#rachanaprati120

14 posts
  • loveneetm 7w

    #rachanaprati120 #rachanaprati121
    हृदय से आभार आपका @anandbarun जी इस अवसर के लिए।
    आप सभी की रचनाओं की प्रतिक्षा रहेगी।

    Read More

    विषय-"काश'

  • anandbarun 7w

    आमंत्रण

    मैं @gannudairy_ के प्रेरक 'शुरूआत' का आभारी हूँ,
    @jigna_a के 'मैं विशेष' से अतीव प्रभावित हूँ,
    @goldenwrites_jakir के खुशी में शामिल होना चाहता हूँ,
    @alkatripathi79 के अंतरिम भाव को हदय से महसूस करता हूँ,
    @piu_writes के साथ से गर्वोन्नत हूँ,
    कृतज्ञ हूँ @loveneetm का, जिनकी रचना से हरबार भक्ति भाव से ओतप्रोत हो जाता हूँ,
    मैं @mamtapoet के गर्व भरे क्षणों को बारंबार आत्मसात करता हूँ,
    मैं @aryaaverma12 और @anusugandh के व्यक्त मर्मस्पर्शी लम्हों में खो गया हूँ.

    मैं आप सभी का हृदय से आभार व्यक्त करते हुए @jigna_a के सर्वोत्कृष्ट प्रयास को विजेता घोषित कर,
    इस बार #rachanaprati121 के संचालन करने हेतु @loveneetm को आमंत्रित करता हूँ

    ©anandbarun

  • anusugandh 7w

    #rachanaprati120
    @anandbarun @mamtapoet @gannudairy_
    @alkatripathi97 @greenpeace767

    वैसे तो एक फौजी की बेटी, फौजी की बहन और इससे भी ऊपर गर्व की बात यह है एक फौजी की मां होना ।इससे ज्यादा विशेष और मेरे लिए कुछ हो ही नहीं सकता।
    आप सबके साथ एक किस्सा साझा करना चाहूंगी। मेरे बेटे की पासिंग आउट परेड के बाद बेंगलुरु से उसकी पोस्टिंग भुज "गुजरात"में हो गई ।बेटे के पास मैं ,मेरे पति, मेरी बड़ी दीदी और उनकी बेटी घूमने के लिए गए ।रात को बेटे के COसाहब ने एक पार्टी हमारे वेलकम में रखी ।हम सब गए दीदी मुझसे 12 साल बड़ी है तो COसाहब को लगा कि शायद यही इनकी मां है और वह उनसे ही बात करने लगे किआपका बेटा बहुत मेहनती है और सब....
    बेटे को लगा मेरी मां जिसने मुझे रात दिन एक कर दिया इस मुकाम तक पहूचाने में,उनको कोई पूछ नहीं रहा तुरंत बेटे ने COसाहब को बोला सर यह मेरी मौसी जी हैं और यह भी मेरी मां से कम नहीं परंतु मेरी मां यह है उन्होंने इस बात के लिए माफी मांगी और उस समय लगा मेरा जीवन सफल हो गया। मेरे लिए वो दिन मेरी जिंदगी का सबसे विशेष दिन बन गया, जो आज तक ज़हन में है।
    आज भी गर्व महसूस होता है कि मैं एक एयर फोर्स ऑफिसर की मां हूं ,और वो देश की सेवा में तत्पर है।इससे विशेष एक मां के लिए क्या हो सकता है��

