go4sandeep

Name - Sandeep Kumar DOB - 29th November

Grid View
List View
  • go4sandeep 1d

    Motivational

    Your action and decision
    decide your future...........

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 1d

    मुसाफिर हूं यारों , चला जा रहा हूं।
    ना खुद का ही सुध है
    न लोगों की परवाह
    बस अपने ही धुन में
    बढ़ा जा रहा हूं।
    ना खोने को कुछ है
    ना पाने की हसरत
    बेफिक्र होकर
    बढ़ा जा रहा हूं ।
    ये मालूम है
    राह मुश्किल बड़ी है
    ज़माने की नजरें मुझ पर गड़ी हैं।
    मुश्किलें बन के बाधा
    मेरे पग-पग खड़ी है
    न रुकना है मुझको
    ना झुकना है मुझको
    मुश्किलों से लड़ने की ,
    अब तो , आदत है मुझको
    बस बेफिक्र होकर
    बढ़ा जा रहा हूं।
    मुसाफिर हूं यारों , चला जा रहा हूं ।

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 4w

    Romantic

    तेरे बगैर ये शाम
    अधूरी सी लगती है ।
    तेरे बिन जिंदगी जैसे
    मजबूरी सी लगती है ।

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 4w

    Romantic

    तुम अगर साथ होते
    ........तो फिर क्या बात होती !
    बस इशारों-इशारों में दिल की बात होती
    हर शाम हसीन और रंगीन रात होती 
    तुम अगर साथ होते....तो फिर क्या बात होती !

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 4w

    Romantic

    दिल का सुकून उसी ने छीना
    जिस पर प्यार लुटाया करते थे हम .....

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 4w

    Romantic

    तुझे साथ पाकर
    सारे ग़म भूल जाता हूं
    तुम साथ होती हो तो
    ग़म में भी मुस्कुराता हूं

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 4w

    Quote

    शब्द वो हथियार है
    जो तलवार से भी
    धारदार हैं ।

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 4w

    झूठ

    खुद से झूठ मत बोलो
    अपने ज़मीर को टटोलो
    दिखावा क्यों ? और किससे ?

    सच कब तक छिपाओगे
    क्या झूठ बोल......
    आईने देख पाओगे ?

    जब सच्चाई जाहिर होगी
    खुद की नजरों में भी गिर जाओगे

    सच के अंजाम से बेपरवाह होकर बोल
    खुद से झूठ मत बोल ।

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 5w

    Motivational

    सफलता पाने के लिए जिद्दी बने ।।

    ©go4sandeep

  • go4sandeep 5w

    हमेशा कम लगता है

    हमेशा कम ही लगते हैं
    सुकून की नींद
    कमाया हुआ धन
    हमेशा कम ही लगते हैं
    बचपन की शरारतें
    और जवानी के दिन
    हमेशा कम ही लगते हैं
    महबूब के साथ बिताए हुए पल
    और दोस्तों के साथ शराब के जाम
    हमेशा कम ही लगते हैं
    एग्जाम देने में वक्त
    और रिजल्ट मैं आए हुए नंबर
    हमेशा कम ही लगते हैं ।

    ©go4sandeep