#khayaal

148 posts
  • wandering_beast 10w

    #dost #friend #साथी #याद #yaad #khayaal #friend #wod @miraquill #hindi #हिन्दी #zindagi #life
    मेरी साथी साथ आओ
    कब बोलो
    मैं हु यहा
    कब आवो
    दोस्त

    Read More

    याद और बात

    हर साल मुझे तेरी याद आ रहा है
    हुम् साथों चले , मिलते मिलते
    कब बोलते रहे , कहानियों में
    मेरी दिल तो कुछ कह रहा है कि
    आप मेरी दोस्त
    या फ्रेंड,साथी ,
    सब जानता हूं मेरे बारे में
    इस लिए तेरी याद कब दिनों में आ रहा है

  • nazeefism 13w

    Just a #khayaal

    Read More

    Maiin chahunga nahi kisi ko
    Par chahunga agar usey
    Toh woh farishte se kam nahi hogi......
    ©nazeefism

  • nazeefism 17w

    #khayaal

    ��������

    Read More

    Ek chota sa khayaal

    Suno
    Jab maiin naraaz ho jaaya karu toh mana liya kro
    Meri narazgi tumhara pyaar se kahii zyada haii...
    ©nazeefism

  • haalebayaan 22w

    रात से दिन
    भाग 4


    ना घबराना, लड़ते जाना,
    गिरते-गिरते बढ़ते जाना।
    काले बादल छट जाऐंगे,
    सुबह फिर पंछी गाऐंगे ।

    ©haalebayaan

  • haalebayaan 22w

    रात से दिन
    भाग 3


    सांसो को रोके बैठा था,
    धड़कन को बस मै कहता था।
    कुछ देर अन्धेरा बाकि है,
    सूरज की किरणे साथी है।

    ©haalebayaan

  • haalebayaan 22w

    रात से दिन
    भाग 2


    ना बादल रंग बदलता था,
    झोके न हवा के आते थे।
    बेमौसम यादों की बारिश,
    मन को भारी कर जाती थी।

    ©haalebayaan

  • haalebayaan 22w

    रात से दिन
    भाग-1


    बेचैन ख्यालों ने छीनी,
    कईं रातें मेरी अरसे से।
    कईं अरसे तक जागा था मै,
    भीगी रातों की बाहों में।

    ©haalebayaan

  • gumnaam_ 22w

    #shayari #kavita #khayaal
    By unknown writer

    Read More

    आज मन मार कर,कल के लिए सब जमा करता है
    क्या ताज़्जुब 'गुमनाम',आदमी मरने से इतना डरता है

    - अनुभव मोवार 'गुमनाम'

  • lamansh 34w

    इन दूरियों में इक गम उभरते देखा है,
    तुझे खयालो में ज्यादा, तस्वीरो में कम देखा है।

    ©lamansh

  • lamansh 35w

    मोंगरे सी तेरी याद खिल जाती है,
    मेरा कमरा हर शाम महकता है।

    तेरा खयाल है जैसे की जुगनू
    मेरी रातो में देर तक चमकता है।

    ©lamansh

  • haalebayaan 44w

    इल्म

    कभी तूफ़ान के आने से,
    दीवारें जो टूटेंगी।
    तभी मौसम का अन्दाज़ा,
    लगा पाऐंगी ये आंखे।
    कभी जब धूल छटने पर,
    सुनेहरी धूप निकलेगी।
    तभी कानों मे कोयल,
    गीत कोई गुनगुनाऐगी।।
    ©haalebayaan

  • unpredictableink 47w

    Zindagi

    Aaj ek baat zindagi se puchni hai....
    Tu khush toh hai naa????
    ©unpredictableink

  • divy_anshu 49w

    एक बात कहूँ...

