#kavya

447 posts
  • himaang 1w

    असमंजस...

    कि समझ उतनी ही थी मेरी और मैं ज़िंदगी उतनी ही जीता था..
    होंगे मायने नए दौर के तो हो सही..मेरा कल तो बस उस दायरे में बीता था..

    कॉफ़ी की चुस्कियों के बीच पीढ़ियों के अंतर को नापने वाले..
    कोई समझाए उन्हें..मौलिक़ ज़रूरतों को पूरा करते मेरा हर पल बीता था..

    मेरे बच्चे मुझसे खींज़ जाते हैं आज़..मेरे रूढ़िवादी विचारों को सुनकर..
    हाँ वही..जिनके परवरिश के स्वार्थ में हर अपमान को मैं बेझिझक़ पीता था..

    शायद उम्र बढ़ती जाती है..और समन्वय बैठ नहीं पाता है..
    याद यह नहीं आता..अपने ज़माने में इन जज़्बातों को मैं कैसे सीता था..

    ख़ैर मैं विकास के ख़िलाफ़ नहीं हूँ और नयी सुबह का स्वागत भी करता हूँ..
    बस भूला न जाए..इस दौर के बीज़ को हमने अपने कल में सींचा था..

    पर समझ यह नहीं आता..कि यह सब मैं आज़ क्यूँ लिख़ रहा हूँ..
    क्या पता कल अपने बुजुर्गों को भी मैंने..इसी ऊहा पोह में कभी घसीटा था..

    ©himaang

  • himaang 35w

    इम्तेहान...

    जब तलक है ज़िंदगी.. इसे खुशहाल हो जीते जाना है..
    कर पाओ जितना बर्दाश्त तुम.. गुस्से को अपने पीते जाना है
    आएंगे ऐसे मुक़ाम और डगमगा देंगे तुम्हारे ठोस इरादों को..
    बस याद रहे.. ये इम्तेहान ए ज़िंदगी तुम्हें ताउम्र लिखते जाना है..

    ©himaang

  • himaang 35w

    एहसास...

    हो हताश और निराश क्यूं.. जब सम्मान तुमने नहीं खोया है?
    क्यूं फ़िक्र करते हो बबूल की.. जब आम तुमने बोया है?
    हो गलतियां ग़र लोगों से.. तो एहसास उनको होना चाहिए..
    क्यूं रोते हो फ़िर तुम.. जब प्यार ही है.. जो तुमने पिरोया है?!

    ©himaang

  • himaang 35w

    माँ...

    पौ फटते ही वो आंगन के द्वार पर खड़ी मिलती है..
    माँ मेरी अपने दिन की शुरुआत कुछ इस तरह करती है..
    हो बारिश या हो चिलचिलाती धूप की रोशनी..
    माँ हर मुश्किल को मुस्कुराते बाहों में भरती है..

    ना दुःख इस जीवन में.. ना शिकवा इस ज़िंदगी से..
    कर्म को सिर आंखों पर रख वो अडिग हो आगे बढ़ती है..
    ऐसा नहीं है कि उसे कभी अपने आप पर तरस नहीं आता..
    वो तो बस बारिश में छिपकर अपनी आहें भरती है..

    ©himaang

  • himaang 36w

    कोशिश...

    सोचा है कभी कि.. उलझनों के ठीक उस पार होते हैं समाधानों के समंदर..
    उसी प्रकार जिस तरह काले बादलों के ठीक उस पार होते हैं संभावनाओं के बवंडर..
    ज़रूरत होती है तो बस उस पार देख पाने तक के संयम की..
    पर अफ़सोस.. उम्मीदों के ऊष्णता में भस्म हो कर रह जाते हैं तो बस.. कोशिशों के खंडहर..

    ©himaang

  • himaang 36w

    जिंदगी...

    अक़सर ज़िंदगी के उधेड़ बुन में.. इंसान कहीं यूं खो जाता है..
    यूं ही ख़ूब कमाने वाला भी अक्सर.. भूखे पेट ही सो जाता है..
    तरक्की की ऊंचाइयों पर भी.. उसे सुकून नहीं मिलता..
    हर रात मीठी नींद का तोहफ़ा.. कुछ लोगों को ही नसीब हो पाता है..

