#osr

7494 posts
  • sanjay_kumr_ 2w

    Good Morning Everyone
    Good Afternoon Everyone
    Good Night Everyone

    आप लोगों के सामने भाग - 3 प्रस्तुत करता हूँ उम्मीद करता हूँ आपको अच्छा लगेगा ��

    #ek_kahani_by_sanju #osr

    Read More

    भाग - 3

    लो अब फिर लॉक-डाउन लग गया, फिर से चलेगी प्रॉक्सी।
    क्लास पे होंगी नेटवर्क इशू का मसला,दिन ऐसे ही काटेंगे।।
    घंटों का क्लास मिनटों में होंगीं,पीडीएफ पे पीडीएफ मिलेंगे।
    फिर नोट्स नोट्स का जाप होगा, नोट्स के लिए बनेंगे ग्रुप।।

    ए वक्त तू यूं ही ठहर क्यू नहीं जाता।
    तेरे अलावा कोई अपना नहीं लगता।।
    जुल्फी अदा इस कदर घायल किया।
    परवाना से अब एक शायर बन गया।।

    एक खुली किताब एक खाली पन्ना, पूरी जिंदगी लिखनी है।
    हर बाते हर लम्हा, लिखनी है इस मोहब्बत की किताब पे।।
    देखते देखते उम्र बीत गई,यह दिल आज भी वोही पुराना है।
    वक्त के साथ हालात,हालात संग इंसान को बदलते देखा है।।
    ©sanjay_kumar

  • sanjay_kumr_ 2w

    आशा करता हूँ आप लोगों को अच्छा लगेगा यह भाग �� उठना अच्छा तो नहीं लिख पाया हूँ पर जितना हो सका उठना ट्राई क्या ��

    #ek_kahani_by_sanju #osr

    Read More

    भाग - 2

    आज भी याद है, कॉलेज खुलने का नोटिस मिला था
    खुशी का अलग ही लम्हा था, वो भी कितने दिनों बाद
    सफ़र शुरू होते ही, लम्हा ने हुयु इस कदर रोक दिया
    सफ़र शुरू ही तो हुआ था, अब खतम होने आ गया

    चलो अब घर चलो, यादें के इस लम्हां को छोड़ चले
    वो रात भर जागना, दोस्तों की बर्थडे पे बेल्ट से मारना
    दरवाजे पे लिखना, आधी आधी रात को बाहर मँडरना
    कोली डोर पे खेलना, रात भर गार्ड को परेसान करना

    पहेले कोरोना अब डेल्टा, एक आस जो था वो खतम
    सी हो गही अब, कोरोना उफ्फ्फ डेल्टा बैच कहलायेंगे
    दिल के अरमान इस कदर टूट गए, प्रैक्टिकल से पहेले
    असाइनमेंट मिल गए, मन तो करता आ अब लौट चलें
    ©sanjay_kumr

  • sanjay_kumr_ 3w

    आप सबके सामने में एक नया अध्याय शुरू करने जा रहा हूं कोई गलती हो तो माफ़ कर दीजिए गा And Plzz Tell Me Your Views After Read उम्मीद करता हुं की आपलोगो को पसंद आएगा... ������

    #ek_kahani_by_sanju #osr

    Read More

    भाग - 1

    कॉलेज का पहला दिन, नय दोस्तो के साथ मुलाकात।
    प्रोफेसर के लेक्चर, क्लास बंक करने का सिलसिला।।
    मेस की शाही आलू की सब्जी, कैंटीन की खास चाय।
    रात को महफिल जमाना, सुबह उठ के कॉलेज जाना।।

    लैब में शॉर्ट सर्किट करना, फिर ५ गुणा लगान चुकाना।
    रूम को तहखाना बनाना, साल एक बार झाड़ू मारना।।
    लड़की की एक जलक् पे, एक तरफा प्यार हो जाना।
    उसकी एक जलक् के लिए, इंसान से टॉमी बन जाना।।
    ©sanjay_kumr

  • raaj_kalam_ka 3w

    #osr��������(१/१/२२)✍️
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
    स्वस्थ रहें मस्त रहें सदा खुश रहें।

    Read More

    शुभकामना

    विगत वर्ष जो खोया,इस वर्ष सब कुछ पा लेना
    व्यस्त जिंदगी से दो पल अपनों के लिए निकाल लेना।

    समेट लो,बिखर गए थे जो रिश्ते यहाँ-वहाँ
    बड़ों के आगे शीश नवा,छोटों को गले लगा लेना।

