#rachanaprati34

19 posts
  • himanshibajpai 58w

    संचालन

    आप सभी लोगों का बहुत बहुत धन्यवाद जिन्होंने #rachanaprati34 के लिए अपनी रचनाएं प्रस्तुत की।
    आप सभी के द्वारा लिखी गयी रचनाएं अत्यंत सराहनीय और प्रशंसनीय है।

    #rachanaprati34 के विजेता है- @its_nits
    Very very congratulations to you ✌
    आशा है आप सभी मेरे फैसले से सहमत होंगे।
    #rachanaprati35 के संचालन की जिम्मेदारी मै @its_nits को सौंपती हूँ।

    एक बार फिर मिराकी परिवार के सभी सदस्यों को, जिन्होंने रचनाएं लिखी ,उन्हें भी जिन्होंने पढ़ी और सराहना की ।
    आप सभी का धन्यवाद
    ©himanshibajpai

  • shivi_18 58w

    मेरा लिखने का कोई इरादा नहीं था, लेकिन कुछ भावनाएं मन में उठी....तो बस लिख दिया....
    और दूसरा आप लोगों के प्यार और विश्वास ने मुझे लिखने पर मजबूर कर दिया......❤️❤️
    Thank u so much
    .
    .
    .
    .
    .
    And sorry for late.......
    #rachanaprati34 @himanshibajpai, @anusugandh, @vishal_05, @bhaijaan_goldenwriteszakir, @greenpeace767

    Read More

    किन्नर

    आखिर क्यूं ?????
    आखिर क्यूं देखा जाता है उन्हें नीची निगाहों से,
    आखिर क्यूं घिरे होते हैं वो, लोगों की गिरी हुई भावनाओं से...
    क्यूं भूल जाते हैं लोग;कि जिन हाथों से भगवान ने उन्हें बनाया,
    आखिर वो भी तो बने होते हैं, उसी परमात्मा के हाथों से.......
    शुभ होता है जिनका आना, किसी भी मांगलिक कार्यक्रम में,
    लेकिन फिर भी वो घिरे होते हैं, संघर्षों के कालक्रम में........
    हां माना..... पीटते हैं ताली वो,अपना पेट पालने के लिए....
    आखिर उन्हें भी तो जरूरत है, अपना जीवन चलाने के लिए..
    पर,
    आज के इस बदलते युग में; उन्होंने भी खुद को बदला है....
    जाइए..... और उठाकर सर्च करिए गूगल पर,
    कहीं पुलिस कांस्टेबल तो कहीं नेतागिरी में,
    उनका भी योगदान तगड़ा है.......

    अपनी जिंदगी अपने हालातों से लड़ कर दिखा दिया।
    वो भी हैं इस समाज का हिस्सा, ये सारी दुनिया को बता दिया।।
    ©shivi_18

  • sapnagarg17 58w

    #rachanaprati33 #rachanaprati34 , @ anusugandh ,@blurryface ,@kajju ,# green peace767
    Plz give respect to transgender’s #kinnar 🙏🏻
    They are also human beings !!
    Have also sweet heart❤️!!
    Kindly feel their inner beauty and their feelings #emotions
    Give honour # education to all these category ..

    Read More

    किन्नर

    किन्नर शब्द ही दर्शाता है इस धरती पर तीसरा रूप।वैसे कुछ ज़्यादा इस शब्द में अलग नहीं है।
    बस भगवान की दया समझ लो या फिर सजा उन माँ बाप पर ,जिनके घर जन्मे किन्नर।
    मत करो भेद भाव इनसे
    दुआ देते है यह मन से !
    तिरस्कार जिस दिन किया इनका
    नहीं बचोगे इनकी बद्दुआ से।
    कही अगर मिल गयी इनकी दुआयें तो फल फूलेंगे परिवार तुम्हारे।
    ©sapnagarg17

