groovy_angel

www.instagram.com/groovyangel12/

I write with my experiences , what i have learnt and observed from my life. Animallover , Naturelover , FaithInGod , lovetohelp , #Lightworker

Grid View
List View
Reposts
  • groovy_angel 5d

    अगर परिवार ही अपने

    बच्चो को " खुद की गलती मानना " नहीं
    सिखाएगा ,

    तो जब कोई और उस बच्चे की गलती बताएगा,

    तो बच्चे चिड़चिड़े हो जाते है ।

    और फिर अपनी गलती न मान कर ,

    सामने वाले को गलत ठहराते है ।

    और सामने वाले पर हावी हो जाते है ,

    अपने आपको सही साबित करने के लिए ।

    क्योंकि उन्हें किसी ने सिखाया ही नहीं ,

    कि गलती मानना क्या होता है ।

    ©groovy_angel

  • groovy_angel 5d



    अगर आपके बच्चे पढ़ाई में अच्छे
    अंक ला पाते है ,

    तो इसका अर्थ ये बिल्कुल नहीं है कि,

    आप उनकी गलतियों को नजरंदाज करे।

    ज़रूरी है की बच्चों को बचपन से ही विद्या के साथ- साथ बेहतर इंसान बनने की भी सीख देना चाहिए ।

    उन्हें उनकी गलतियां बताएं ना की उनकी गलतियों को छिपा दे।

    "बच्चे है गलतियां करते है "

    लेकिन आप ये बोल कर उनकी गलतियों पर पर्दा डालने का काम करते है ।

    बच्चा अब बड़ा हो रहा है
    बड़ा हो रहा इसलिए नई कक्षाओं में भी जा रहा है ।

    तो बच्चों को किताबी ज्ञान के साथ साथ ,
    नैतिक ज्ञान भी दीजिए और उन्हें अभी से
    " खुद की भावनाओं को काबू करना सिखाइए , क्योंकि खुद की भावनाओं जैसे गुस्सा , अहंकार , जलन , द्वेष को अपने वश में कर लेना ये " एक आध्यात्मिक प्रक्रिया " है ।

    आज बड़े बड़े लोग इन भावनाओं के वश में हो गए जिसके कारण आप देख सकते है कि दुनिया में कितनी बुराइयां है ,

    लोग आपस में लड़ रहे है ।
    घर घर के लोग आपस में जलन कर रहे है ।

    भगवान को मानने वाले सब होते है ,

    लेकिन उनकी बातों को फॉलो करने वाले और खुद पर काम करके, खुद को बेहतर इंसान बनाने वाले बहुत कम ।
    ©groovy_angel

  • groovy_angel 12w

    पैसा

    पढ़ लिख कर कामयाब बनूंगी
    पैसा कमाने का सही इस्तेमाल करूंगी

    ज़रूरी नहीं पैसा कमाना सिर्फ कपड़ो में दिखे
    ज़रूरी नहीं पैसा सिर्फ कार और बंगला में दिखे

    पैसों का सही इस्तेमाल सिखाऊंगी
    दुनिया को नई राह दिखाऊंगी

    कभी देखूंगी किसी कसाई की दुकान
    खरीद लूंगी सारे बेजुबान

    लाऊंगी उन जानवरों के लिए नया जन्म
    करके देख-भाल, दूंगी उनको एक नई शरण

    दूंगी उन कसाई अंकल को दूसरा कारोबार
    सिखाऊंगी, करें जानवरों की बलि का बहिष्कार

    दया का पाठ पढ़ाना चाहती हूं सबको
    ईश्वर का मार्ग दिखाना चाहती हूं सबको

    पैसे की धौंस नहीं दिखाऊंगी
    मैं तो लोगों को सही इस्तेमाल सिखाऊंगी

    बेजुबानों की आवाज बनकर आऊंगी
    उनके लिए नया सवेरा लेकर आऊंगी

    पैसे कभी भी कमाना
    उसको थोड़ा दूसरों के हित में लगाना

    ईश्वर भी उनके साथ होते है
    जो अत्याचार के खिलाफ होते है

    अदिति त्रिपाठी
    ©groovy_angel

  • groovy_angel 13w

    धन बचाने का अर्थ कंजूसी नहीं,

    बल्कि आने वाली समस्याओं का,

    समाधान करने की तैयारी है,

    और यही समझदारी है।

    By - My mother
    Priti Tripathi

  • groovy_angel 13w

    ये सच बात है कि लोगों को सिर्फ
    कमाने वाले की Income दिखती है ,
    खर्चा नहीं दिखता है ।

