#rachanaprati6

19 posts
  • bhaijaan_goldenwriteszakir 59w

    #Rachanaprati all

    .
    ©bhaijaan_goldenwriteszakir

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 71w

    खुशबु ✍️✍️

    तेरी वफ़ा की खुसबू ---
    इन आँखों से होकर लफ्ज़ो में बिखर जाती है ....

    तुम क्या हो ❤ मेरी ज़िन्दगी मैं,
    ये सच का कारवां ✍️ कलम सुनाती है ...........

    वो खुला आसमा खुली जमीं पर मैं तन्हा जुगनू
    बिन तेरे कितना लाचार वो नदी का किनारा हुँ मैं ....

    हर रोज मुझमे उतर कर ख़ामोश हो जाती हो
    वो ज़िन्दगी का टूट कर बिखरा हर ख़्वाब हुँ मैं .........

    तुमसे गिला तुमसे मोहब्बत वो हक़ तेरे दिल पर
    उम्र भर जता ना सका ✍️ वो अँधेरी किस्मत की लकीर हुँ मैं...

    माफ़ कर सको तो माफ़ कर देना ❤❤ मोहब्बत की मैने
    पर निभाँ ना सका वो तेरी अधूरी मोहब्बत का किस्सा हुँ में....

    मेरा आसु मेरा गोलू मेरा ज़ाकिर मेरा गोपाल इन नाम से
    बुलाया मुझे में तेरा ही वही बिट्टू हुँ मैं.......!

    ❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤
    ©goldenwriteszakir

  • go_win_the_hearts 71w

    #rachanaprati6

    पत्थर को मुस्कुराते देखा है
    आहिस्ता आहिस्ता!
    वो मोहब्बत था
    जिसने दुश्मन के सीने में
    गुलशन खिला दिया।

    शोलों को शबनम बनते देखा है
    आहिस्ता आहिस्ता!
    वो मोहब्बत था
    ख़ून का नदीयां बहाने वालों का
    ज़मीर जगा दिया।

    चंडाशेक को धर्माशोक बनते देखा है
    आहिस्ता आहिस्ता!
    वो दया नदी के लाल पानी देख
    खुद को बदल दिया।

    ©️गोविंद_
    ३ अप्रैल, २०२१

    [अशोक ने अपने राज्याभिषेक के आठ वर्ष बाद कलिंग युद्ध लड़ा था। कलिंग विजय उसकी आखिरी विजय थी। यह युद्ध २६२-२६१ ईपू मे लड़ा गया था जहां अशोक, चंडाशेक से धर्माशोक बना था।]

    @hindiwriters @hindinama @maakinidhi ji @neelthefeel ji @rnsharma65 ji

    चित्र सौजन्य : प्रिंटरेस्ट

    Read More

    ©go_win_the_hearts

  • shayarana_girl 71w

    Aao baitho jara pass mai ...do ghadi baat krte hain..
    Sadiyon se jama h jo sawaal mohabbat ko lekar aaj unke baare mai kch baat krte hain..

    To batao na...
    Wo Mohabbat kahein to hm khat likh skte h kya....
    Mohabbat hmare do tarfa na ho,,,tb bhi mohabbat kr skte hain kya?

    Likhne ko bola gya h mohabbat p..
    To mohabbat se tmhara naam likh skte h kya????
    Hn malum h hme ki tmko pyar nhi hmse phir phi sbse tmhare baat kr skte h kya?

    Hmm....agr baat ho nashe ki tmhari aankh wala option lock krskte hain kya..
    R maan lo koi kahe hmse aake ,,ki mohabbat h hme tmhare unse* to usko turant block kr skte hain kya...??

    Khushiyon mai na shi,,gumo mai saath rhe skte hain kya??
    Hn pta h ki meera nhi bn skte hm,,,phir bhi intezaar kr skte hain kya?

    Jo log kasme dekar tumhari,,apna kaam krwate hain unko manjuri de skte hain kya!!!
    Shikayat to bht h krne ko ...pr un fariyaadon ke beech hm mohbbat kr skte hain kya??

