#sham

201 posts
  • go4sandeep 4d

    शाम

    काश..... जिंदगी में कभी एक ऐसा भी मक़ाम हो ,
    शाम हो , जाम हो और महफिल में दोस्त तमाम हो ।।

    ©go4sandeep

  • anamika_ghatak 5w

    तन्हां धूंआ

    तेरी धूंआ सी दुनिया
    मेरी शाम की तनहाइयां
    चलो बिखर जाते हैं हम
    समेट लेंगे लोग किरचियां
    ©anamika_ghatak

  • himaang 9w

    पल...

    इत्मीनान से संजोए रखे हो.. जो ये पल अपने..

    क्या जानते नहीं.. टूट जाते हैं अक्सर ऐसे सपने..

    मेरी मानो.. और खर्च करो इन्हें दिल खोलकर..

    कल ये न हो कि लगो अपनी बदकिस्मती को जपने..


    मैं नहीं कहता.. कर दो न्योछावर हर चीज़ पर अपनी भावनाओं को..

    बस खर्चो वहीं जहां उनकी वाकई ज़रूरत हो..

    जज़्बातों के मोहताज़ लोगों की कमी कभी न थी..

    ध्यान रहे उस भीड़ के आखरी में तुम्हारा नाम भी ना हो..

    ©himaang

  • kashifa11 15w

    #sham wa kamar

    Read More

    You were the nightangle of my only sky
    And so you made me a darker night of yours
    Those words of trust beneath the shores
    Laid a feeling of petter with no noice
    Its you that feels so calm,not revealance
    You the glitter of my unaided eyes
    ©kashifa11

  • himaang 18w

    असमंजस...

    कि समझ उतनी ही थी मेरी और मैं ज़िंदगी उतनी ही जीता था..
    होंगे मायने नए दौर के तो हो सही..मेरा कल तो बस उस दायरे में बीता था..

    कॉफ़ी की चुस्कियों के बीच पीढ़ियों के अंतर को नापने वाले..
    कोई समझाए उन्हें..मौलिक़ ज़रूरतों को पूरा करते मेरा हर पल बीता था..

    मेरे बच्चे मुझसे खींज़ जाते हैं आज़..मेरे रूढ़िवादी विचारों को सुनकर..
    हाँ वही..जिनके परवरिश के स्वार्थ में हर अपमान को मैं बेझिझक़ पीता था..

    शायद उम्र बढ़ती जाती है..और समन्वय बैठ नहीं पाता है..
    याद यह नहीं आता..अपने ज़माने में इन जज़्बातों को मैं कैसे सीता था..

    ख़ैर मैं विकास के ख़िलाफ़ नहीं हूँ और नयी सुबह का स्वागत भी करता हूँ..
    बस भूला न जाए..इस दौर के बीज़ को हमने अपने कल में सींचा था..

    पर समझ यह नहीं आता..कि यह सब मैं आज़ क्यूँ लिख़ रहा हूँ..
    क्या पता कल अपने बुजुर्गों को भी मैंने..इसी ऊहा पोह में कभी घसीटा था..

    ©himaang

  • pushp_harshwal 25w

    ट्रेन मे मेरे सामने बैठी वो लड़की
    कुछ अलग ही अंदाज था उसका
    झुकी नजरे मासूम चेहरा
    उड़ती जुल्फे बार बार सम्भाल रही थी
    जब मुस्कराती थी तो मानो बहार छा गई हो
    सर पर रखा रेशमी दुपट्टा हवा के झोंके से सरक रहा था
    कानों के झूमके गुलाब से कोमल गालों से अठखेलियाँ कर रहे थे
    ढलते सूरज की किरनें माथे पर लगी बिंदी को और सुनहरा कर रही थी
    बात करती थी तो मानो मोती झर रहे हो
    इतनी मीठे बोल
    खुदा ने फुर्सत से तराशा था उसको
    जो एक नजर देख ले तो मदहोश हो जाए
    मानो कोई अप्सरा थी
    हल्के रंग का सूट और उस पर रेशमी दुपट्टा
    उसकी खूबसूरती में चार चांद लगा रहे थे
    उसकी सादगी उसका शर्माना
    क्या कहूँ शब्द नहीं है
    बस यही कहूंगा
    आज धरती पर अप्सरा देखी
    ट्रेन में मेरे सामने बैठी थी वो लड़की….

    -पुष्प की कलम से

  • rohitsayyed 41w

    Adaa

    उनकी नशिली आँखों ने, पानी को जाम कर दिया,
    एक दीदार ने उनके, शायरों को बेजुबान कर दिया,
    उनकी हर एक अदा इतनी कातिल है दोस्तो,
    की सिर्फ जुल्फे लहराकर उन्होंने,
    सुबह को शाम कर दिया।।

    ©rohitsayyed

  • skywalker918 42w

    एक शाम बैठा अकेले मैं
    कुछ सिमटे किस्से जगा रहा था
    वो जो ढल चुका था सूरज
    उसे फिर बुला रहा था
    कुछ अनकही बातें थी जो मन में
    उन्हें खुद को सुना रहा था
    वो खुदगर्ज तो नही था
    ना मैं बेपरवाह
    बस ये बार बार कह के
    मैं नींद बुला रहा था।।।।।।।
    ©skywalker918

  • thehighghalib 43w

    Shaam bhi koi jaise hai nadi ke armaan lekar,
    Ek baar fir pahaadon ki taraf chale,
    Kuch din beete aur jeb hui khaali,
    Laut kar wapas apne tamaashe ko chale.