    घर-आंगन खुशियों से महके इक ऐसा पौधा लगा लेना ‌
    स्वस्थ तन-मन के मालिक बन देश मज़बूत बना लेना।

    धूनी रमाई राम नाम सुखदाई, तुम राम-राज्य बसा लेना
    प्यारे !! ग़र हो सके "INDIA" को "हिन्दुस्तान" बना लेना।

    विगत वर्ष जो खोया इस वर्ष सब कुछ पा लेना
    व्यस्त जिंदगी से दो पल अपनों के लिए निकाल लेना।
    ©raaj_kalam_ka

  • raaj_kalam_ka 9w

    #osr������(१७/११/२१)✍️

    आजकल की व्यस्त जिंदगी
    और रिश्तो से बढ़ती दूरी

    Read More

    बिखरते रिश्ते

    जलाई नहीं रिश्तो की किताब,
    ताक पे उसे सजाया है
    जमी हुई धूल को ना कभी हटाया है।

    इंतजार उस हवा के झोंके का,
    जो पन्ने बिखेर जाए
    समेटते पन्नों में भूले से ही सही
    कोई अपना याद आ जाए
    दिल कर जाए पूछने का कि
    बता ए मेरे रिश्ते
    तुम जिंदा हो, के मर गए।।
    ©raaj_kalam_ka

  • raaj_kalam_ka 12w

    #osr❣️#2lines (१/११/२१)✍️
    agar smajh m aaye toh mujhe bhi smjha dena ��

    Read More

    कह दियो

    नासमझ है रे तू जो अपनों से डरता रहा
    बेगाने हो रहे थे हावी तू अपनों से बचता रहा।
    ©raaj_kalam_ka

  • raaj_kalam_ka 13w

    #osr��@writersnetwork @miraquill
    ���� सुप्रभात मित्रों
    आपका दिन शुभ हो��

    भूल जाओ वह हर पल जो याद रखने लायक ना हो
    याद रखो वह हर पल जो याद रखने लायक हो ।।

    Read More

    MORNING SMILE

    FORGET every moment
    that is NOT WORTH REMEMBERING

    REMEMBER every moment
    that is WORTH REMEMBERING .
    ©raaj_kalam_ka

  • raaj_kalam_ka 13w

    #osr����(२२/१०/२१)✍️

    ख़ता माफ़ हो
    हमने तो इश्क़ कर लिया.. जनाब का पता नहीं
    काश कुछ ऐसा हो जाए कि उन्हें हमारे इश्क़ से इश्क़ हो जाएं
    ������❣️❣️

    Read More

    मोहब्ब्त हो गई

    ख़्वाबों में !! कंधे का वो तिल चुम लेती
    पेशानी पर पड़ी सुनहरी जुल्फ़ें संवार देती
    पर मोहब्ब्त हो उन्हें भी ... नहीं जानती!

    आँखों की चिलमन में रोज़ क़ैद कर लेती
    खट्टी-मीठी गुफ्तगू के कसीदे काढ लेती
    पर मोहब्ब्त हो उन्हें भी... नहीं जानती !

    ज़बरदस्ती का सौदा नहीं यह इश्क़, जो खरीदा जाए
    दिल में रह जाता है वह, जो धड़कनों में बस जाए
    दीवानी बन गई मैं बस वे मेरे सरताज बन जाए !

    रब्बा इश्क़ मिरा पहचाना जाए जुबां पे करार आए
    मोहब्ब्त हो गई उन्हें भी ..एक बार वे भी फरमाएं!
    ©raaj_kalam_ka

  • raaj_kalam_ka 14w

    #osr������ (17/10/21)

    Read More

    वो

    हमसफ़र.. हम-सफ़र ना रहा, रोई मैें जार-जार
    तड़पाती उसकी यादें, नां लिखती मिटाती बार-बार !
    ©raaj_kalam_ka

  • raaj_kalam_ka 15w

    #osr @jigna_a pls ek Nazar����

    उनके ख़्यालों को बताने का प्रयास जो उलझ गए, नरक भरी ज़िंदगी में❣️����गुणीजन कृपया त्रुटियों से अवगत कराएं����


    ����������������������������������
    आज फिर मैंने अपना घर सजा लिया
    देखो मैंने *यादों का दस्तरख्वान बिछा लिया
    कुछ यादें भीगी *बारिश के जैसी
    कुछ यादें बरसते *बादलों के जैसी
    कुछ यादें *चाय की चुस्की के जैसी
    मीठी और सुकून से भरी
    और कुछ यादें ....बस यादें ही हैं !!

