Grid View
List View
Reposts
  • i_am_an_unprofessional_writer 2w

    For daily quotes visit my instagram profile
    @nirmal007sharma

    Read More

    जो बीत गया उसको भूल चुका हूँ
    जो आएगा उसको भी छोड़ चुका हूँ
    बहुत वक़्त के बाद आज में जीना शुरू किया है
    क्योंकि मैं अपनी शख्सियत को पहचान चुका हूँ

    अब लोग मेंरा क्या बिगाड़ेंगे
    मै भी उन्ही के जैसा हो चुका हूँ
    यह गम भी मुझें क्या रुलाएँगे
    मैं पत्थर दिल जो बन चुका हूँ
    सोचा था बदलूंगा नहीं किसी भी मंज़र पे
    लेकिन हर मोड़ पे सबको आज़मा चुका हूँ

    कोई आएगा तूफ़ान तो नज़रे नहीं झुकाऊंगा
    चाहें दर्द हो बेशुमार एक पल भी न घबराऊंगा
    बहुत वक़्त से जो कैद था मन का वहम
    मैं उसको बुलंदी के आसमान में आज़ाद कर चुका हूँ

    जो बीत गया उसको भूल चुका हूँ
    जो आएगा उसको भी छोड़ चुका हूँ
    बहुत वक़्त के बाद आज में जीना शुरू किया है
    क्योंकि मैं अपनी शख्सियत को पहचान चुका हूँ

    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 4w

    For daily quotes visit my Instagram @nirmal007sharma

    Read More

    ख़ुश रहता हूँ मैं
    सिर्फ़ इतना की लोग समझ जाए
    मेंरे बाहरी दिखावे को
    रूह को समझने की मैं उन्हें इजाज़त नहीं देता

    ख़ुश रहता हूँ मैं
    सिर्फ़ इतना की कोई पढ़ पाये
    मेंरे इश्क़ भरे लफ्ज़ो को
    दर्द-ए-दिल को छूने की मैं उन्हें मौहलत नहीं देता

    खुश रहता हूँ मैं
    सिर्फ़ इतना की सब ख़ुश हो जाए
    मेंरी आवारगी को देख़ कर
    अपनी नफ़रत के काबिल किसी को बनने नहीं देता
    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 8w

    For daily quotes visit my Instagram
    @nirmal007sharma

    Read More

    तेरे बग़ैर बीत जाएं वो पल कैसा
    जँहा तेरी याद ना आए वो मंज़र कैसा
    हर जन्म में तुझे चाहने का वादा किया हैं
    जिस सफ़र में तुम साथ नहीं तो वो रास्ता कैसा

    प्यार मिले और तुम ना रहो तो दिल कैसा
    खुशियाँ रहे तुम पास नही तो यार कैसा
    मेरी हर मंज़िल का मुकदर सिर्फ़ तुझी को पाना हैं
    मंजिल की चाह में तुम बिछड़ो तो वो शौख कैसा

    बेशुमार हुस्न हो तेरा नूर ना दिखे तो चाँद कैसा
    मेंरी हस्ती में तेरा ही अक़्स ना रहे तो गुरुर कैसा
    यह इबादतें और दुआएं तुझी पर मुक्कमल होती हैं
    सब कुछ हासिल किया और तू ना मिले तो जीना कैसा
    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 16w

    @hindinama
    For daily quotes visit my instagram profile @nirmal007sharma

    Read More

    वो प्यार हैं मेरा
    सबसे अलग एहसास हैं
    वो यार हैं मेरा
    औरों की क्या दरख्वास्त हैं
    वो जुनून हैं मेरा
    उसका होना मुझमें काफ़ी हैं
    वो दिल हैं मेरा
    उसकी हर अदा मेरे खुदा सी हैं
    वो इश्क़ हैं मेरा
    नायाब हैं पूरी दुनीयाँ में
    वो चाँद हैं मेरा
    यह रातें भी उसकी प्यासी हैं
    वो बुलंद हौसला हैं मेरा
    तूफ़ान भी कुछ नही उसके आगे
    वो सब कुछ है मेरा
    यह ज़िन्दगी सिर्फ़ उसके लिए बाक़ी हैं
    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 21w

