#khayal

1319 posts
  • ammy21 1w

    Kaise m hn keh du
    Kya jb tk jindagi h
    Tb tk sath nibha paoge kya ?
    Bht moody hu
    Mera dhyn rkh paoge kya ?
    Gussa bht jldi aata
    Mana paoge kya ?
    Mere dard ko apna smjh paoge kya ?
    Mere alfazo jazbato ko smjh paoge kya ?
    Mujhe smjh paoge kya ?
    Mere nakhre utha paoge kya ?
    Mujhe waqt de paoge kya ?
    Apna surname ke sth mera naam jod paoge kya ?
    Der raat bhukh lgti
    Kbhi maggi kbhi halwa toh kabhi kuch bna paoge kya ?
    Mere liye upwaas rkh paoge kya ?
    Mera sth nibha paoge kya ?
    Ziddi hu meri zid puri kar paoge kya ?
    Kbhi kbhi bht sararat krti
    Meri saraatato ko smjh paoge kya ?
    Mera mood bahot swingy hai
    Mujhe smbhal paoge kya ?
    Mera khayal rakh paoge kya ?
    Meri parwaah kar paoge kya ?
    Meri jindagi ka hissa ban paoge kya ?
    Meri jarurate puri kar paoge kya ?
    Mujhe vo saari khushiya de paaoge kya ?
    Mujhe aisi mohabbat kar paoge kya ??
    ©ammy21

  • dil_ke_bol_alfaaz 3w

    आखरी सांस को इन लम्हों से लिपटने दो
    टपक रही है आंखो से वो शबनम बहने दो
    ©dil_ke_bol_alfaaz

  • dil_ke_bol_alfaaz 3w

    रोज़ करिश्में मुजस्सम हुए तो आम हो गए
    इश्क़ ए मानिंद ओ खुदाई बस नाम हो गए

    इश्क़ फरेब तेरा हुस्न भी जाल साज़ लगा
    ये दुनिया भर के दीवाने भी बदनाम हो गए

    कतरा भर आई आंखो में नींद की खुमारी
    ख्वाबों के जमघट रातों के इनआम हो गए
    ©dil_ke_bol_alfaaz

  • dil_ke_bol_alfaaz 3w

    वो शुग्ल ए इश्क बाज़ी आज भी बाक़ी है
    वो इश्क़ कारसाजी फ़िर दिखाने के लिए आ
    ©dil_ke_bol_alfaaz

  • f_l_u_t_e 3w

    .☕.

    Tere khayalo mai
    Kuch din is tarha sa
    Kat raha hai....
    Tujhe dekhne ki
    Khwaish hai
    Bas dil itna sa
    Kahe raha hai
    Tujhe yaad na bhi karu
    To besharam ye
    Fursat mai li
    Chai ki chuskiya
    Bhi kam nahi
    Aakhir teri jhalak dikha hi deti hai..
    ©f_l_u_t_e

  • prathyushakusuma 4w

    Let go

    Not everybody know the art of letting go
    Its been a while dear heart, that you've been slow
    Try not dwelling in the past
    You need to get over it fast
    I know you've been through a lot
    But "holding on", is what you've been taught??
    Try not being the face of the past, that fools you
    Instead, race at the pace of the world, that moulds you..

    ©prathyushakusuma

  • sanjanaagarwal 4w

    Be it humans or any other
    #khayal #komal rai

    Read More

    .

    Every creature that enjoys itself is beautiful


    ©sanjanaagarwal

  • rathiprerana 6w

    दिल की उलझन

    दिल जो हमारा हैं,
    बड़ी उलझनो का मारा हैं।
    कहाँ जाएँ हम,
    ना दिखता कोई किनारा हैं।
    समुंदर की इन लहरों से,
    लड रही हमारी कश्ती हैं।
    कभी इस ओर, तो कभी उस ओर बहती हवा,
    हमें अपने साथ ले जाती हैं।
    जिंदगी खड़ी है जीवन के उस दौराहे पर,
    जहाँ एक गलत और एक सही हैं।
    मन करता है, बना लु वो राह,
    जहाँ दिल अपनी हि धुन में चलता हैं।
    खोज लु वो जहान,
    जहाँ सिर्फ मोहब्बत का ख्याल होता हैं।
    जहाँ, ना तुम सही, ना मैं गलत,
    सबको अपना बनाने का इकरार होता हैं।

