#khuda

1069 posts
  • priya29 4d

    Tum...

    Na jane tu khud ko
    Kya samjh baitha hai
    Pyaar kiya tha tujhse
    Aur tu khud ko
    Khuda samjh baitha hai..
    ©priya29

  • vijayyogi 2w

    सपने पूरे करू या खर्चे पूरे करू,

    या
    मैं मरकर जिंदा रहने की हसरत पूरी करूं,

    है बड़ा मुश्किल मुक्कमल रखना आज की दुनिया में
    खुद को खुद में खुदा ,


    देख फिर भी मै खुद में रहने की
    रोज खुद के सामने हिम्मत पूरी करूं...!
    By - V¥ "R∆M∆"
    ©vijayyogi

  • jindagi28 8w

    मिरी उल्फत परे है जिस्म के लगाव से
    मैनें तुझमें मोहब्बत देखी है
    मिरा वास्ता तुझसे खुदा से राब्ता तक का है
    @mannkibaatein
    #mirakee
    #mirakeehindi
    #hindinama
    #ishq
    #khuda

    Read More

    Ishq

    मिरी उल्फत परे है जिस्म के लगाव से
    मैनें तुझमें मोहब्बत देखी है
    मिरा वास्ता तुझसे खुदा से राब्ता तक का है
    @mannkibaatein

  • vajeehanargis 9w

    Khuda Or Muhabbat

    Muhabbat ki chahat me,
    Zamane se lad bethi
    Ishq ki rahon me,
    Bagawat usoolon se kr bethi

    Kuch kaam adhura chora to,
    Kuch naam bura kr bethi
    Kabhi jhut ko sach samjha to,
    Kabhi sach ko jhut samjh bethi

    Na kaam pura kiya , Na ishq
    Fir aakhir me haar maan bethi
    Aankhon me aanshuon ka dariya tha,
    Dil k bhi tukde-tukde kr bethi

    Ehsaas hua ki duniyavi muhabbat me ,
    Khuda ki muhabbat bhula bethi
    Andhere ki chadar me ulajh kr,
    Noor-e-roshan ko dur kr bethi !!
    ©vajeehanargis

  • ramdasa 11w

    Rehmat

    Kya karun main ke tu meri ho jaye
    Dekha jo khwaab tha pura ho jaye
    Sapne dekhte dekhte ghis gayi hai ankhe
    Ae khuda ab toh rehamat barsa
    Darwaje khol de naseeb ke...

  • drayeshakhan 14w

    کرچی

    کچھ اس طرح ٹوٹا ہے یہ دِل، اے خدا !
    کہہ مُجھسے اسکی کرچی نہیں سمیٹی جاتی
    Kuch Is trh toota hai yh dil، aey khuda
    kehe mujhse iski kirchi nhi sameti jaati
    ©drayeshakhan✍️

  • rathiprerana 16w

    उस खुदा को अपना बनाने की चाहत थी,
    ईस दुनियाँ में अपना आशियाना बनाने की खवाईश थी।
    घर से तो निकाले थे चाँद छूने के ईरादो से,
    मगर नसीब में हमारे, अनजानी राहे थी।

    - प्रेरणा राठी
    ©rathiprerana

  • anamikappp 19w

    सुकून

    तलाश सिर्फ़ सुकून की ही होती है,
    रिश्ते को नाम चाहे कुछ भी दे दो,

    किसी की मदद करके जो सुकून मिलता है उसे दुनिया की कोई कीमत नहीं ख़रीद सकती।
    ©anamikappp

  • khidnat_ 20w

    #Khuda ki mohabbat #dua kijiyai gha

    Read More

    Fakhrai kainat banayghi wo!!! (inshallah)♥️

    Muskurata chehra har pal laga kar
    Wo chal ti rahi har lamha yahi zindagi guzar kar

    Kehtai gayau loag kitna hasti hai yai
    Pata nahi kyn har pal sab sai gulti hai yai sab sai milti hai yai

