innerthoughts_

�� Jyoti �� ✨ Glittering soul ✨

Grid View
List View
Reposts
  • innerthoughts_ 71w

    रूठी हूँ ख़ुद से.. तू ख़ुद को क़सूरवार ना ठहरा,
    ये वक़्त भी बीत जाएगा.. अच्छे वक़्त की तरह ।

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 102w

    दुआओं में याद रखना.. ��
    #its #innerthoughts_

    Read More

    महसूस कर लेती हूँ उनके अनकहे शब्दों को भी,
    पर दोस्त.. इसे इश्क़ ना समझ लेना !

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 103w

    शाम को जब दोस्तों के साथ बाहर जाती हूँ,
    तो लगता हैं तू दौड़े - दौड़े मुझे पुकार रही होगी..
    जल्दी आ जाना कहकर मेरा इंतजार कर रही होगी !

    जिंदगी से थककर जब मैं सो जाती हूँ,
    तो सिर पर हाथ रखकर तू सहला रही होगी..
    मेरी लाडली बेटी कहकर मुझे प्यार कर रही होगी !

    ठोकर खाकर जब गिर जाती हूँ,
    तो बिना कुछ पूछे दवा लगा रही होगी..
    रोते हुए अपने आँचल से मेरे आँसू पोंछ रही होगी !

    मेरी गलतियों पर अब कोई टोकने वाला नहीं,
    सपने बुन ही रही थी कि आँखें खुल गई..
    मन रोता हैं माँ... जो तुझसे बिछड़ गई !

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 103w

    नजदीकियां बढ़ने लगी हैं,
    शायद दूर जाने वाले हो तुम !

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 106w

    कौन कहता है कि तस्वीरें कुछ कहती नहीं,
    मैंने सुना है इन्हें..........रातों में चीख़ते हुए !

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 107w

    ��
    मरासिम - relations
    #innerthoughts_jj

    Read More

    माज़ी का किस्सा क़ैद हैं ज़हन में,
    फ़ुरसत में रहो तो फ़ुरसत से सुना दूँ,
    समझो तो हक़ीक़त नहीं तो ख़ामोशियाँ हैं,
    इस खुबसूरत मरासिम से रु-ब-रु तुम्हें करा दूँ !

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 109w

    ना जाने क्यों ये रातें खुद को दोहराती हैं,
    जाते जाते ज़ख़्मों को गहरा कर जाती हैं !

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 131w

    अच्छा सुनो! पराए हो.. तो पराए ही रहना,
    ग़र अपना बनाकर.. पराया बन जाओगे,
    तो तकलीफ़ ज्यादा होगी !

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 131w

    Happiest birthday mummy ❤️
    #innerthoughts_jj

    Read More

    अब घर में वो हलचल नहीं होती,
    तेरी खट्टी-मीठी डांट जो नहीं मिलती!

    हर कोई यहाँ रात जगाने आता है,
    तेरी तरह कोई गोदी में नहीं सुलाता है!

    त्यौहार तो बस यूँ ही बीत जाते है,
    तुझे संवरते हुए जो देख नहीं पाते है!

    बचपन के क़िस्से तुझसे सुनना है,
    माँ-माँ कहकर सुबह से शाम बिताना है!

    एक ही मन्नत मांगती हूँ रब से,
    ख़ुश रहे तू जहां भी है दूर हम सबसे!

    जिन्हें माँ की ममता का एहसास नहीं,
    माँ का साया हटने पर उनसे प्यार जताओगे?

    सोचा था हंसते हुए तुझे बधाईयां दुंगी,
    पर माफ़ करना माँ..
    इस जन्मदिन पर भी तुझे रूला गई माँ!!

    ©innerthoughts_

  • innerthoughts_ 132w

    तुम्हारी मोहब्बत भुल जाऊं..
    तो क्या ही मोहब्बत किया मैंने,
    मोहब्बत शब्द भी कहीं पढ़ती हूँ,
    तो तुम्हें करीब महसूस करती हूँ!

    ©innerthoughts_