    - प्रेरणा राठी
    ©rathiprerana

  • mohsinaaftab 8w

    ✿♡
    जिन्न


    मैं: खुद को जिन्न कहते हो.. आ जाते यहां, कम से कम दवा ही दे जाते। मेरी आखें तक जल रहीं है।
    वो: जिन्न कहां दवा देते है। वो तो फूल देते हैं, और शिफा हो जाती है।


    पर मैं यहां तुमसे कहना चाहती थी,
    मुराद तुम्हारे आने से है।
    मुझे ख्वाइश दुआ, दवा या फूल की नही,
    तुम आते तो, शिफा ऐसे ही मिल जानी थी।
    ©mohsinaaftab

  • himanshuchaturvedi 9w

    तन्हाईयां कैसी हैं ये दिलों में हमारे
    हर वक्त हैं भीड़ में फिर भी जीते हैं यादों के सहारे
    नींद बढ़ने लगी हैं मगर ख़्वाब घटने लगे हैं
    बस साल-दर-साल काट रहे हैं..बिन जिए लम्हे..बिन वक्त गुज़ारे
    .
    ©himanshuchaturvedi

  • himanshuchaturvedi 9w

    जब चलोगे अकेले तुम
    उस राह पे
    साथ तुम्हारे कोई न होगा
    बस कुछ सितारे होंगे
    और कुछ अंधेरा होगा
    कुछ तन्हाई साथ चलेगी
    और इक उम्मीदों का झोला होगा
    कदम लड़खड़ाएंगे कई बार
    तो खुद ही को खुद संभलना होगा
    गर जो कोई हाथ मिल भी गया तो
    उसका दूर तक न चलना होगा
    थकन होगी
    पर कदम रुक न सकेंगे
    मंजिल भले दूर होगी
    पर फिर भी चलते रहेंगे
    सफर में हौसले कुछ पस्त भी होंगे
    और कई सूरज सामने हमारे अस्त भी होंगे
    पर जो ढल गया..वो फ़िर उगेगा तो सही
    ये एक पूरा चक्कर है यार
    आज नहीं तो कल..बदलेगा तो सही
    देर ही सही...चाहा है वो मिलेगा तो सही
    हम तो यकीन माने बैठे हैं
    ये साया जो है वो कभी छटेगा तो सही
    सूरज न होगा तो क्या
    हम खुद ही जलेंगे
    चांद ना भी आया तो क्या
    हम रात भर जुगनू बन के चलेंगे
    फिर जब भी कभी नया सवेरा होगा
    सच मानो..दिल को सुकून और भी कुछ गहरा होगा
    और जो रात अकेला छोड़ गए थे
    उन ही लोगों का फ़िर से..पास हमारे बसेरा होगा
    बस कुछ जो हिम्मत है वो दिल से मांग के
    हमको अभी तो बढ़ना होगा
    जब इतना आगे निकल आए हैं
    पीछे क्या खोया पाया
    अब और न उसमे पड़ना होगा
    बस वक्त कुछ और..समझाते बुझाते खुद को
    अभी चलना है...और थोड़ा चलना होगा
    .
    ©himanshuchaturvedi

  • himanshuchaturvedi 9w

    एक फूल तोड़ा गया
    किसी की गुल-ए-मुस्कान के लिए
    उस गुलशन के सारे भंवरे
    जैसे रूठ गए मानो
    एक आशिक इंसान के लिए
    सिर्फ़ फूल रहा होगा वो
    हम तुम से इंसान के लिए
    पर उस पल की वो रौनक था..
    पूरे गुलिस्तान के लिए
    .
    ©himanshuchaturvedi

  • himanshuchaturvedi 9w

    ये मुस्कान ही देखी है तुमने सदा
    तो उनका दर्द कहां देख पाओगे
    हस्ते हैं जहां भर में वो
    उनके आंसू कहां पहचान पाओगे
    ज़ख्म उनको भी हैं... वैसे ही
    जैसे हमने-तुमने दिल पे खाए हुए हैं
    पर तुम तो तौफे में भर भर नमक लाते हो
    तो फिर उनकी आह.. कहां जान पाओगे
    .
    ©himanshuchaturvedi

  • himanshuchaturvedi 9w

    तुम्हे देख आसमा..कुछ खिलखिलाया
    चांद भी कुछ थोड़ा मुस्कुराया
    चांदनी शर्मा उठी होगी
    सितारों ने कहा होगा...
    ..देखो हमारा यार आया
    .
    ©himanshuchaturvedi
    .