    Read More

    मेरी दौलत

    जिंदगी की सारी दौलत मिल गई
    जब अपनों से अपनी पहचान मिल गई
    ©anusugandh

  • aryaaverma12 7w

    #rachanaprati120
    @anandbarun
    @anusugandh
    @mamtapoet
    @alkatripathi97
    @goldenwriters_jakir
    बात कुछ साल पहले की है, मेरे exams चल रहे थे,
    हर रोज चाचा exams दिलाने ले जाया करते थे,
    एक दिन किसी कारण बस चाचा नही जा पाए,
    उस दिन मैं मेरे पापा के साथ गई,
    पापा को भी कही जाना था पर फिर भी मुझे ले गए,
    घर से कुछ ही दूर गए होगे की,जो भी मिलता,कोई भईया जी प्रणाम ��तो कोई वकील साहब प्रणाम,तो कोई नेता जी प्रणाम,
    पूरे रास्ते पापा अपनी गर्दन झुकते प्रणाम करते हुए गए,
    इधर पापा को जहा जाना था वहा से बार बार फोन आ रहा था,
    वापस आते आते लेट हो गया,पापा मुझे घर छोड़ते फिर वहा जाते,
    तो और लेट होता ,तो पापा ने चाचा को फोन किया की जहा वो जा रहे हैं,वही चाचा भी आ जाए,फिर चाचा हमें लेके चले आयेंगे,और पापा वही रूक जायेंगे,
    जैसे ही पापा वहा पहुंचे, bike खड़ी भी nhi कर पाए थे कि न जाने कितने लोग पापा को आके घेर लिए,पापा एक बैग लिए थे उनका वो बैग भी पकड़ लिए, मैं ये सब देख रही थी,एक अलग ही अनुभव हो रहा था, पापा को देखकर ,एक दम proud वाली, फीलिंग हो रही थी,
    मैने भी कुछ लोगों से नमस्ते किया,
    उस वक्त खुद को बहुत विशेष समझ रही थी,
    कुछ अलग ही मान मिला पापा की बेटी होने का,
    उस दिन हमने एक बात सीखी थी, कि पैसा ही सब कुछ नही होता,पैसे से बढ़कर अपनापन होता हैं,बेवहार होता,
    पैसा कमान तो , सयाद आसान होता हैं,
    पर इंसान कमाना,बेवहर कमाना,अपनापन कमाना , बहुत मुश्किल होता हैं,
    पर मेरे पापा ने तो दोनों कमाया था,तो कैसे न खुद को विशेष समझती उनकी बेटी होना का,
    मैं खुद को विशेष समझती हूं कि, मैं अपने पापा कि बेटी हू,एक अच्छे इंसान की बेटी हूं,,,,����

    Read More

    विशेष अनुभव,

    मैं हर उस वक्त खुद को विशेष महसूस करती हूं,
    जब खुद स्वतंत्रता से कुछ कर पाती हूं,
    खुद के लिए ,खुद फैसले ले पाती हूं,,,
    ©aryaaverma12

  • loveneetm 7w

    विशेष

    हर दिन लगे विशेष प्रभु जी,
    जब से हृदय समाए,
    मन मंदिर में आप विराजें,
    जीवन सुखद बनाएँ।

    क्या ही करूँ बखान कन्हैया,
    मन आनंद समाए,
    प्रेम पाश से बांध हृदय को,
    जोगन दियों बनाएँ ।

    नितदिन जपे नाम अधर यह,
    गोविंद हृदय रिझाए,
    बंसी की सुन तान गोपियां,
    गोपी गीत सुनाएँ।

    सुनकर पीड़ा गोविंद गिरधर,
    भक्ति हृदय जगाए,
    हर दिन लगे विशेष प्रभु जी,
    जब से हृदय समाए।
    ©loveneetm

  • mamtapoet 7w

    #rachanaprati120
    @anandbarun ,@anusugandh,@piu_writes
    जब जब मुझसे निकलकर मैं आज़ाद हुई,।
    तब तब मैं ख़ास हुई।

    Read More

    बचपन में जब स्कूल में पहली बार
    Drawing compitition में
    प्रिंसिपल से इनाम मिला,
    लगा जैसे मुझको रब ने कुछ खास दिया।
    जब कॉलेज में कलेक्टर से, ट्रॉफी मिली,
    सच मन को एक नई अनुभूति मिली।
    भाई के विवाह में जब
    अपनी ही कविता को
    स्वयं का स्वर दिया,
    तालियों से हर्ष वंदन हुआ,
    इन सब अवसर पर मम्मी पापा के चेहरे जो खिले,
    यूँ लगा जैसे रब से मुझे कुछ आशीर्वाद विशेष मिले।

  • anandbarun 7w

    #rachanaprati120

    खुशियों का, कभी इंतजार नहीं हैं करते
    अपितु, यह समाये रहती है, पल-पल में
    कोई खास वजह ढूंढने की न जरूरत है
    बस, सहज मन हरपल इसे अनुभव करें