  • tejasmita_tjjt 58w

    किन्नर

    क्यूं तुम इतनी हेय दृष्टि से इनको देखते
    आखिर इनमें भी तो हैं ईश्वर बसते
    यदि नहीं है ईश्वर का वास इनमें
    तो क्यूं इनसे तुम हो आशीष लेते
    खुशियों का तुमको इनसे वर चाहिए
    मगर समाज में कोई स्थान नहीं चाहिए
    आम इंसान की तरह ये भी तो इंसान ही हैं
    क्या हुआ गर शरीर की बनावट है भिन्न
    लेकिन समाज का देश का और राष्ट्र का
    ये भी तो हिस्सा है ना अभिन्न
    ©tejasmita_tjjt

  • sweta_singh99 58w

    #rachanaprati34
    रौंनद देता ये समाज मेरे मन‌ को
    ये पीड़ा नहीं दिखता किसी को
    तन मेरा क्यों हो गया श्रापित
    अंग भंग हो कर शंवान रचाऊं
    फिर भी किसी के दिल में रह ना पाऊं
    झूठी बोली खोखला वेश मेरा कौन सा है देश
    परिवार से ठोकर खाया , नहीं कोई मेरा परदेश
    ठोकू ताली , ले लो बधाईयां बदलें में देते हैं गालियां
    अधुरा तन अधुरा मन लेकर मैं किधर जाऊं
    कैसे मैं अपना ब्याह रचाऊं, समाज में कौन सा स्थान पाऊं
    कोई मेरे दिल का हाल समझता मुझे भी गले से लगाता
    रूठी मां को कैसे मनाऊं जिसने जन्म फेंक दिया
    सब कहते मां मां होती है ,मैं समझता मां भी झुठी होती है
    ना सर पर बाप का साया ना ही मां का गोंद पाया
    सारे समाज से उपहास, मज़ाक, तिरस्कार पाया
    ना कोई झकझोरे मेरे दिल को, मैं हूं तीसरा इंसान
    ©sweta_singh99

    Read More

    किन्नर

    रौंनद देता ये समाज मेरे मन‌ को
    ये पीड़ा नहीं दिखता किसी को
    तन मेरा क्यों हो गया श्रापित
    अंग भंग हो कर शंवान रचाऊं
    फिर भी किसी के दिल में रह ना पाऊं
    झूठी बोली खोखला वेश मेरा कौन सा है देश
    परिवार से ठोकर खाया , नहीं कोई मेरा परदेश
    ठोकू ताली , ले लो बधाईयां बदलें में देते हैं गालियां
    अधुरा तन अधुरा मन लेकर मैं किधर जाऊं
    कैसे मैं अपना ब्याह रचाऊं, समाज में कौन सा स्थान पाऊं
    कोई मेरे दिल का हाल समझता मुझे भी गले से लगाता
    रूठी मां को कैसे मनाऊं जिसने जन्म देकर फेंक दिया
    सब कहते मां मां होती है ,मैं समझता मां भी झुठी होती है
    ना सर पर बाप का साया ना ही मां का गोंद पाया
    सारे समाज से उपहास, मज़ाक, तिरस्कार पाया
    ना कोई झकझोरे मेरे दिल को, मैं हूं तीसरा इंसान
    ©sweta_singh99

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 58w

    #rachanaprati34

    मर्द को घमंड औरत को नाज़
    ज़ब मिलकर दोनों को बनाया इक इंसान
    देख मर्द भी उसको नजरे चुराए
    देख औरत भी उसकी परछाई से अपना साया बचाए
    क्या सही क्या गलत के फ़र्क़ से दुनियां अनजान है
    कैसी ये लीला ईश्वर की --- हर रंग रूप के अपने भक्त बनाए.
    ©bhaijaan_goldenwriteszakir

  • saloni_04 58w

    This was my answer to a question which I was asked in a zonal personality contest, and I don't know how, but this answer made me win. Maybe by mistake. Lol. The question was, "What are your views regarding the Transgender Community?"

    Translation to the words below:
    There is beauty in being yourself. A person who is confident in their words and deeds, is someone who owns their true self and people who are insecure about themselves, are the ones who mock those who dare to be different from the crowd. It's really important to start loving ourselves first because that's when we will be able to see the good in every person and understand their value. Transgenders are amazing because they were born amazing and I pray that someday, we will appreciate their presence for being a part of our society.