  • himanshuchaturvedi 10w

    मुस्कुराहट बनी तुम सदा ही
    आज तुम्हारे नाम से आंखों में ये पानी क्यूं है
    जिंदगी खिलखिलाती थी तुमसे तो मेरी
    आज वही जिंदगानी इतनी बेगानी क्यूं है
    बदला ही क्या है
    तुम्हारे न होने के अलावा इस सफ़र में
    तो ख़ुद को आज ख़ुद देख के
    मुझे इतनी हैरानी क्यूं है...

    ©himanshuchaturvedi

  • himanshuchaturvedi 10w

    साथ चलते हुए साथी कोई
    जब साथ छोड़ जाता है
    तो तन्हापन चुभता है थोड़ा
    थोड़ा वो खालीपन छोड़ जाता है
    मुश्किल तो तब होती है
    जब कोई अपना दिल तोड़ देता है
    फिर शुरू से शुरू करने में सब कुछ..
    कुछ डर लगता है..
    भरोसा टूटने लगता है और
    जैसे खुद का साथ भी खुद से छूट जाता है..
    .
    ©himanshuchaturvedi

  • prathyushakusuma 10w

    Tashan aankhon mein tha, toh nuksaan dil ka kar aaye hai..
    Kya kare, dimaag ke maamlon mein hum apne dil haar aaye hai..

    ©prathyushakusuma

  • himanshuchaturvedi 10w

    कभी कभी थक सा जाता हूं
    इस ज़िंदगी की जद्दोजहद से
    कुछ दुनिया की पेचीदगी से
    और थोड़ा खुद के सफ़र से
    पर थक भी गए तो क्या होगा
    बिना रुके चलना है अभी तो
    कुछ ख्वाब खो दूं शायद
    और थोड़ा कुछ खुद को
    पर उस मुकाम पे जा के
    लगता है काबिल हो जाऊं शायद
    मिलाने को नज़र
    इस दुनिया की नज़र में
    कभी कभी थक सा जाता हूं
    इस ज़िंदगी की जद्दोजहद से
    .
    ©himanshuchaturvedi
    .

  • himanshuchaturvedi 10w

    घने बादलों में छिपा चांद
    और खोई हुई चांदनी
    उस बिखरे अंधेरे में
    कुछ खोए खोए से तुम
    क्या तलाशते हो
    चांदनी..कुछ रोशनी.?
    या कोई तारा-सितारा?
    दोस्त कहां हैं तुम्हारे
    अकेले क्यूं हो
    इस भीड़ में किसको खोजते हो.?
    कोई मनमीत..हमराही
    साथी कोई...कोई यारा.?
    सीरत सूरत से आशिक मालूम होते हो
    आशिकी कहां है फिर तुम्हारी
    अधूरे इश्क़ की तरह
    क्यूं अधूरे से हो?
    क्या छोड़ गया कोई प्यारा.?
    आंखों में नींद है
    लगता है ठीक से सोए नहीं हो
    या फिर सिर्फ..नींद ही बची है
    इन आंखों में अब..
    कोई मर्ज़ है.?
    या फिर कोई.. ख़्वाब चुरा ले गया तुम्हारा.?
    गहरी सांसें..थके कदम
    बिखरे बाल..मायूस चेहरा
    मंजिल ढूंढते हो
    या कोई रास्ता न्यारा.?
    अब भी टूटे नहीं हो
    देख के खयाल आता है..मन में
    क्या..उम्मीद नाम है तुम्हारा?
    .
    ©himanshuchaturvedi

  • himanshuchaturvedi 11w

    तुम आए
    सवेरा हुआ
    लगा ज़िंदगी में सब कुछ
    अब मेरा हुआ
    ख्वाहिश जगीं
    थोड़ी हिम्मत बंधी
    उम्मीदें बुनी
    पर जब
    ख़्वाब खुला
    तो सूरज ढला
    और
    फिर अंधेरे का बसेरा हुआ
    .
    ©himanshuchaturvedi