    प्रवेशिका Matriculation, पतलून Full Pant, निकर Half Pant

    Read More

    मेरा पहला पतलून

    प्रवेशिका तक मैंने निकर में ही गुजारे
    जब अग्रज ने, पतलून कुछ यूँ बिगाड़े
    कि अवसर मिला मुझे, इसको पहनने
    वाकया ये कितना भी मामूली सा लगे
    पर खुशी, तो परिस्थिति से निरपेक्ष है
    भैया के मित्र ने, बहुत ही नेह बरसाते
    बड़े करीने से मेरा पतलून ठीक करते
    हिदायत भरे ये अनमोल वचन थे कहे
    पतलून को, ऐसे बार-बार नहीं ताकते
    कि लोग समझेंगे पहली बार हो पहने
    हुआ ये, कि हर्ष छुपाये न छिप रहे थे
    गर्व से कुछ विशेष अनभव कर रहे थे
    ©anandbarun

  • piu_writes 7w

    बात उन दिनों की है जब हम कर्नाटक में शाहाबाद में रहते थे , वहां हम कन्वेंट स्कूल में पढ़ते थे, एक बार स्कूल में फेट के दौरान मेरे पेरेंट्स हमारी स्कूल के हेड मिस्ट्रेस से मिले और मेरे पेरेंट्स ने मेरे बारे में पूछा कि ये कैसी है पढ़ाई में ? तो हेडमिस्ट्रेस ने कहा ये ना केवल पढ़ाई में अच्छी है सिंगिंग और दूसरे ऐक्टिविटी में भी अच्छी है ओबीडीयंट भी है हमे इससे कोई शिकायत नहीं है यह सुन कर मेरे पेरेंट्स को बहुत गर्व हुआ उस दिन लगा हाँ मैं विशेष हूं
    ©piu_writes

  • alkatripathi79 7w

    मुझे हर वो लम्हा विशेष महसूस कराता है
    जब मेरे अपनों की तारीफ़ होती है
    और वजह मैं होती हूँ

    ©alkatripathi79

  • goldenwrites_jakir 7w

    #jp #rachanaprati120 @anandbarun गुरु G ��

    Read More

    #पहली ख़ुशी

    आज भी वो दिन दिल को इक सुकून दे जाता
    ज़ब वो लम्हा याद आता ,,
    अपनी पहली कमाई का वो हिसाब अपनी माँ पिता को दिया
    इक अलग ही ख़ुशी थी मुझसे कहीं ज्यादा मेरे माँ पापा की आँखों में
    वो पल ख़ुशी का इक अलग ही एहसास दिल को दे रहा था
    दूसरी ख़ुशी ज़ब में पिता बना वो लम्हा भी यादगार था...|
    ©goldenwrites_jakir

  • jigna_a 7w

    मैं विशेष

    आपाधापी, भागादौड़ी,
    विचार ज़्यादा, करनी थोड़ी,
    यंत्रमानव बन रह गई थी,
    मेरी यह ज़िंदगी।

    उठो, भागो, काम करो,
    पैसे कमाओ, खर्च कर दो,
    फिर घोड़े बेच आराम करो,
    कुछ व्यर्थ नहीं था,
    परंतु अर्थ भी नहीं।

    जब कुछ घड़ी थम के बैठी,
    व्यस्तता भले थी ऐंठी,
    जब ध्यान में पलकें मूँदी थी,
    मैंने खुद की छवि ढूँढी थी।

    मैंने दूजों के मन को जाना,
    सबका, सबकुछ अपना माना,
    उन स्पंदनों को शब्दों में ढाला,
    सब पूछे, मैंने उनके मन को कैसे जाना?

    उस पल लगा मैं खास हूँ,
    मेरे शब्दों में ढलकर मिला मुझे,
    स्वयं का खुदपे विश्वास हूँ,
    अब अलग सी मेरी हस्ती है,
    मेरी हँसी, मेरे लेखन में बसती है।
    ©jigna_a

  • gannudairy_ 7w

    शुरुआत

    आज बैठे बैठे यू ही कुछ सोचने लगा मैं,
    खुद को खुद में खोजने लगा मैं!!

    मिल कर खुद से हैरान था,
    शायद किसी बात से परेशान था!!

    एक सवाल जो मुझे बहुत सता रहा था,
    क्या हूँ मैं बस यही पूछे जा रहा था!!