    Roj roj nhi krenge pressan
    Bs ek dfa bta do aise mohabbat kr skte hain kya??
    Romeo Juliet nhi bn ske...
    Phir bhi isko mohabbat ka naam se skte hain kya?


    (#rachanaprati6 .. @neelthefeel i don't know the way you expect it from i write it or not ..bt when i think about "Mohabbat" lots of question come in mah mind....so i write what i feel�� )

    Read More

    Mohabbat
    ( kch aise bhi )


    ©shayarana_girl

  • mamtapoet 71w

    #rachanaprati6
    @neelthefeel,@rnsharma65,@maakinidhi
    मालूम नहीं मोहब्बत किसे कहते हैं
    पर हाँ जिससे भी जब भी हो जाए
    सब बड़ा सुंदर और प्यारा लगता हैं।

    Read More

    मोहब्बत(प्रेम)

    कलम न जिसे बया कर पाये
    बोले बिना भी जो महसूस हो जाए
    समस्त संसार में है जो व्याप्त
    कोई परिभाषा नही जिसके लिए पर्याप्त
    पाक, पवित्र खूबसूरत, वो है मोहब्बत।


    भँवरे फ़ना हो जाते हैं फूलों पर
    गुन गुन ,गुन गुन गीत सुनाते
    ये है मोहब्बत

    तिरंगे में लिपटकर एक दिन घर आना है
    पर माँ के लिए हर फ़र्ज़ हंसकर निभाना है
    ये है मोहब्बत

    दिन रात, खून पसीने से सींचे अपनी माटी को
    भूखा रहे प्यासा रहे पर कोसे न अपनी भूमि को, ये है मोहब्बत

    पल पल बाती जले, रोशन जग को करे
    पर ख्याति मिले दीपक को
    ये है मोहब्बत

    बुढ़ापे में बेघर करदे, तकलीफ़ अनेक दे
    फूल ही बरसाए, उसकी दुआ में ही हाथ उठाये
    ये है मात पिता की मोहब्बत

    बचपन का वो लड़ना झगड़ना
    वापस एक हो जाना
    ये है मोहब्बत

    नदियाँ का तरसना सागर से संगम को
    विलीन कर देना अथाह समंदर में खुद को
    ये है मोहब्बत

    मीरा का वो कृष्ण में समाना
    राधा का वो श्याम को निहारना
    ये है मोहब्बत

    छल कपट न रहे कोई शेष
    जब हृदय में हो जाए प्रेम का समावेश
    ये है मोहब्बत

    सर्वस्व न्यौछावर करके भी जो शेष रहे
    प्राण भी तजे, पर रोम रोम यही भजे
    वो है मोहब्बत



    ©mamtapoet

  • deeptimishra 71w

    पहले इश्क़ की चर्चा तो हर गली हैं
    चलो हम " आखरी " महबूब को भी जरा बदनाम करले
    कुछ सजा,,, कुछ इंजाम ,,,कुछ गुस्ताखी,,, उनके भी नाम करदे

    वो पहला नशा... पहला ऐतबार... पहला इज़हार...
    पहली खता.... पहली हया....
    इन सबकी यादों को तुम मिटा देना,,
    जो बातें सिर्फ यादे बन जाये
    ऐसे एहसासों से जरा दूर ही रहना...

    बेशक " पहला " खास होता हैं,,पर
    उस कयामत की रात तक,,
    आखरी महबूब ही साथ होता हैं...

    वो पहले छुअन
    दिल के हर डोर को छेड़ जाता हैं,,,
    पर हाथो की लकीरों को मुकम्बल करना कहा उसके बस का होता हैं..!


    बेचैनी,, और नींदे उड़ाने का शौकीन ,,,,
    रूह को कैसे सुकून कैसे देदे..?
    " पहले प्यार " को सिर्फ प्यार कैसे कह दे ?