    जो टूटे होते हैं...
    वही टूटने का दर्द समझ सकते हैं...!
    ©divy_anshu

  • haalebayaan 49w

    सपने

    सुबह के मीठे सपने,
    पूरे दिन मीठे लगते हैँ।
    जाने पहचाने चेहरे,
    कुछ और क़रीब से लगते है।

    ख़्वाबों की बेहोशी से,
    अब होश में आना खलता है।
    कुछ नींद के किस्से पूरे हो,
    उठ जाऊं तो दिल ये मचलता है।।
    ©haalebayaan

  • haalebayaan 50w

    "दीपक" एक उम्मीद

    दीप ज़रा जलते रहना, उज्जवल रातें करते रहना।
    खामोश अंधेरा परसा है, जग रौशन तुम करते रहना।

    माना के तेज़ हवाएं है, तूफ़ाँ जो आढ़े आये हैँ।
    तुम्हे हाथो में मै थामूँगा, मेरे अश्रु से जलते रहना।
    दीप ज़रा जलते रहना, उज्जवल रातें करते रहना।।

    आँखों में जितने सपने है, तेरी अग्नि से ही जन्मे हैँ।
    तेरी बाती से उम्मीद बँधी, जो तेल है स्रोत बने रहना।
    ताक़त हममे भरते रहना।
    दीप ज़रा जलते रहना, उज्जवल रातें करते रहना।।
    ©haalebayaan

  • haalebayaan 52w

    नया सफ़र

    चलो हाथो में हाथ थाम लेते है,
    बीते को छोड़ कुछ नया जान लेते है,
    रिश्ता है नया, नयी हैँ रस्मे,
    नये वादों और कसमों को,जहां मान लेते है।
    चलो हाथो में हाथ थाम लेते है।....

    न मै अब मै रहूं,
    न तू अब तू रहे,
    न मै बंदिशों में बंधू,
    न तू बेवजह कुछ सहे,
    इस मै और तू को,
    अब हम मान लेते हैँ,
    चलो हाथो में हाथ थाम लेते है।।
    ©haalebayaan

  • haalebayaan 53w

    मन उज्जवल

    मन की गहरी गलियों में, थोड़ा सा उजाला हो जाए।
    जो स्याह पड़ा किसी कोने में, निर्मल सफ़ेद फिर हो जाए।

    प्रतिबिम्ब दिखे दर्पण में जब, काला साया भी हट जाए।
    चेहरे की लकीरें फिरसे अब, ज़रा शांत -सरल- स्थिर हो जाए।

    अब रातों में रोना बंद हो, करवट ना बेचैनी की हो।
    अब मद्धम हो साँसे थोड़ी, मन की ये हलचल थम जाए।।

    ©haalebayaan

  • haalebayaan 54w

    बरसात

    हवाऐ सर्द लगती है,
    थोड़ा मौसम सुहाना है।
    थोड़े बादल घनेरे है,
    शायद बारिश को आना है।

    लगे पेड़ो पे कच्चे आम,
    यूॅ पक -पक के गिरते है।
    ग़रम बस चाय भर प्याली,
    वो पीने वाले पीते है।

    वो बिखरी ज़ुल्फ गालो पे,
    पतंगे उलझी डालो पे,
    वो पीपल नाचता ऐसा,
    वो बरग़द झूमता लगता,
    फिज़ा मे इतर् घोला हो,
    हवाऐ सर्द लगती है,
    आज मौसम सुहाना है।।

    ©haalebayaan

  • haalebayaan 55w

    वो जो था, ये जो है।

    जब कभी छू लेते थे नंगे पैर मिट्टी को,
    तो इक रिश्ता सा कायम हो जाता था,
    ज़मीन का हम से।

    आज मिट्टी पे सड़क, और पैरो पे जूते,
    रिश्तो मे फ़ासला बढ़ाने मे क़ामयाब हुये है।

    जूतो के रौंधने के लिये अब,
    नकली घास का बन्दोबस्त भी हो गया है,
    और ताज़ी घास ,
    जानवरो को भी नसीब नही होती।।
    ©haalebayaan

  • moodswinger12 56w

    Suno
    Uljhi hui hu apni dunia m..
    Tum aak sujha do na

    ©moodswinger12