    Pata tha kya tumhai ? sab samaj rahkhti hai
    Pyari lagti hai par tano sai bari lagti hai

    Jitna chaha sab ko usnai
    Utna alag reh si rehti gai

    Wo aati gyi maaf karti gayi
    Har andaz bayan ko wo sehti gayi

    Umeed thi usmay wo barosa tha
    Wo wada kar kai hat ta nahi peechai

    Janab insan nahi khuda hai wo
    Joh aas hai arman has umeed hai aur yaqeen hai

    Choda nahi usnai us sai judi rasi
    Thamti gayi har pal usi ki dor koi

    Ki khuda ki zaat sai aala koi dor nahi hoti
    Ki us sai mili izzat ki koi kimat nahi hoti

    Kya kahoo aur us na cheez khidnat kai naam par
    Bas kash wo kabi fakhri kainat hoti ! (Inshallah)
    ©khidnat_

  • samanthewanderer 20w

    Phir say khuda...

    Har taraf khamoshi the
    Mere Dil k kono say lay kR
    Asmano ki unchayi tak
    Ye dayaar apnay zamanay me guzr rha h
    Lekin meri khamoshi r sawal
    Jo mere honay ka sochty Hain
    Meri khamoshi me mere sawal ghooomtay Hain
    Mjhe Tu jawab deta h
    K Teri khamoshi sawal r tere honay me
    Main hi Tu Hun
    Ek ehsas Jo hata deta h
    Hr girdo ghubar ko
    Sirf Dil ko chorna h
    Uski rah pay ya uski aur urny ko
    Ye ehsas kafi h
    Dil ki marzi h Jo b kre
    JB yaqeen me hr TRF wohi khara h
    To Dil k andr b
    Phir say khuda hai...
    ©samanthewanderer

  • rathiprerana 21w

    दिल के उसूल

    किसी के आने से पहले, उसके जाने का डर रहता है,
    इसलिए हम किसी को अपने करीब आने ही नहीं देते।
    किसी के प्यार करने से पहले, उसके बेवफ़ाई करने का गम सताता हैं,
    इसलिए हम किसी से मोहब्बत ही नहीं करते।
    उस खुदा से दुआ माँगने से पहले, उसके ना-क़बूल होने का दुःख होता है,
    इसलिए हम उस खुदा से फ़रियाद ही नहीं करते।
    उसके घर की चौखट पार करने से पहले, खाली हाथ लौटने का खालीपन होता है,
    इसलिए हम उसकी दहलीज़ कभी नहीं लाघंते।
    इस दुनिया से रिश्ता जोड़ने से पहले, उसके बिखर जाने का एहसास होता है,
    इसलिए हम किसी को अपने दिल में पनाह ही नहीं देते।
    किसी के तारीफ़ करने से पहले, उसके मन में बसी नफ़रत का अंदाजा हो जाता है,
    इसलिए हम किसी कि तारीफो के मोहताज ही नहीं रहते।
    किसी के बात करने से पहले, उसकी मजबूरी का पता चल जाता है,
    इसलिए हम उनसे फिजूल की बातें कर, उनका वक़्त जाया नहीं करते।
    किसी कि यादों में डूबने से पहले, किनारा न मिलने का डर होता है,
    इसलिए हम किसी को अपनी यादों में ही नहीं बसाते।
    किसी के सपने सजाने से पहले, उनके टूटने का खौफ होता है,
    इसलिए हम किसी के सपने ही नहीं बुनते।
    किसी के साथ चलने से पहले, उसके बीच मझधार में छोड़ जाने का शक होता है,
    इसलिए हम किसी के साथ सफर पर ही नहीं निकलते।

    पर ये दिल तो दिल है जनाब,
    ये कहाँ किसी कि सुनता हैं।
    खा कर धोखे जमाने के,
    फिर कुछ नए उसूल बना लेता है।