    बात उन दिनों की जब इश्क़ हमारा
    बादल और सूरज की तरह
    दुनिया की नज़रों से बेजार था
    इश्क़ परवान चढ़ा कब खो गए हम
    हमें भी पता न चला था
    घर छोड़ा लाज शर्म भी छोड़ी
    दामन उसका थाम ज़वानी की दहलीज भी तोड़ी !!

    पर वह बेदर्दी बालमा हमारा न निकला
    बेच दिया मुझे गुमनाम गलियों में
    मेरे जिस्म का वह क़ातिल निकला
    आज भी जब मैं रौंदी जाती
    बादलों के जैसे फटती
    बारिश की तरह लहू बहाती !!
    जब किसी के होंठ मेरे होंठों को चीरते
    चाय की प्याली की तरह अपना जिस्म जलाती

    हांँ... आज मैं फिर यादों का दस्तरख्वान बिछाए बैठी
    बीते लम्हों की दास्तां तुम्हें सुनाती
    इश्क़ क्या है मेरे लिए तुम्हें आज बताती !!

    @raaj_kalam_ka( 9/10/21)
    ����������������������������������

    Read More

    जिस्मफरोशी

    चाय की मीठी चुस्की थी ज़िंदगी मिरी
    काले अँधियारे बादलों से जा घिरी
    खूनी बारिश में रोज़ जिस्म भिगाती
    हाँ...आज मैं तुम्हें अपनी वो यादें सुनाती !!
    ©raaj_kalam_ka

  • satender_tiwari 16w

    विज्ञान और मोहब्बत

    किसी प्रयोगशाला में नहीं
    समाज के सामने अक्सर
    कभी अपनों के बीच
    कभी अपनों से दूर
    साबित करनी पड़ी है
    मोहब्बत विज्ञान सी लगती है।।

    किसी ने खुद पे आजमाया
    किसी ने प्रयोग किसी पे किया
    कभी सफल रहा परीक्षण
    तो कभी फिर दोहराया गया
    तो कभी विफल ही हुई है
    मोहब्बत विज्ञान सी लगती है।।

    दिलों में कम, मापडंडों में ही रही
    मोहब्बत हमेशा प्रयोगों में ही रही
    हर दिन नयी खोज सी लगती है
    मोहब्बत विज्ञान सी लगती है।।
    (Instagram/itsme_stb)

    ©सतेंदर तिवारी (ब्रोकेन्वोर्डस)
    ©satender_tiwari

  • raaj_kalam_ka 17w

    #osr����
    प्यार हुआ चुपके से ����
    आपको यह गीत याद है ना����

    Read More

    ☺️

    मैं वही ,दर्पण वही
    फिर क्यों लागे रूप नया नया ?
    दिल वही ,धड़कन वहीं
    फिर क्यों लागे जग नया नया ?
    तन वही ,मन वही
    फिर क्यों लागे‌ बदन नया नया ?
    फूल वही ,खुशबू वही
    फिर क्यों लागे चमन नया नया ?

    शायद ...वही हुआ
    जो होना न था !
    यह दिल चोरी हुआ
    जो होना न था !
    मन बेचैन हुआ
    जो होना न था !
    हाँ... मुझे इश्क़ हुआ
    जो होना न था !
    ©raaj_kalam_ka

  • anuradhasaxena 25w

    सुनो ना,
    मैंने हमारे बारे में बहुत सारे ख़्वाब देखे हैं,
    कुछ ख़्वाब तुम भी देख लो ना!!
    ©️अनुराधा सक्सेना

  • anuradhasaxena 34w

    औरतें शृंगार करती है ख़ुद से पहले समस्त संसार का,
    जैसे-जैसे वो चोटियां गूंथती हैं वैसे-वैसे वो ब्रह्मांड को एकत्रित करती हैं।।
    ©️अनुराधा सक्सेना

  • priubansal 48w

    Happiness

    Happiness is working hard for your dream each and every day..
    ©priubansal

  • red_rose431 54w

    पापा

    मेरी ढूबती कश्ती को साहिल तक पहुँचाया,
    मेरे लड़खड़ाते कदमों को सम्भलना सिखाया।
    जब ज़िन्दगी के अन्धेरों में खो गई थी मैं कहीं,
    मेरे पापा ने तारों की तरह मुझे सही रास्ता दिखलाया।
    ©red_rose431