    ना जाने कितनी डगर अधूरी रह गयी
    तुम जो यू बेवक़्त आगये....मेरी " कच्ची उम्र " सहम सी गयी
    तुम किसी तेज बारिश से थे
    जिसकी कुछ बूंदे में खुशी...पर सबकुछ तबाह कर देने वाली फितरत होती हैं


    पहले होने का हक़....शायद मैं तुम्हे ना दे पाऊ
    पर " मेरे कहलाने " का पूरा औदा तुम्हारा होगा

    उन रातों में ...एहसासों में...बातों में
    तुम्हे ना गढ़ पाऊ,,,जो बीत गयी
    पर मेरे इस वक़्त के हक़दार ...एक तुम ही होंगे..!


    मुझसे जुड़े ..किस्से और भी हो
    कुछ मन भाये.. कुछ गैर भी होंगे
    नजरो में मेरी ..घर किसी ओर का हो
    जमाने ने मुझे उसकी बातो में देखा हो

    में बित्ता हुआ कल बदल...
    तुम्हे शुरुआत ना बना पाऊ
    पर समय के अंत तक...एक तुम्हे ही चाहू
    ऐसा एक वादा रखलो...
    अपनी मोहोब्बत तुम मुझे चुन लो..
    क्योंकि तुम मेरे आखरी मेहबूब से लगते हो....!!!

    -----------दीप्ति

    #rachanaprati6
    @neelthefeel
    @maakinidhi

    Read More

    यह मंजर कुछ नया सा हैं
    देखो तो ..ये हसरत तुम सी लगती हैं
    और तुम मोहोब्बत से लगते हो...!!

    ©deeptimishra

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 71w

    भवरा

    मोहब्बत और मुझे --- क्या बात करते हो

    में तो भवरा हर इक डाल का फिर

    मुझे आशिक उसके नाम का कहते हो,

    बड़े ही नादान हो इश्क़ के शहर में

    हर इक ख़त को दिल से लगाकर पढ़ते हो...

    ज़िन्दगी किसी इक पर खत्म हो जाए

    वो भी मेरी -- ये इल्जाम बहुत खूब लगाते हो...

    जहां हर तरफ नफरत के कांटे बिछे

    बहाँ पर फूल मोहब्बत के खिलाते हो......

    ❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️✍❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤
    ©goldenwriteszakir

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 71w

    मोहब्बत ✍️❤✍️

    मोहब्बत के घुंगरू दिल को अवाज़ लगाते हैं
    तुम आ जाओ फिर मेरी गली - नजरे तुम्हारा इंतजार करती है,

    दिल धड़क जाता है हर इक आहट मैं तेरी ज़ब दुआ दिल ये करता है
    हर ख़्वाब फिर हसीं लगता है - ज़ब सपने तेरे आते हैं,

    तू ही सहर तू ही शाम तू ही हर इक लम्हें की रात मेरी
    तुझसे मिला -- तेरा हुआ हर इक दिल ने धड़कन पर नाम तेरा लिखा
    तू ही नाज़नी तू ही गुल तू ही सबनम तू चाँद तू ही महरम
    तुमसे ही हर इक ---- ख़ुशी ग़म मेरे......

    ✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️feemale✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️

    मोहब्बत के रंग हजार ''हर इक मे शामिल तेरी खुसबू
    तू आईना मेरी परछाई का तेरे साय मे मेरे दिन और रात
    वो एहसास हर इक लफ्ज़ में लिखें दिल के ज़ज़्बात
    तू ही मेरी माथे की बिंदिया तू ही चूड़ियों की खनक
    तुझसे ही मेरे हाथो की मेंहदी तू ही मेरे मांग का सिंदूर
    तू ही खुदा तू ही इबादत तुझमे बसी मेरी रूह......

    ❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤
    ©goldenwriteszakir

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 71w

    बेअसर कलम ✍️

    माना बेअसर है कलम ✍️✍️✍️✍️✍️✍️ मेरी,
    कहता दिल तुम्हारा - बेअसर कहानी मेरी...

    कभी मिला नही दिल को -- जिसकी तलाश तुम्हे ना रही
    वो ज़िन्दगी के हर इक पन्ने मे -- खून के आंसू रोया हुँ मैं...