    #rachanaprati33 #rachanaprati34

    Read More

    स्वयं होने में सुंदरता है। एक व्यक्ति जो अपने शब्दों और कर्मों में विश्वास रखता है, वह ऐसा व्यक्ति होता है जो अपने सच्चे स्व का मालिक होता है और जो लोग अपने बारे में असुरक्षित होते हैं, वे भीड़ से अलग होने का साहस करने वालों का मजाक उड़ाते हैं। पहले खुद से प्यार करना शुरू करना वास्तव में महत्वपूर्ण है क्योंकि तभी हम हर व्यक्ति में अच्छाई देख पाएंगे और उनके मूल्य को समझ पाएंगे।ट्रांस जेंडर अद्भुत हैं क्योंकि वे अद्भुत पैदा हुए थे और मैं प्रार्थना करता हूं कि किसी दिन, हम अपने समाज का हिस्सा होने के लिए उनकी उपस्थिति की सराहना करेंगे।

  • anusugandh 58w

    ✍️✍️

    ऐ आसमां वाले,क्यूँ तूने किन्नर समाज बनाया
    फिर क्यों, तेरी इस दुनिया ने उनको है ठुकराया
    तकलीफ तो उनको बहुत होती होगी
    जब उनकी बराबरी दूसरों से की जाती होगी
    तेरे इंसाफ पर,,, कोई शक तो नहीं है
    पर तेरे घर में,इतनी नाइंसाफी क्यों है
    काश! हम उनको अपने से अलग ना समझते
    उनको भी,समाज का एक हिस्सा ही समझते
    ना देखो हीन दृष्टि से,करो इनका सम्मान
    ना करो इनको अलग, समझो इनको भी इंसान!!
    ©anusugandh

  • bad_writer 58w

    किन्नर

    कहते विकलांग उसे, जिनका अंग भंग हो जाता
    मिलता यह दर्जा मुझको तो, क्यों मैं स्वांग रचाता

     झूठा वेश खोखली ताली, दो कोठी बस खाली 
    जीता आया नितदिन जो मैं, जीवन हैं वो गाली।

     घिन करता इस तन से हरपल, मन से भी लड़ता हूं
    कोई नहीं जो कहे तेरा, मैं दर्द समझता हूं।

     तन-मन और सम्मान रौंदे, दुनिया बड़ा सताए
    होता मेरे साथ भला क्यों, कोई जरा बताए।

    अपनों ने ही त्याग दिया जब, मान गैर क्यों देते
    जैसा भी है अपना है तू, गले लगाकर कहते।

     लिंग त्रुटि क्या दोष मां मेरा, काहे फिर तू रूठी
    फेंक दिया दलदल में लाकर, ममता तेरी झूठी।

     मेरे हक, खुशियां सब सपने, मांग रहा हूं कबसे
    छीन लिया इंसा का दर्जा, दुआ मांगते मुझसे।

     सब किस्मत का लेखा जोखा, कर्म प्रभाव तभी तो
    मैं अपने दुःख पर लेकिन तुम, मुझ पर ताली पीटो।

     मित्र, बच्चे, घरबार न मेरा कोई जीवन साथी
    बस्ता, कॉपी न नौकरी बस, ताली साथ निभाती।

     बचकर निकलो इधर न गुजरो, वो जा रहा हिंजड़ा, 
    केश घसीट पुलिस ले जाती, जैसे स्वान पिंजरा।

     तुम सम ही सपने हैं मेरे, मैं भी ब्याह रचाऊं
    लाल जोड़ा, नाक में नथनी, कुमकुम मांग सजाऊं।

     बन प्रति वर्ष अरावन दुल्हन, कैसे मैं इठलाती,
    दिन सोलह सुहागन अभागी, विधवा फिर हो जाती।

     है तन अधूरा मन अधूरा, ना कुछ मुझमें पूरा
    ताली गाली लगती, फिर भी जलता इससे चूल्हा।