    - प्रेरणा राठी
    ©rathiprerana

  • sugandh_ankahi 25w

    काफिरनामा

    बस्ती घनी जो बसाई किस काम की ,
    ये महफिल जो सजाई किस काम की।
    जो मिटा न पाए अश्कों की लकीरों को ,
    तेरी ऐसी ये खुदाई किस काम की ।।
    चिंगारी फूंखी है रात भर, तब पाई है रोटी ,
    कोरे लफ्जों भरी ये कलाम-रूबाई किस काम की।
    दरकते रहे घर, और सोया रहा तू ,
    दिखाने भर की ये रहनुमाई किस काम की।
    मैं काफिर सही, पर तेरे बंदे भी थे सजदे में
    उन लबों की सिसकी,वो दुहाई किस काम की।
    मजलिस तेरी, इल्जामात तेरे ,
    मेरे सच की यहां सुनवाई किस काम की।
    भटक रहीं हैं रूहें जिस्मों को लादे हर तरफ ,
    फिर दुनिया में ले आए, मौत की ये रिहाई किस काम की।~सुगंध
    ©sugandh_ankahi

  • taushif 25w

    Khuda

    गैरो से मोहब्बत करते हो फिर कहते हो बेवफा निकले
    कभी खुदा से मोहब्बत करके तो देखो
    फिर देखो वफ़ा क्या है
    ©taushif

  • badnaamshayar777 27w

    Kya karu

    क्या करू ऐ ख़ुदा
    कुछ समझ नहीं आता

    और उसे
    मेरा प्यार नज़र नहीं आता
    शायद नफ़रत हो गई है उसे
    प्यार के नाम पे

    इसलिए उसे मेरी कही बातों का
    अर्ध समझ नहीं आता

    ©badnaamshayar777

  • sadiafatima 30w

    Jab khuda ne tumhe apne liye banaya hai
    Toh kisi aur ka kya banna
    ©sadiafatima

  • ayushi_m_writes 31w

    खुदा बेरेहमत

    खुदा से ज्यादा बेरेहमत इस कायनात में कोई नहीं है।
    इश्क का एहसास तो दे दिया, मोहोब्बत अधूरी रख दी,
    जिंदगी में एक हमसफ़र तो दे दिया मगर उस्का साथ नही,
    वो जिंदगी के हर कदम में मेरे पास खड़ा होगा, साथ कभी नहीं,
    वादा तो है साथ रहने का मगर हाथों में हाथ नही।

    क्या गुनाह थे मेरे,
    मेरे सामने मेरा सबकुछ रख दिया,
    मगर मेरे हाथ बांध दिए।

    ए खुदा तू इतना बेरहम कबसे बन गया?
    बस एक मोहोबत्त थी, तूने उसे ही चीन लिया।

    ©ayushi_m_writes

  • evilive4ever 31w

    Khuda - haiwaan

    https://youtube.com/shorts/_c4UpnkwRzw?feature=share
    ©evilive4ever

  • meraj1913132 32w

    #khuda #rab #God
    By unknown writer

    Read More

    किसी की मज़लूमियत पर मत हँसा कर ऐ दोस्त।
    वो रब है, जो चट्टानें चीरकर शाखें निकाल देता है।

  • jindagi28 32w

    तेरा मुझमें बहुत कुछ बाक़ी है
    उसको बाक़ी ही रहने दो
    गर कुछ बाक़ी ना रहा
    तो शायद मैं बाक़ी ना रहूँ
    ©Mannkibaatein
    #mirakee
    #writers
    #mannkibaatein
    #feelings
    #♥️♥️
    #baaki
    #kuchhairehnedo
    #khuda
    #nazar
    #hindiwriters

    Read More

    बाक़ी

    तेरा मुझमें बहुत कुछ बाक़ी है
    उसको बाक़ी ही रहने दो
    गर कुछ बाक़ी ना रहा
    तो शायद मैं बाक़ी ना रहूँ
    ©Mannkibaatein

  • akthari 34w



    Saare baatin sach
    Lgne lge,jb se huwa
    Aitebaar khuda aur khud
    Per,lgne lge asaan manzil.

    ©akthari