    जिस कांधे पर सर रख कर तुम सो जाते हो
    उसकी हसरत लिए हर रोज जागता हुँ मैं .....

    मेरी कलम मेरे ज़ज़्बात सब ख़ारिज कर देते हो टाल कर
    उन ज़ख्मो के निशाँ पल पल रिसते इन आँखों से
    वो दर्द हर रोज महसूस करता हुँ मैं .....

    किसे गज़ल किसे नज़्म क्या कविता क्या श्रृंगार क्या शेर,
    उस दुनियां से कोसो दूर कलम के सहारे जिता हुँ मैं...

    और क्या सुनना चाहते हो तुम हसकर मेरी ज़िन्दगी पर
    दिल इक मेरा हर रोज टूट कर बिखर जाता
    उन लम्हो को समेट कर जिता हुँ मैं
    कागज़ कलम के साय मे -- आईना वो
    परछाई मैं वो ज़िन्दगी लिखता हुँ मैं.......

    हसकर फिर भुला देना ''लगाकर मेरे ज़ख्मो पर नमक
    वो खिलौना अपनी ज़िन्दगी का खेल कर तोड़ देना
    वो मजाक तुम्हारा हुँ मैं........


    ©goldenwriteszakir

  • leena_afsha_ishrot 71w

    55.
    .

    #leena_unsaidwords #al_thoughts #used #mohabbat #hindinama #hindiwriters#rachanaprati6

    Fana - barbadi
    Dopahari - afternoon
    Raina - night
    Subah sadiq - dawn
    Falgun - feb/march
    Bahaar - spring
    Shakhsiyat - personality
    Swachhata - cleanliness
    Mahak - smell/fragrance
    Attar - perfume oil
    Shehzada - prince
    Pratisthapan - replacement

    I hope I did justice @neelthefeel to your post विषय - मोहब्बत

    @mirakee @hindiwriters @writersnetwork @hindinama

    Thank you so much for �� kind repost @hindinama

    Welcome to highlight my mistakes ��

    Read More

    1/4/21 10:00 p.m ☑️

    मौहब्बत -
    कभी दिल में लगी आग को बुझा देते हैं तो
    कभी हंसती है तन्हाई में, ए - मौहब्बत
    कभी फ़ना कर देते हैं ए - मौहब्बत

    दोपहरी से सूरज ढलने तक
    सर्द के रइना से सुबह सादिक तक
    फाल्गुन की महिने और तुम्हारी साथ बीते लम्हों का यादें
    इसी मौसम ए - बहार में इंतज़ार हैं

    गांव एक है
    शहरों की शख्सियतों में गुमराह न होना, यारों
    मोहब्बत की खातिर जब से जिस्म की कीमत दाऊ पर लगा
    क्या कहना, यारों? मोहब्बत की स्वच्छता को क़फ़न पहनाया गया

    है क्या यह मौहब्बत?
    जीने की उम्मीद?
    नष्ट होने की इक तारिका?
    आंगन की महक?

    मौहब्बत की इत्र आखिरी सांस तक रहती हैं
    शहजादे हों तुम, मेरी दिल में
    कलमा पढ़ने तक मेरी ज़ुबान पर तुम्हारे नाम रहेंगे
    सबसे कीमती तोहफा दिया है - मेरे रुह

    जिस्म से ज्यादा, रुहानी सफ़र क़ायम रहें उम्र भर
    क्या इजाजत है, गले लगाने के?
    तुम्हारे बांहों में दो पल सुकून की नींद चाहिए
    गर मौहब्बत की कोई प्रतिस्थापन है, तो वह तुम हों
    ©leena_afsha_ishrot

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 71w

    मोहब्बत दिल का सुकून रूह की मंजिल
    वो प्यास ज़िन्दगी की मोहब्बत है...

    ❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤
    #jp #rachanaprati6 @neelthefeel @maakinidhi @travel_to_words @rnsharma65 @mamtapoet

    Read More

    मोहब्बत

    ❤ मोहब्बत इक एहसास ❤


    अजनबी रिस्तो से हर इक अपना पन का एहसास दिखाते हैं
    देकर अपनों को दर्द बेहिसाब मोहब्बत से दूर रहते हैँ...

    उम्मीद सब को प्यार की है -- पर हम अपने मतलब के लिए
    सबको आजमाते हैं .....

    प्यार नाम खुदा का - फिर हम इंसान गीता क़ुरान से दूर क्यों
    फूलों को डाली से चाँद को चकोर से --- किसान को मिट्टी से
    ये चाहत ये आरजू सब मोहब्बत की निशानी
    फिर हर तरफ ये नफरतों के सौदागर क्यों......

    कहीं पर जाती धर्म तो कहीं पर अमीरी गरीबी की दीवार
    मिलती नही तक़दीर की लकीरों में मुकम्मल आशिक़ी
    वो चाँद जमीं से फलक पर रोशन
    हर इक इंसान मोहब्बत के हाथो मजबूर ये फासलो की दीवार क्यों

    भाई भाई में जमीन के पीछे होते झगडे तो कहीं
    सास बहु की तकरार है --- खून के रिश्ते भी बदल जाते
    हम वो दुनियां के कोहिनूर लाज़वाब क्यों...

    बदलेगी कैसे इस ज़माने की तस्वीर ✍️ ज़ब हर इक चेहरे पर
    नकाब हजार हैं .....
    जहां देखो मिलते रंग बेसुमार उन में छिपे मतलबी पकवान
    उन्हें खाकर कभी भरा नही किसी का पेट फिर ये भूख क्यों ....!

    ✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️
    ©goldenwriteszakir

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 71w

    यादों के सहारे पूरी ज़िन्दगी बिताकर ❤ वो दिल कहीं खो गया...
    मिलते नही अब उसके निशा वो रूह - ए - इश्क़ दफ़्न हो गया
    ज़ब लोग गुजरते उसके क़रीब से ख़ामोश जुबां पर उसकी वफ़ा के किससे खुदबखुद आ जाते -- क्या था वो क्या हो गया
    उसे दुआ सुकून मिले वो राह के मुसाफिर कर जाते.....

    मोहब्बत बाकी अब भी दिलो में ❤ ये एहसास की कहानी
    वो मरकर ज़िंदा कर गया...
    उसके ख़त उसकी अधूरी कहानी -- कईँ किससे कहानियों की किताबों में दर्ज़
    वो नाम मोहब्बत के कागज़ पर अमर हो गया.....

    मिला नही उसे उसका प्यार वो रहबर इंतजार में ता उम्र तन्हा
    कागज़ कलम के दरमियाँ फलक का चाँद जमीं पर रोशन हो गया
    खुदा भी मुस्कुराता है देख कर उसकी वफ़ा वो इंसान फरिस्ता बन गया....

    ज़िन्दगी चार दिन की मोहब्बत में गुज़ार दो .........
    नफ़रत जहर है --- इसे दिल और जहन से निकाल दो ......
    कल याद करे दुनियां --- वो फूल मोहब्बत के हर तरफ खिला दो.....!

    ❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤✍️❤
    #jp #rachanaprati6 @neelthefeel @maakinidhi @anusugandh @muskiiiii @travel_to_words

    Read More

    .
    ©goldenwriteszakir

  • maakinidhi 71w

    #love is purely unconditional....don't mix it with your expectations.... love to love only☺️��❤️��#rachanaprati6

    Read More

    मोहब्बत

    दिल से जब पुकारूंगी तुम्हें मैं,आओगे क्या?
    ये रिश्ता जिसे मोहब्बत कहते हैं,निभाओगे क्या?

    जिंदगी की मुश्किलों ने यूं तो मजबूत ही किया मुझे!
    कभी अकेली जो पड़ी,हाथ में हाथ ले पाओगे क्या?

    मैं जानती हूं खुद का मोल,संघर्षों ने निखारा है मुझे!
    इस बात पर मुझ जितना ही यकीं कर पाओगे क्या?