    ©himaang

  • dharmraj_ansh 46w

    मां

    मां
    मेरे माथे पर,
    फिर से
    काजल का टीका लगा दो
    कुछ टोटका करके
    सूखी मिर्च जला दो
    क्योंकि
    जिस दिन से
    तुम्हारा आंचल छूटा है
    मुझे नज़र लग गई...
    ©dharmraj_ansh

  • dharmraj_ansh 46w

    क्या कहूं?

    क्या कहूं
    कि ये आशिक़ी क्या है
    और इसमें कितने वफादार है?
    कभी कभी
    इस आशिक़ी का सेहरा देखकर
    समझ नही आता
    कि असल में
    मैं कौन हूं
    और इस वफा में
    कौन, कितना, किसका है...?
    ©dharmraj_ansh

  • yours_fortune 49w

    ______ KAVYA _______

    Kavya name means poetry in motion, a poem, sweet, another name of goddess saraswati. Her lucky number is 2. Kavya a girl who is loyal and can be find somewhere in the nature of with the nature। She is full of love, laughter and life. She is creative, love to meditate and is very particular about her personality which includes both outer and inner appearance. She is kind and are softhearted. They love their own space and love to stay free and independent. No one can bound or cage them, they have their own thought process and they make their own rule. She is beautiful and unique with beautiful soul.

    K :- Kind heart, fierce mind and brave spirit
    A :- Anything is possible almost
    V :- Value your vibes
    Y :- You're the reason people look for happiness
    A :- A way to look beautiful is believe in yourself

    Advice :- Kavya, when I tell you that you're beautiful, I don't just mean your appearance. I mean all of you, who and what are you, or what you are becoming by handling all your problems and issues with a grace. Stat believing in yourself a little more.
    ©yours_fortune

  • himaang 53w

    माँ..

    गहरी यादों के समंदर में भला कौन भींगने आया.. कौन है..
    माथे को सेहराते माँ को बैठे महसूस किया.. बस मौन है..
    वाक़ई.. ममता के इस मूरत के लिए..
    सोंखते तकिए और जागती आंखों के सामने सब.. सब गौण है..

    ©himaang

  • himaang 55w

    गुज़र गई...

    तमन्नाओं की आर में.. ज़िंदगी गुज़र गयी..
    रिश्तों के ऐतबार में.. ख़ुद की ख़ुशियाँ उजड़ गयी..
    अभी ताज़ा ताज़ा दबा ही था दुनियादारी के कर्ज़ तले..
    कि हल्के में सारी उम्र गुज़र गयी..

    ©himaang

  • smartsam 61w

    माझी निषप्रिया

    कोरीव तुझी काया
    प्रकाश च तुझी छाया!
    तू मिठीत माझ्या तर जीवन
    नाहीतर गेलं सगळ वाया!

    चक्ष तुझे काळेभोर
    पापण्या जणू प्रितमोर!
    भुवया किती सुंदर
    प्रफुल्ल हिरवळ लागून जणू सरोवर!

    खांदा गोरा मऊ नाजूक
    भूल येई असा तुझा बांधा!
    सौम्य उभर नाजूक
    कोरीव तुझा खांदा!

    मऊ मऊ गालावर
    खळी जरी नसली.
    स्मितहास्य तुझे पाहून
    प्रिये अप्सरा ही रुसली!

    गोड गुलाबी गाल
    नजरेत तुझ्याच राणी
    इच्छा माझी फसली!
    अलगद लाजून तू
    मान खाली करून हसलीस!

    चाल तुझी संम्मोहित करी
    जणू सळसळणारी नागीण!
    कंबर किती नाजूक
    तासंतास पाहतच मी राहीन!

    स्पर्श तुझा प्रिये
    जणू मनाचे लिखाण!
    नजर तुझी परी अबोल महान.
    सोबत माझ्या जी तू चाले
    वाढतो नभागत माझा सन्मान!

    वक्ष किती उबदार
    काया किती सुंदर.
    उभर त्या टीपा
    ओठाशी प्रिये माझ्या निषाभर!