     जितना श्रापित मेरा जीवन, दुखद अधिक मर जाना,  
    जूते चप्पल मार लाश को, कहते लौट न आना
    ©its_nits

  • shru_pens 58w

    #rachanaprati34 @himanshibajpai @anusugandh @shivi_18 @bhaijaan_goldenwriteszakir
    Iss berangi si jahaa mein
    Aayi ek rangeen adaa
    Behad khoobsurat hai wo
    Is samaaj ke aaine me
    Fasaya usey mithya jaal mein

    Wo bhi saans leti hai
    Uski bhi zindagi amoolya hai
    Naso mein wahi raqt behta hai uske bhi
    Jo hamare rago mein beh jata hai

    Jin shaqso ki shubh duaaein paakar
    Hrisht pusht rehte bacche
    Kyu hum unhe badduaein dekar
    Apne kukrityo ko panapne dete

    Ae samaaj, bahut hui ab manmaani
    Apni soch ko thoda "modern" karo
    Choonki kathni ke koi maayne nahi
    Jab tak karni mein wo naa jhalkein...

    "Inki stthan footpath par nahi, Vishal aashiyano par hai
    Wo manhoos nahi, devi ki satrangi roop hai..

    Read More

    Rangeen seerat hai inki
    Fir berang kyu maane jaate
    Aur na tadpaao inhe
    Zaraa unhe bhi duaaein dekar to dekho(See caption...)
    ©shruti_25904

  • _do_lafj_ 58w

    किन्नर

    दुआओं का अद्भुत रूप है,
    जो स्वयं शिव पार्वती का स्वरूप है।।
    जिनकी दुआएँ बिगड़े काम बनाती है,
    उन्हें समाज का हिस्सा कहने में सर्म क्यों आती है??
    जहाँ शिव पार्वती के अर्धनारीश्वर रूप को पूजा जाता है,
    वहाँ इनको तिरस्कार ही क्यों हाथ आता है??
    जो स्वयं भगवान की अद्धभुत रचना है,
    जिनका घर मे प्रवेश खुशियां भर देता है।।
    समाज अब भी इन्हें अपना नही पाता,
    ईश्वर के इस स्वरूप को अब भी दुत्कारा है जाता।।


    ©_do_lafj_

  • pujasmeen 58w

    Koii kehta he chhakka unhe...
    To koii kehtahe hinjraa he...
    Ye to iswar ke sundar rachna he bas...
    Jo galati se hii to bigdahe...!!

    Naa dekho , unhe ghinone najrose...
    Ye to khuda kii banaii hui murat he ...
    Balayein sare samet lete khud me...
    Sakl se naa sahi...par dilse khubsurat he..!!

    Koii inhe rachna nhii bas ...
    samajhtehe duniya kliy ek srap he..
    Inke bajud tabah karke, inke himmat mitake
    Inke apne hii aj unkeliy jehrile sap he...!!

    Das rupayein...dilse deke dekho unhe...
    Das lakh kii khusiya de jatihe...
    Kinnar he sahab jaat unkii...jo
    Dusroke khusiome apna ebabat karjatehe !!

    Nar jese balsali ar ourat ke dil ka swarup he
    Inhime siv ke saktii ar parvatike rang he..
    jobhi he adhikar , wo adhikar bhii inka he..
    Kahlo kuchh bhi par yebhi duniya ke ang he...!!

    #rachanaprati34

    Read More

    ...KINNAR bhi duniya...
    !! Ke ANG he !!