  • red_rose431 55w

    2020 is about to end and a new era will start.
    But I would take a moment and thank 2020, though in this year many bad things happened too, but I would like to concentrate on the good.
    I learnt to take my own decisions,
    I learnt to say no,
    I learnt to do what I have to, not what I should be supposed to do,
    I gained self confidence (still need to work a lot on it, but yes)
    I learnt to not to think about appearance much,
    Because what others think or how they react, does not bothers me at all!
    I realized my capabilities and my worth!
    And I'll no more settle for less.
    This year I gained a lot of weight, may be because of stress or because I ate too much cakes during lockdown! Lol!
    But I'll work on it in 2021, and we can call this a new year resolution.
    ©red_rose431
    #happynewyear

    @reetu_k @divya_patel @immature_heart @malay_28
    #priu #osr #cami #lyricsofheart
    #writerstolli #writersnetwork

    Read More

    Happy New Year Everyone!

    ©red_rose431

  • red_rose431 56w

    Dear love,
    You know it's been a long time since I've seen you or talked to you. You have always been my constant. You know that no one understood me better than you ever and I'm pretty sure that no one will. Your absence haunts me and these four walls of my room where I used to share everything with you they seem like coming closer and closer as if they are trying to crush me between them by shrinking everytime I go to that room.

    No, I don't want you to feel bad for me or anything. It's just I wanted to tell you how much I miss you because woman like you are really rare to find and I clearly know what I've lost. You are a strong lady. Though, you look fragile but I know you are really strong. Your vibes, your magic is irreplaceable. I just want to thank you for making my life so influenced with your light. Though, your absence will still haunt for sometime, but I know I'll handle this, and someday I'll not get scared while entering my room, because then I'll not feel that loneliness. I know that I never acknowledged your company but you were like a star, who never left my side even in broad sunlight.

    I appreciate your decision of leaving me, I know I filled your life with toxicity and tried to have control over your life. I confess that I was a kind of man that no woman would have ever dated. But trust me, you completely changed me and this is the reason that now I have become a better human than before. I admit that I disrespected not only you but other women in my family too. I never cared about any woman because I considered them weak. I thought that they rely upon males and can't do anything for them. They can't even stand for themselves when they are right.

    But you, you just stood up against me, you raised your voice against me. And I remember that I got too furious and wanted to bump your head to the wall. You taught me how to fight the urge to hit not just woman but to any human being. I was a complete psychopath back then. But, now I can say that I respect people and their choices.

    I want to thank you for seeing something good in me and loving me at some point of my life. I understood that women are no less than men. I understood that power does not lie in gender, the power comes from within when you fight against wrong. You don't know how thankful I am to you. You are a great woman and I hope you continue to influence other women with you personality and positivity. I wish you succeed in changing the mentality of as many people as possible who think that women are weak!

    With love,
    Your debtor for life.
    ©red_rose431

    @reetu_k @divya_patel @immature_heart @malay_28
    #priu #osr #cami #lyricsofheart
    #writerstolli #writersnetwork

    Read More

    AN OPEN LETTER TO A WOMAN WHO CHOSE TO BE STRONG.
    ©red_rose431

  • raaj_kalam_ka 16w

    #osr ����एक ख्याल ��

    Read More

    दीदार

    रफ्ता-रफ्ता चाँद बादलों से यूँ निकला
    बागबाहरा शन हो गया तेरे इश्क़ में ,
    जुगनू चमक उठे यादों के
    चमकते सितारे में तिरा दीदार हो गया ।
    ©raaj_kalam_ka

  • raaj_kalam_ka 17w

    #osr यह पंक्तियाँ हमारी प्यारी दोस्त कलम को समर्पित✍️
    जो हमारे विचारों को व्यक्त करते करते कब खास दोस्त बन जाती पता न चलता ����

    Read More

    सखी अलबेली

    चलती रहे कलम,कभी ना रुकना जाने
    चढ़ते सूरज से लढलती शाम तलक
    जीवन में बस रंग भरना जाने ।
    मुस्कुराए तू, तो मुस्कुराए ये कलम
    रोए तू, तो रोए ये कलम
    यह कलम नहीं सखी-सहेली है
    बड़ी ही निराली-अलबेली है ।



    सुन..इस सखी को पा,हमें ना भूल जाना
    जब भी कुछ लिखें,हमें ज़रूर बताना ।
    ©raaj_kalam_ka