में पर्दे सजाने लगे हैं।।
    ©akhileshdobhal

  • jauzikhan 111w

    Friends No Family

    Us anjan log ke bheed me apna sa mujhe tu laga
    Khatti meethi sari yaadein samet kr mai chala
    Aye waqt mujhe lauta de wo purani kahaniyan
    Waqt ke sath or bhi mazboot ho gayi apni yaariyan
    Tum hi se jo din shuru tum hi se khatam hua
    Mai nhi chahta hun apne beech ab dooriyan
    Bas us rab se yahi dua hai sada kayam rahe apni yaariyan
    Sada kayam rahe apni yaariyan
    ©jauzikhan

  • 4dothiraeth 113w

    Today when I woke up, I woke up with a smile,
    Because today, after days, I woke up because of mom's hymn.
    Was tired of food made by the mess,
    After a long day, my room used to be a mess.

    Today when I woke up, I was in no hurry,
    This chilly morning, I was under my blanket buried.
    Dad was a little angry because I was in bed for too long,
    But it was better here, even when I wasn't listening to my favorite songs.

    I was a little warm when my brother jumped,
    Touched his cold hands and then our heads bumped.
    Still fighting, it didn't feel that annoying now,
    He got shocked that I started laughing instead, he raised his brow.

    As if my brother wasn't enough, my sister came in,
    Watching me laugh, she questioned if she missed something?
    Without even wanting a reply, she jumped too,
    Siblings are annoying, and this is true!
    .
    .
    .
    .
    -Dia.
    #home #writer #writersnetwork #wordporn #writersofig #writersofinstagram #ttt #quoteoftheday #create #poems #poetry #quotes #creativefingers #creator #writting #mirakee #hostel #hostellife #nostalgia #nostalgic #siblings #happiness #happyplace #cold #winter #family #smile #annoying #warm #momanddad #lovedones #writersofmirakee #suchmornings #dia #4dothiraeth

    Read More

    Home.

    ©4dothiraeth

  • shrutisingh 113w

    गोपबंधु होस्टल

    शुरुआत कहाँ से करूँ,पहले अनजाने थे लोग जो
    एक छोटे से कमरे में, अब उनसे पूरा परिवार हो गया है ।।

    मेस की कतारों में लगकर, दीवार की हर एक टाइल गिनना
    खाना बकवास बना है, ये कहते हुए साल चार हो गया है।।

    माँ से ज़्यादा तो रूममेट ने खाना पकाना है सिखाया
    रूम रूम में नॉन-वेज, हर मंगलवार हो गया है।।

    कल्चरल और होस्टल नाईट का वो कोलाहल, वो इंतज़ार
    सजना, खाना, सेल्फियां लेना, होस्टल की हर चीज़ से प्यार हो गया है।।

    संक्रांति हो, होली हो, दीवाली हो, या हो ईद
    दोस्तों के साथ हर त्यौहार मद-मस्ती में चूर हो गया है।।

    गणेश पूजा और सरस्वती पूजा की तो बात ही ना करो
    गोपबंधु सबसे मशहूर हो गया है।।

    रात के बारह बजे जन्मदिन का खूब शोर होता यहाँ
    सुबह दस बजे के बाद उठेंगे, ऐसा दस्तूर हो गया है।।

    अगले दिन परीक्षा हो या ना हो
    रात भर बैठ कर गप्पे मारना तो हमारा फितूर हो गया है।।

    हम GB वाले है, परेड की सबसे बड़ी टोली अपनी होगी
    ये कहते कहते आख़िरी साल हो गया है ।।

    नए थे तो लगता था क्यों हर हफ़्ते बैठक है यार
    अब इसको भी याद करूँगी, ऐसा हाल हो गया है।।

    आए चाहे फनी या तितलियाँ अनेक
    तेरा मेरा याराना इन सबका काल हो गया है ।।

    एक सामाजिक कार्यकर्ता, एक साहित्यकार से शुरू हुआ
    गोपबंधु सिर्फ नाम ही नहीं, हज़ारों की यादों का मलाल हो गया है।।

    A-ग्राउंड सिर्फ़ एक फ्लोर नहीं हमारे लिए
    दिल के करीब हमेशा रहेगा, ये आँखों का नूर हो गया है ।।

    फर्स्ट ईयर के फ्रेशर्स से फोर्थ ईयर के फेयरवेल तक
    ये केवल सफ़र नहीं, ज़िन्दगी का गुरूर हो गया है ।।

    ' यहाँ रहना नहीं ' से ' यहाँ से जाना नहीं ' के बीच
    कारवां ये अब कोहिनूर हो गया है ।।

    ख़ता तो बहुत है, वक़्त भी हमसे मगरूर है पर
    अब अपनी बारी है "घर" से जाने की, ये भी मंज़ूर हो गया है ।।

    ©shrutisingh

  • tusharkumar 115w

    What I remember the most??
    The way I lived in a hostle
    not like a king living in castle
    Always there was hustle and bustle.
    The way we eat together
    And mostly we fought either
    The way we were to care each other
    Like brothers from another mother
    The way we dance
    We were more than advance
    I miss the way we celebrate
    That time when we play cricket
    The way we treat housemaster
    We thought we were faster then them
    The way we play holi and diwali
    The way in which we were not just friends
    And that time we were trends
    The way girls roam together
    It was the best and better
    Ahh!!!! The memories.
    They make me cry
    They all force me to think
    Can I find all this time again??
    ©tusharkumar

  • itsmylifebook 115w

    வாசல் கோலம்
    சேவலின் கூவல்
    சேனலில் சுப்பிரபாதம்
    வாணலியில் வற்றல்
    செய்தித்தாளோடு தந்தை
    கையில் காபியோடு அன்னை !!
    பரபரப்பான வீடு !!
    பிரிந்து ஏங்கும் விடுதியில் நான்!!
    ©itsmylifebook