    @pujasmeen

  • aka_ra_143 58w

    किन्नर

    समाज का एक तीसरा अंग
    कुछ लोग किन्नरों को घृणित दृष्टि से देखते हैं
    जो कि बहुत गलत है
    किन्नर भी सम्मान पाने का अधिकार रखते हैं
    किन्नर हमारे समाज में रहते हैं
    मगर उन्हें सम्मान का दर्जा नही मिलता है
    और जब घर मे बेटा जन्म लेता है तो वही लोग
    अपने बेटे को दुआ दिलवाने के लिए
    उन्हीं किन्नरों को बुलाते हैं
    ताकि उस बेटे को बहुत सारी दुआ मिले
    क्यों दोगला व्यवहार करता है इंसान
    जब हम सभी इस समाज में सम्मानित घूम सकते हैं
    तो उन सभी किन्नरों को भी एक सम्मानित जीवन
    जीने का पूरा हक़ होना चाहिए
    ©aka_ra_143

  • yuvi7rawat 58w

    Kinnar

    Ardhnarishwar ka roop liye,
    Vo rahate ha hamare saat,
    Jab bhi kilkare aaye kahe se,
    Vo aake dete ha ashirwaad...

    Ma Parvati aur Mahadev ka mel ha vo,
    Prakarti ka ek nayab khel ha vo,
    Jo tum unse ghrina karte ho,
    Yaad rakho tum bhi tho mitti k putle ho...

    Unhe hijra, chakka bolna band karo,
    Unke shareer ko tarazu pe mat tolo,
    Aaj vo "kinnar" samaji akele hai,
    Par vo bhi tho bhartiya hum jaise hai...
    ©yuvi7rawat

  • himanshibajpai 58w

    किन्नर -समाज का तीसरा अंग


    जिनसे दुआऐं मिलती है, उन्हें दुत्कारा जाता है।
    इस समाज में उन्हें अपशब्दों से पुकारा जाता है।
    उन्हे ओझी नज़रो से निहारा जाता है।
    क्यो ईश्वर की कृति को नकारा जाता है?

    ©himanshibajpai

  • himanshibajpai 58w

    #rachanaprati33 #rachanaprati34
    Topic -किन्नर -समाज का तीसरा अंग।
    @shivi_18

    Read More

    Rachanaprati34

    सबसे पहले मै @shivi_18 का तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहूँगी,जिन्होने मुझे संचालन के काबिल समझा,और सभी माननीय सदस्यों का धन्यवाद जिन्होंने मेरी रचना को पढ़ा और सराहा।

    अभी तक हम सभी महिला और पुरूष को ही समाज का अंग मानते है। लेकिन हमारे समाज में समलैंगिक समुदाय भी मौजूद है।

    अतः आप सभी से अनुरोध है कि आप सभी इस विषय
    TOPIC - किन्नर -समाज का तीसरा अंग।
    इस विषय पर अपनी रचनाएं प्रस्तुत करे।
    आशा है आप सभी इस विषय पर अपने विचार प्रस्तुत करेंगे।
    आप अपनी रचनाएं 3 july रात 10 बजे तक Post कर दे।
    एक Request है आप सभी अपने परिचित मिराकी मित्रों को comment मे Tag कर दीजिए ।
    धन्यवाद
    ©himanshibajpai

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 60w

    #Rachanaprati all

    .
    ©bhaijaan_goldenwriteszakir

  • vinhit 86w

    अर्धनारीश्वर

    Sathyari sharmila,
    Joyita mondal,
    Prithika yashini,
    Manavi bandopadhya,
    Mumtaz
    Shabnam mausi,
    Shabi
    Jiya das


    Kya jante ho aap yehe kon ?

    Ye sab india ke pehale transgender hai..
    Jisne aapni field me ek mukaam hasil kiya hai..

    Vo mukaam

    lawyer, judge,MLA, police officer,
    College principal, medical assistant ,
    soldier,or social worker ka hai

    Jab ladka paida hota hai to kahete
    Shiv
    Jab ladki paida hota hai to kahete
    Shakti
    Iss hisab se transgender paida ho
    To hame अर्धनारीश्वर kahena chiye na..

    Hame to khush hona chaiye ki shiv parvti ka sath me janam hua hai ...

    Hamare ghar me kisi bachche ya bachchika janam ho to
    Ham sabse pahele unko hi yaad karte hai.
    Ki unka आशिँवाद mile...
    Phir ham une bhooli hi jaate hai..

    Mera manna hai
    Unse jayda darti pe koi pavitar hai nahi
    Or hoga nahi..


    ©writing_thought_20
    ©vinsik_