    काळा ड्रेस घालून ये
    मनभर तुला मी पाहीन.
    नंतर गोर सगळ कोर
    मन ताब्यात नाही जेंव्हा राहील!


    ©SmartSam

  • khanmt50 62w

    इल्ज़ाम

    इल्ज़ाम मेरे सर पर एक और लगी है,
    जनज़ीर मेरे लफ्ज़ पर आकर अब खड़ी है।
    ©khanmt50

  • jst_abigail_me 62w

    दीवाली का त्यौहार तोह माना लिए ।।।दिलवालो का त्योहर कब मनाएंगे???
    #दीवाली #diwali #lights #poverty #life #reality #kavya #mirakee #mirakeewrites #hindi

    Read More

    दीवाली

    दूर कहीं आज वो आसमान भी जगमगा रहा था
    जिसके नीचे बसी झोपड़ी अंधेरे में डूबी थी।।।
    हर तरफ आतिशबाजी थी
    दीवाली की रौनक से पूरा देश जगमगा रहा था
    पर वो एक कोना जहां रोशनी तोह नहीं था
    पर पटाखों का शोर जरूर था
    जहां दो वक़्त की रोटी पाना ही
    उनका सबसे बड़ा त्यौहार है !!!!;
    उस त्यौहार के आगे ये त्यौहार क्या है..!!!!
    क्या है ये रोशनी ???
    जो उनके घर को ना रोशन कर सकी..!!!
    ©jst_abigail_me

  • jst_abigail_me 63w

    कभी कभी दिल यूं ही कुछ कह जाता है।।।
    #love #life #story #tale #kahani #mirakee #mirakeewrites #kavya #iwrite #wewrite #hindi #poem

    Read More

    ♥️एक किस्सा♥️

    अपनी कहानियों में लिख कर तेरा हिस्सा
    तुझे ही सुनाऊं में तेरा किस्सा

    वो किस्सा कहूं
    जिसमें ना हो कोई मेरा हिस्सा

    फिर भी ये हिस्सा
    तेरी ज़िन्दगी का हो बेहतरीन किस्सा।।।
    ©jst_abigail_me

  • jst_abigail_me 66w

    एक कहानी कहूं
    या
    दो बातें कहूं
    या
    दो बातों में पूरी कहानी कहू
    सोचती हूं तो लगता है
    एक रवानी कहूं
    एक राजा रानी की कहानी कहूं।।।
    ©jst_abigail_me

  • faharqazi_barelvi 67w

    कैसे कैसे खेल खेल गई ज़िंदगी ,
    ना जाने इतनी मय कैसे झेल गई ज़िंदगी ।
    कभी हिज्र के नशे में डूब गई ज़िंदगी ,
    कभी यारी में मदहोश हो गई ज़िंदगी ।
    हमारी महफिलों में लोगों की कट गई ज़िंदगी ,
    यहां अधूरी नज़्म लिखने में गुज़र गई ज़िंदगी ।
    कैसे कैसे खेल खेल गई ज़िंदगी ,
    ना जाने इतनी मय कैसे झेल गई ज़िंदगी ।

    © Fahar QAZI

  • jst_abigail_me 69w

    For what is wrong is wrong...no matter what..!!
    #hathras #rape #nomore #westandtogether #mirakee #kavya #hindiwrites

    Read More

    हर चीज पे तेरा बस है
    फिर क्यूं माना खुदको यू बेबस सा
    जो हुआ तेरे साथ था।।।
    वो एक बुरा काल था
    जिसमें हुआ तुझपे मार्मिक प्रहार था
    माना आज तुझे चुप करा दिया
    लेकिन देख ना सखी
    तेरी आवाज़ लिए खड़ा पूरा देश है।।।।
    ©jst_abigail_me

  • vinaypandey84 69w

    ©

  • khanmt50 160w

    सितमगर

    एक सितमगर है, जो मेरे ज़ीस्त का है पैरहन,
    सांस लेने कि इजाज़त मुझे नहीं देता...

    दम निकलता है तो कहता है कि अब बस भी करो,
    ढोंग रचने की रियायत भी मुझे नहीं देता...
    ©khanmt50

    ज़ीस्त - life