    For daily quotes visit my instagram profile
    @nirmal007sharma

    Read More

    दिल में दर्द होता हैं
    चेहरे पे मुस्कान रखता हूँ
    मैं शायर हूँ साहब
    हर महफ़िल में अपने एहसास रखता हूँ
    लफ़्ज़ों में चीखें होती हैं
    आवाज़ में मिठास रखता हूँ
    मैं शायर हूँ साहब
    अपने लफ़्ज़ों से अपनी शख्सियत का आगाज़ करता हूँ
    हाथों में कलम होती हैं
    कागज़ों पर ख़्वाब बुनता हूँ
    मैं शायर हूँ साहब
    बहते अश्कों का समुंदर लिए चलता हूँ
    ज़िन्दगी मौत से बत्तर होती हैं
    अनगिनत मुस्कुराहट लिए बहता हूँ
    मैं शायर हूँ साहब
    हर ज़ख्म को रूह से लगाये जीता हूँ
    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 23w

    For daily quotes visit my instagram profile
    @nirmal007sharma

    Read More

    कभी लिखता था मैं
    आज वो गीत बन गया हूँ
    कभी सोचता था मैं
    आज वो मंज़र बन गया हूँ
    चला था जिस कश्ती पर सवार होकर
    आज उन हौसलो का मसीहा बन गया हूँ
    कभी लिखता था मैं
    आज वो गीत बन गया हूँ
    परवाह करते करते
    मैं लापरवाह हो गया हूँ।
    यूँही चलते चलते
    मैं मुसांफिर बन गया हूँ
    गिरते सँभलते
    मैं पतझड़ हो गया हूँ
    हारते जीतते
    मैं बेदर्द हो गया हूँ
    महफ़िलो में कहता था मैं
    आज वो शख्सियत बन गया हूँ
    कभी सुनाता था जिस शख्स की दास्तां मैं
    आज उन कहानियों का किरदार बन गया हूँ
    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 27w

    For daily quotes visit my Instagram profile
    @nirmal007sharma

    Read More

    इश्क़ क्या है
    इश्क़ करने वालो से पूछिए
    मौहब्बत क्या है
    दिल लगाने वालो से पूछिए
    किसी को देख कर
    कुछ जानने कि ज़रूरत नहीं रहेगी आपको
    ज़िन्दगी क्या है
    ख़ामोशी से जीने वालो से पूछिए
    दर्द क्या है
    मुस्कुराने वालो से पूछिए
    तकलीफ क्या है
    गुनगुनाने वालो से पूछिए
    जो शिकायत करके है हर वक़्त
    उनसे गुज़ारिश है मेंरी
    खुशियाँ क्या है
    कलम से लफ्ज़ो को सजाने वालो से पूछिए
    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 33w

    For daily quotes follow me on Instagram
    @nirmal007sharma

    Read More

    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 34w

    For daily quotes visit my Instagram profile
    @nirmal007sharma

    Read More

    ©i_am_an_unprofessional_writer

  • i_am_an_unprofessional_writer 35w

    For daily quotes visit my Instagram
    Video also available
    @nirmal007sharma

    Read More

    तन्हा होकर भी मुस्कुरा लेता हूँ
    अकेला होकर भी जी लेता हूँ
    क्या करुँ यह ज़िन्दगी ही कुछ ऐसी है
    मैं भीड़ में होकर भी ख़ुद को ढूंढ लेता हूँ
    अनजान रास्तों पे चलकर भी ख़ुश हो लेता हूँ
    अंधेरी रातों में जाग कर भी लिख लेता हूँ
    क्या करुँ कुछ यादें मेरा पीछा नहीं छोड़ती
    मै गुज़रे वक़्त को भी अपने दिल में रहने देता हूँ
    मौहब्बत करके भी नफरत को जान लेता हूँ
    शिकायत होते हुए भी ख़ामोश रह लेता हूँ
    क्या करुँ गिले-शिकवे नहीं रखता किसी से
    मैं अजनबी को भी गले से लगा लेता हूँ
    अधूरा होकर भी खुद को मुक़्क़मल कर लेता हूँ
    दर्द में रहकर भी अपनों से सबकुछ छुपा लेता हूँ
    क्या करुँ मुझे कभी मेरे ज़ख्मो का एहसास हुआ ही नहीं
    मै अपने किरदार को बखुभी निभा लेता हूँ
    ©i_am_an_unprofessional_writer