    कुछ भी और नहीं बस साथ तुम्हारा चाहती हूं मैं!
    बताओ हर सिम्त साथ मेरा दे पाओगे क्या?

    सारी दुनिया के लिए खुशनसीबी का सबब नहीं है प्यार!
    मेरे लिए इसे एक खुशनुमा एहसास बनाओगे क्या?

    एक बार कह कर तो देखो,खुद को वार दूं तुम पर !
    तुम भी मगर खुद को मुझ पर वार पाओगे क्या?

    किसी के लिए भ्रम किसी के लिए हकीकत है ये मोहब्बत!
    तुम पहेली ये सुलझाकर मेरा कल संवार पाओगे क्या?

    जिस्म से रूह तक का ये सफर इतना आसान नहीं होता!
    आंखों से देखकर मुझे दिल में भी उतार पाओगे क्या?

    मैं ये जिंदगी तो अकेले भी खुशहाल जी सकती हूं!
    करार देकर मुझको तुम भी करार पाओगे क्या?
    ©maakinidhi

  • maakinidhi 71w

    संचालन

    आप सभी से सर्वप्रथम क्षमाप्रार्थी हूं!एक आकस्मिक व्यस्तता के कारण समय से संचालन की जिम्मेदारी ससमय हस्तान्तरित नहीं कर सकी! आप सभी की रचनाएं अपने आप में अप्रतिम थीं फिर भी जिनकी रचना ने मन को सर्वाधिक छुआ उन्हें ही आगे के संचालन हेतु नामित कर रही हूं.....मैं चाहती हूं कि@neelthefeel ...जो मेरे भाई के समान हैं वह इस श्रृंखला को आगे बढाऐं....इनकी रचना की जितनी भी तारीफ की जाए कम ही है!☺️❤️
    ©maakinidhi

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 72w

    मोहब्बत ✍️✍️

    वो मुझे ⭐सितारों में ढूंढ़ती रही

    और मैं _____उसे चाँद में महसूस करता रहा ...

    लिख कर नाम उसका -- वो सागर ''' मैं कागज़ की कस्ती
    बनकर उसमे डूबता रहा ....

    मिली मंजिल इश्क़ के सफर में -- वो याद मैं हिचकी
    बस इसी तरहा ज़िन्दगी ka सफऱ गुजरता जा रहा .....

    ❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤
    ©goldenwriteszakir

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 72w

    यादें दो दिलों

    दिल के आशियाने में आज भी वो रोशन है

    मोहब्बत धड़क रही वो दिल अब भी यादों में ज़िंदा है,

    कोशिस ज़माने ने हजार की

    टूटकर बिखर जाए दिल मेरा '''''' पर
    उसकी वफ़ा की दुआ ने सलामत मेरी वफ़ा को रखा..

    ©goldenwriteszakir

  • bhaijaan_goldenwriteszakir 73w

    मोहब्बत ख़्वाब सी

    चलो ना फिर,ज़िन्दगी की तमाम खुशियों को तुम्हारे नाम लिखतें हैं,
    लिखें फिर ख़त तुम्हे, तुम्हारी वफ़ा तुम्हारी मोहब्बत को सलाम करते हैं,
    फासले चाहे रखे तक़दीर ने हजार मिलो के --- उनसे मिले जो ज़ख्म उन पर मरहम लगातें हैं,
    लिखें ख़त तुम्हे वो एहसास का दरिया कलम से कागज़ पर सजाते हैं,
    मोहब्बत इक इबादत उस आयत को कागज़ की कस्ती पर अस्को के समंदर से तेरे हवाले करते हैं
    लिख कर ख़त तुझे फिर ज़िन्दगी की सहर को खूबसूरत बनाते हैं,
    दो दिल जुदा होकर जुदा ना हुए वो हक़ीक़त को फिर इक आईना दिखातें है,
    तेरे दिए इश्क़ के रंग में फिर हम रंग जाते हैं,
    भूलकर फिर दुनियां को हम तेरे हो जाते हैं ........।
    ©goldenwriteszakir