    उस दिन पूरी रात नहीं सोया,
    ना जाने क्यूँ उस रात खूब रोया!!

    अगली सुबह मैंने फिर खुद को तलाशा,
    अपने अंदर की खूबी को एक बार फिर से तराशा!!

    आँखों में जुनून और दिल में ज़ज्बा था,
    जानता हूँ रास्ता मुश्किल है.. पर करना पूरा हर सपना था!!

    उसके बाद से मैंने फिर कभी अपने कदमों को रुकने नहीं दिया,
    गिरा और संभला पर अपने इरादों को झुकने नहीं दिया!!

    गुरूर इन असमान के सितारों का तोड़ना था,
    अपने रास्तो को अपनी मंजिल से जोड़ना था!!

    ताने भी लोगों के मैं क्या खूब खाता हूँ,
    नहीं फिर भी आँखों में भी भर के आंसू लाता हूँ!!

    हाँ ये सच है जीतना मुझे ये सारा जमाना है,
    एक जुनून है कि कन्धों पे सितारों को सजाना है!!
    ©gannudairy_

  • anandbarun 7w

    @goldenwrites_jakir #rachanaprati120

    रचनाप्रति के इस कड़ी में आप सभी का स्वागत है। हमसब, हर एक, संवेदनापूर्ण अंतरंग यादों की जीवंत कहानी हैं। तो पलटिये स्मृति के पन्ने और साझा करें जीवन का "वो पहला अवसर जब आपने खुद को विशेष अनुभव किया" था। एक ही शर्त है कि आप अपनी रचना को एक उपयुक्त शीर्षक दें और यही होगा आपका विषय इस रचनप्रति के लिए। अवधि अभी से 03 दिसंबर संध्या 8 बजे तक।

    Read More

    विषय

    "वो पहला अवसर जब आपने खुद को विशेष अनुभव किया"
    ©anandbarun

  • goldenwrites_jakir 7w

    #rachanaprati119 #rachanaprati120 @anandbarun G आप संचालन को आगे बढ़ाए ��������
    ... @gannudairy_ भाई जी का तहदिल से आभार जिन्होंने मुझे अवसर दिया ��������
    .. @jigna_a दी " @anusugandh दी " @mamtapoet दी "
    आप सबने बहुत खूबसूरत इस पाठशाला का निर्माण किया ��������������������������������������

    Read More

    #rachanaprati120

    आप सभी आदरणीय पाठको का तहदिल से शुक्रिया
    आप सब ने इक दूसरे की रचना पढ़ी और सराहनीय की और दिल से अपनी रचना इस पाठशाला में उपस्थित की आप सभी लेखकों का दिल से शुक्र गुजार हूँ
    और कामना करता हूँ आगे भी इसी तरह हर रोज इस पाठशाला से जुड़े रहेंगे और अपने बिचार अपनी रचना इक दूसरे तक पहोंचाते रहेंगे
    हम सब mirakee पर इक परिवार हैं
    यहां पर इक दूसरे को जानने पहचानने और सिखने सिखाने का अवसर हमसब को मिला किसी को दोस्त किसी को भाई किसी को बहन किसी को गुरु मिला
    इनसब में मैं भी इक हूँ जहां मुझे बहन का प्यार गुरु का आशीर्वाद भाइयो का हौसला दोस्तों का साथ मिला .... |
    आप सबने लाजबाव कमाल की रचना से इस पाठशाला को खूबसूरत बनाया हर इक अल्फाज़ से रौशन बनाया आप सब ही विजेता है
    कोशिस यही रहती है हर बार इक नया इस पाठशाला को आगे बढ़ाए पर आज नई कलम से हम रूबरू नही हुए
    इसी लिए आज फिर दोबारा हमें किसी इक को इस पाठशाला को आगे बढ़ाने के लिए आमंत्रित करना है
    माननीय आदरणीय गुरु G आनंद सर से आग्रह करता हूँ पुनह वो इस पाठशाला को आगे बढ़ाए और हमें फिर कुछ नया लिखने का समझने का मौका प्रदान करें
    और आप सब से यही उम्मीद करता हूँ आप सब इस पाठशाला से जुड़े रहेंगे और ज्यादा से ज्यादा योगदान देकर इसे प्यार मोहब्बत से आगे बड़ाते रहें
    ©goldenwrites_jakir