#perceltionhindi

1 posts
  • nikhilkhandare 33w

    **नई दुनियाॅं**

    तुम बन जाओ चांद समंदर का,
    मैं बन जाऊं नाव आसमान की,
    तुम बन जाना महबूबा मछलियों की,
    मैं सितारों को सैर कराऊंगा आसमान की।

    तुम बन जाओ चकाचौंध गांव की,
    मैं बन जाऊ बूढ़ी नानी शहर की,
    तुम गांव की हर बस्ती में शहर वाली रोशनी भर देना,
    मैं थकी आबादी को पारियों की कहानियां सुना दूंगा।

    तुम बन जाओ ताजगी पत्थरों की,
    मैं बन जाऊं कठोरता फूलों की,
    तुम पत्थरों को बता देना दर्द मुरझाने का,
    मैं फूलों को दिखा दूंगा गर्व मूरत बनने का।

    तुम बन जाओ चंचलता मौत की,
    मैं बन जाऊं सुना कफन जिंदगी का,
    तुम मौत को सुनाना जोख़िम जीवन जीने का,
    मैं ज़िंदगी को यथार्थ समझाऊंगा स्वर्ग का।
    ©nik_heal_khandare