    अरे पूछो उस इंसान से जिसके
    ऊपर गृहस्थी का भार होता है
    वो कैसे पाई - पाई कमा कर
    जमा पूंजी इखट्टा करता है
    ताकि अपने बच्चों को पढ़ा लिखा सके
    कामयाब बना सके
    उनका पालन पोषण कर सके ।

    हर माता पिता खूब मेहनत से कमाता है
    ताकि अपने परिवार को मज़बूत रखे
    जो वो कमा रहा है क्या उस कमाई का खर्चा नहीं है ?
    जो लोग ऐसे बोल देते है ,
    अरे उनके पास तो बहुत पैसा है।

    अरे पैसा देखने वालों,
    जलने वालों,
    खर्चा भी देखो।

    पढ़ाई इतनी मेहंगी है,
    मैं ही जानती हूं की मेरे पापा कितनी मेहनत से पैसा कमाते है ताकि हम बच्चों को पढ़ा सके।
    और लोगों को लगता है की उनके पास कोई खर्चा नहीं
    पैसे कमाना सीखोगे जिस दिन तब पता चलेगा।

    अदिति त्रिपाठी
    ©groovy_angel

  • groovy_angel 13w

    जीभ के स्वाद से ऊपर भी कुछ है,

    आंखों के भेद-भाव ; सुंदर-बतसूरत ; काले-गोरे से ऊंचा भी कुछ है,

    छलनी इच्छाओं के परे भी पवित्र निश्छल कुछ है,

    दुनिया के भिन्न नश्वर आकर्षणों से परे भी कुछ अनश्वर अद्वितीय है,

    हमारे शरीर से परे भी कुछ है,

    अनेकों इच्छाओं की पूर्ति क्यों ना हो जाए,
    परमात्मा से बढ़ कर कोई ऐसी इच्छा नहीं जो सुकून, पूर्णता, आनंद, प्रेम, सुंदरता, एकता, संपूर्णता, पवित्रता तथा मुक्ति दे सके।
    ईश्वर इच्छा के ऊपर है।

    सारी इच्छाओं से मुक्त कर देने वाला एक ही है,
    संसार से मुक्त कर देने वाला एक ही है,
    शरीर से परे वो आत्मा है,
    हम नश्वर शरीर नहीं,
    अनश्वर आत्मा है,
    और आत्मा परमात्मा का अंश है।

    अदिति त्रिपाठी
    ©groovy_angel

  • groovy_angel 13w

    खाना सबके घर में कभी कबार बच जाता है
    लेकिन अगर वह बचा हुआ खाना
    किसी भूखे के पेट में चला जाए
    तो वो खाना कभी वेस्ट नही होता ।

    अगर आपके घर में खाना बच जाता है
    तो इसे ईश्वर का वरदान समझिए कि
    आपके द्वारा किसी भूखे का पेट भरता है ।
    लेकिन कृपया बचा हुआ खाना कभी भी किसी भूखे को , सड़ा हुआ न खिलाए।
    बची हुई रोटी , बचे हुआ अनाज अगर
    आप सड़क के जानवरों को खिला दे तो
    उससे उनका पेट भर जायेगा ।

    अदिति त्रिपाठी
    ©groovy_angel

  • groovy_angel 13w

    गलत करने वालों के खिलाफ हूं मैं
    चाहे वो फिर रिश्तेदार हो
    या फिर दोस्त ।

    जो बोलूंगी , मुंह पर बोलूंगी
    पीठ पीछे बाते करने वाली नही हूं मैं
    ना ही कान लगा कर सुनने वालो में से हूं।

    ©groovy_angel

  • groovy_angel 14w

    सूरत देखने वालों की ,
    खुद की सीरत में खोट होता है ,
    तभी तो वो हर किसी की सुंदरता पर
    ज्यादा गौर करते है ,
    और सूरत के आधार पर आंकलन करते है ।

    कृपया अपनी सीरत को सुंदर बनाने का प्रयास करे ,
    क्योंकि जो सीरत से (आत्मा से ) सुंदर होता है ,
    उसे हर किसी की सूरत की सुंदरता एक समान दिखाई देती है।

    अदिति त्रिपाठी
    ©groovy_angel

  • groovy_angel 14w

    Success

    An Answer to those ,
    Who thought you were none to any of the businesses ...

    ✍️
    Aditi Tripathi
    ©groovy_angel