#righttovote

10 posts
  • sheetalhc 171w

    Voting rights

    When you can't stoop to ones level,
    And you can't even give up the fight
    Exercise your right!
    Right to vote.

  • nigarrao 175w

    It's the day to invest your 'Right' the right way!

    It's the day to reckon your duty as well as your right,
    It's the day to excercise your right in the way that is right!
    Let all wrongs be mend and glooms get light,
    Let the power enthrusted in you flow towards light!
    Let the decision be imposed with full might,
    And let the republic of India thrive with all its might!
    ©nigarrao

  • hanishaamuri_ 175w

    Bigday

    Change will never start with a group
    Want a change then start it with yourself
    Go and vote for a change

  • hanishaamuri_ 175w

    18th birthday right

    Don't know what it is?
    Haha legally enjoying Government benefits.
    Government just want people who are 18 and plus ,benefits are only to them.
    So now it's our turn to search the gate pass and get your nail painted!!
    ©hanishaamuri_

  • sarojeya_ 175w

    Make me your head one....
    I'll bring some bucks for u...
    Make me your chairperson...
    I'll do what no one think of to...
    Make me your elected one...
    I'll bring good days for u...
    I promise not to use religious gun...
    Even if i do i'll not leave any clue...
    I'll do what i feel right for religion...
    I'll not give attention to miseries though...
    I'll make cities larger n greeneries concrete...
    I'll make cities fast and woods running slow...
    I had sold even milk also just let me be their on the seat...
    I am standing in front all just see my face how sincerely glow...
    For the next five years i'll not be on the street...
    I'll be working for you my people in the well air conditioned bunglow...
    Give me your vote... Make me your head one...
    Elected as ur chairperson... M just making fake promises though...
    ©sarojeya_

  • swapnil_ware 177w

    ना पार्टी का, ना संघ का, औंर ना कीसी भी दल का मैं,
    बच्चा हू इस देश का औंर शिल्पकार हु कल का मैं.

    क्या सच हैं, क्या झुट हैं , मैं फरक जानता नही
    जो प्यार से बतलाओ तुम तो मानता वही सही.

    ना मंदिर,ना मस्जिद ना किसी से मुझको वास्ता,
    जो चाहिए हैं मुझे हैं स्कूल से घर का रास्ता.

    ना हाथ मै हैं हाथियार औंर ना ही उस्मे नोट हैं,
    कलम हैं,सोच हैं, औंर बस एक ही वोट हैं.

    किस्को जाये वोट मेरा सोच मै मैं पड गया,
    इस वोट के झगडे मै मैं अपनो से भी लढ गया.

    एकता, स्वतंत्रता का संविधान मै झिक्र हैं,
    पर भुले हो उसिको तुम, इसीकी मुझको फिक्र हैं.

    जो उंगली पे स्याही लगालू मैं तुम्हारे नाम की,
    जो भ्रष्टाचार से परे तुम बात करो कुछ काम की.

    जो एक मत हैं मेरा उसे एकमत बना दू मैं,
    जो सोया हैं मतदार उस्को जाके जो उठा दु मैं.

    क्या सून सकोगे बात मेरी, बात सीधी साधी हैं,
    क्या पुरी करोगे प्रगती को, रेह गयी जो आधी हैं.

    ये राष्ट्र हैं जो राष्ट्र मेरा, राष्ट्र ये हमारा भी,
    क्यू भुल जाते हो इसे ये राष्ट्र हैं तुम्हारा भी.

    क्या मोदी, या गांधी , पवार या अखिलेश को?
    वो कौन हैं जो आगे ले जायेगा मेरे देश को?

    इतना तुमने सून लिया, अब थोडा औंर सून लो ना,
    चूनना चाहे जिस्को तुम, मतदान जरूर करलेना
    मतदान जरूर करलेना!
    .


    .
    .
    .
    .
    .
    #Mirakee#mirakeeapp#wordporn#hindi#hinwriters#vote#righttovote

    Read More

    " ना हाथ मै हैं हाथियार औंर ना ही उस्मे नोट हैं,
    कलम हैं,सोच हैं, औंर बस एक ही वोट हैं."

    (Please read caption for full poem)

    ©swapnil_ware

  • unsaid__word_ 192w

    शीर्षक कुछ अटपटा सा लग रहा है न, पर आजकल की परिस्थितियों में बिल्कुल सटीक लगता है।
    क्योंकि देश में आजकल सिर्फ दो ही विचाधाराएँ देखने को मिल रही है...सत्ताधारी समर्थक या विरोधी।।
    स्वस्थ लोकतंत्र के लिए दोनों विचारधाराएं होना जरूरी है, पर जब एक विचारधारा दूसरे पर हावी होने लग जाये तो शायद खतरे की घण्टी लगती है।।
    लोकतंत्र की खासियत ही यही है कि यह जनता का जनता के लिए जनता द्वारा शासन है,
    और लोकतंत्र में किसी को वोट देना एक स्वतंत्र प्रक्रिया है, जनता किसको और क्यों वोट दे रही है ये उसका निजी मत है और ये उसके स्वविवेक पर आधारित है!!
    जो भी सत्ताधारी दल चुनावो से पहले की गई घोषणाओं को पूरा नही कर पाता या जनता की उम्मीदों पर खरा नही उतरता तो जनता उसको सत्ता बेदखल कर देती है और करती आई भी है चाहे वो कितना भी कद्दावर नेता क्यों न हो!!
    पर वर्तमान में परिदृश्य कुछ अलग सा प्रतीत होता है,
    अगर आप कुछ भक्त टाइप लोगो से अलग विचारधारा रखते है, आप मुद्दों और विकास के आधार पर वोट देने की वकालत करते है, या फिर आप धर्म या जाति की राजनीति का विरोध करते है, तो आपको देशद्रोही होने का तमगा मिल सकता है या आप खुद के समाज के लोगो की नज़रों में गिर सकते है और ये सब इसलिए क्योंकि आपकी और उनकी विचारधारा अलग अलग है!!
    एक मजबूत लोकतंत्र के लिए मजबूत पक्ष के साथ साथ मजबूत विपक्ष की भी आवश्यकता है जो जनता के मुद्दों को बुलंदी के साथ उठा सके, और सत्ता में पक्ष और विपक्ष में बैठना निरन्तर और स्वभाविक प्रक्रिया है
    पर जब तुच्छ मानसिकता वाले लोग जो बेदखल हुई दल के समर्थक है कोसना शुरू कर देते है, फब्तियां कसते है, और नफरत की राजनीति फैलाना शुरू कर देते हैं,
    उन लोगो को ये सब छोड़ के इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि..आप क्यों हारे?? क्या कमी रह गयी?? और उन कमियों को कैसे दूर किया जाए??
    समाज को बांट कर नफरत की राजनीति करना बन्द कीजिये, राजनीति में फंसकर आपसी भाईचारे को बर्बाद नही करे,
    जिम्मेदार नागरिक बनकर स्वस्थ लोकतंत्र का हिस्सा बनें!!

    जय हिन्द।।

    #democracy #loktantra
    #freedomofexpression
    #righttovote

    Read More

    Is Democracy in Danger??

    Read In Caption

    ©unsaid__word_

  • amritakashnee 231w

    *Cast your vote*

    Casting your vote make you realize that how valuable you are for the change of society in Democratic society.

    ©AmritaChaudhary27