    ©thehighghalib

  • dhanyanaidu 46w

    @nikhilincredible @cold_akhil @hindiwriters @shriradhey_apt

    #breaakup #love #dukh #sapna #sad #sadstory #couple #dukh #theend #end #sham #subha #dua #relationship #happydays #happy #sukh #peace #loveyou #hate

    Read once ��

    Agar kisi din udaas ho toh
    Vapas lot jaana...
    Hasne ka vaada toh nhi kar paungi
    Aur nahi
    Hasane ki zimmedari le paungi...
    Haan...!!
    Par itna zarur keh skthi hu ....
    Tere harr uss aasu ka hisa banungi...
    Aur .....
    Kuch iss tarah maghan hongi ...
    Ki dukh merko dughna lagne lage
    Aur ....
    Khushiyon ki chaadar tu odle .!!
    ©dhanyanaidu

    Read More

    Agar kisi din udaas ho toh
    Vapas lot jaana...
    Hasne ka vaada toh nhi kar paungi
    Aur nahi
    Hasane ki zimmedari le paungi...
    Haan...!!
    Par itna zarur keh skthi hu ....
    Tere harr uss aasu ka hisa banungi...
    Aur .....
    Kuch iss tarah maghan hongi ...
    Ki dukh merko dughna lagne lage
    Aur ....
    Khushiyon ki chaadar tu odle .!!
    ©dhanyanaidu

  • _a_n_u_u_u_ 49w

    धीमें से ही सही!
    समा शाम का बदल तो रहा हैं।
    देर से ही सही!
    जज्बात दिलों के बाहर आ तो रहे हैं।


    ©_a_n_u_u_u_

  • unconscious_vriksh 51w

    Sham(Evening) #1

    Haseen yeh sham hai
    Kuch tere kuch mere naam hai
    ©unconscious_vriksh

  • ammy21 56w

    Naam

    Acha lagta hai tumhara naam
    mere naam ke sath
    Jaise koi khoobsurat subah
    judi ho kisi haseen sham ke sath


    ©ammy21

  • kr_gaurav 56w

    शाम

    नीरस बेजां सी जिंदगी को कोई खाब दुबारा दे दे तू।

    बेसुद पड़ी है रूह मेरी, इक शाम आवारा दे दे तू।।
    ©kr_gaurav

  • abrahamshan 60w

    तू ख़ूबसूरत

    दिल्ली कि उदास ....शाम ख़ूबसूरत ...
    चन्द लफ़्ज़ो का… तेरा नाम ख़ूबसूरत…
    गर्म दोपहरी में ... पुरवाई जैसा...
    तू सर्द हवा ... तेरा अहसास खुबसूरत ...
    ©abrahamshan

  • rooohh_darrrr_ 67w

    जिंदगी

    शाम नाराज है,
    दिन ढल चुका है,
    मुझसे मेरी पहचान पनाह मांग रही है।
    रुतबे बेबाक है इसके, देखो इसो,
    मुझसे मेरी बुलंद आवाज़ मांग रही है।
    जानती है मुझको बरसो से,
    हर पल, हर घड़ी,
    यह फरामोश,
    आज मेरे तमाम कर्जो का हिसाब मांग रही है।
    ©rooohh_darrrr_

  • sha_bd12 72w

    May this year bring new happiness, new goals, new achievements, and a lot of new inspirations on your life. Wishing you a year fully loaded with happiness. Wishing every day of the new year to be filled with success, happiness, and prosperity for you. Happy New Year
    ©sha_bd12

  • sha_bd12 73w

    Kha tha usne har sham tera haal puchenge
    Dur rhke v tere dil k pas se guzrenge
    Syd suraj dhal nhi rha unke yha
    Syd mohabbat bant gyi durion k darmiyan....
    ©sha_bd12

  • rupika 74w

    शाम

    Aaj wo sham ayi,
    Jab baarish ki halki boond Teri yaadon ka pegam layi,
    Socha Teri yaadon ki is boond ko sanjo KR rakhu,
    Kya PTA kab ye sham aye,
    Kya PTA kab Teri yaad is sparsh me aye.
    Aj phr wo sham ayi,
    Jab Teri yaad mjhe Teri chaukhat Tak layi,
    Khatkate hue mene dhoonda Teri yaadon ko,
    Kamre me jab mehsoos hua Tera aks,
    Muskarte hue Mann ne socha kaash ye pal yhi ruk jae bss,
    Aur tehar Jaye ye shaam aj yhi isi waqt.
    ©rupika

  • vishnuuu_x 74w

    【ढलती शाम】

    अब मन नहीं करता तुझसे दिल लगाने को ,

    तू छोड़ जाता है मुझे ढलती शाम की तरह ।

    ©vishnuuu_x