Grid View
List View
Reposts
  • jaidhinijain 158w

    एक सवाल ख़ुद से ——

    किसी का हमारे बीच से चले जाना पार्थिव देह का ब्रह्म में लीन हो जाना सम्पूर्ण रूप से जाना होता है क्या ? जाने वाले के विचार , प्रभाव ,काम ,सब कुछ तो यहीं रह जाता है हमारे बीच तो महज़ साँस रूक जाने को जाना कैसे मान ले ?
    क्या राम-कृष्ण ,महावीर -बुद्ध ,कबीर -नानक ,गांधी सभी तो आज तक हमारे साथ
    जी रहे है
    कोई सगा हो या ‘सुषमा’ कभी नहीं जा सकते वे यहीं रहेंगे हमारे बीच बन के गीत ......

    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 158w

    साँसों की गठरी पीठ पर लादनी होगी
    जिंदगी ऐसे बितानी होगी ।
    ज़िंदा रहने को आदमी को अपनी हवा
    भी ख़ुद बनानी होगी ।
    पेड़ पौधे भी वेंटिलेटर पर आ गए
    गुम हुई सूरज की रोशनी ,
    बनो हाई टेक पर मत भूलो प्रकृति संग
    संगत बिठानी होगी ।।

    #hks #pp_wt #writerstolli #prkruti #poem #hindiurduwriter #quote #yqdidi

    Read More

    २०५० एक दिन

    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 158w

    क्या ख़ूब सावन आया है
    देश में बदलाव लाया है
    पहले पहल चंद्रयान भेज
    गगन पर झंडा फहराया है
    मुस्लिम बहनों के लिए
    तलाक़ बिल पास कराया है
    धरा पे स्वर्ग कश्मीर को
    अखंड भारत में लाया है
    एक झंडा एक क़ानून
    दृढ़ संकल्प लाया है
    धारा ३७० में सुधार कर
    जन लोकतंत्र जगाया है
    नमो नमो अतुल्य अमित
    देश में सुराज्य आया है
    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 158w

    पीली चुनरी गुलाबी बिंदी लाल लाली लगाए।

    सज धज के गोरी हरियाली अमावस मनाए।

    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 158w

    आज का समय
    स्वर्ण सीढ़ी के बनाने के बजाए
    आपदा में मंज़िलों से नीचे
    उतरने की सीढ़ी
    पर ध्यान देने का है ।
    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 158w

    #प्रेमचंद #साहित्य

    Read More

    प्रेमचंद

    युग- प्रवर्तक लेखक प्रेमचंद को पढ़ना माने शहरी ,कस्बाई ,देहाती जीवन को जीना ....साहित्य में प्रकृति सौंदर्य और कल्पना को साहित्यकारों के बीच से निकाल कर आम जन के लिए वास्तविक ज़मीनी कथा प्रस्तुत कर प्रेमचंद ने नई विचारधारा को जन्म दिया ...उनका विपुल साहित्य पढ़ना तो मुश्किल लेकिन ५१ अनमोल कहानियों का आज एक संदूक खोला है ....

    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 159w

    गुनगुनी धूप रिमझिम बारिश उड़ती तितलियाँ
    तीनो बचपन की मेरी सखी सहेलियाँ
    पता नहीं कौन देस रहती है
    अब तो यादों में आया करती है
    कितने बरस हो गए सबको बिछड़े
    हमको साथ में बतियाए
    हम ढूँढते वो गाँव की गुम हुई पंगडंडी
    वो बाग़ बग़ीचे जहाँ उगते अब कोचिंग में बच्चे
    बारिश को देख घर में दुबक खिड़की से झाँकते है
    माँ की डाँट खा भीगने से बचते है बच्चे
    कहाँ रहे वो आँगन वो दरख्त जिनकी छांव में
    सेंकते थे गुनगुनी धूप और झूला डाल लेते थे हिचकोले
    किसी को मिले तो कहना
    ढूँढ रही है तुम्हें तुम्हारी एक और सखी भोली भाली धरती
    अब वो भी बूढ़ी हो चली है तुम बिन रूख़ी हो रही है
    तीनों कभी तो उस से मिलने आओ उसके घर जो है प्रकृति ।
    #yqdidi #dhup #barish #titliyan #yqquotes #yqbaba
    Read my thoughts on @YourQuoteApp #yourquote #quote #stories #qotd #quoteoftheday #wordporn #quotestagram #wordswag #life #wordsofwisdom #inspirationalquotes #inspiration #writeaway #love #thoughts #poetry #instawriters #writersofinstagram #writersofig #writersofindia #igwriters #igwritersclub

    Read More

    गुनगुनी धूप रिमझिम बारिश उड़ती तितलियाँ
    तीनो बचपन की मेरी सखी सहेलियाँ
    पता नहीं कौन देस रहती है
    अब तो यादों में आया करती है
    कितने बरस हो गए सबको बिछड़े
    हमको साथ में बतियाए
    हम ढूँढते वो गाँव की गुम हुई पंगडंडी
    वो बाग़ बग़ीचे जहाँ उगते अब कोचिंग में बच्चे
    बारिश को देख घर में दुबक खिड़की से झाँकते है
    माँ की डाँट खा भीगने से बचते है बच्चे
    कहाँ रहे वो आँगन वो दरख्त जिनकी छांव में
    सेंकते थे गुनगुनी धूप और झूला डाल लेते थे हिचकोले
    किसी को मिले तो कहना

  • jaidhinijain 160w

    गगन में विचरण करते
    परिंदे हो माना
    देखो साँझ पड़ गई
    शजर याद करे
    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 160w

    ✍️✍️✍️✍️
    दीदार मेरा बंद आँखों से किया करो
    ज़िंदगी हूँ मैं खुल कर मुझे जिया करो

    महफ़िल में होंगी तालियाँ मेहरबानों की
    तुम तक़रीर दिल से बस दे दिया करो

    यादें है यादों का क्या आती जाती रहेगी
    सामने होंगे तुम्हारे पुकार दिल से लिया करो

    एक दो दिन का सबर नहीं जिस्त भर का है
    दिल छोटा करते नहीं घूँट ग़म के किया करो

    सुकून मिले लिखकर तुम्हें ख़त में अहसास
    कभी कोरा काग़ज़ भेज लिफ़ाफ़े में दिया करो

    माना तुम ही तुम हो ज़ेहन में सब रहते ख़फ़ा
    कभी किसी और को भी आने जाने दिया करो

    कभी न थके नाचीज़ शब्दों में तुम्हें ढाल के
    तुम भी कभी शब्दों को काग़ज़ पे सिया करो ।
    Read my thoughts on @YourQuoteApp #yourquote #quote #stories #qotd #quoteoftheday #wordporn #quotestagram #wordswag #life #wordsofwisdom #inspirationalquotes #inspiration #writeaway #love #thoughts #poetry #instawriters #writersofinstagram #writersofig #writersofindia #igwriters #igwritersclub

    Read More

    ग़ज़ल

    शब्दों को काग़ज़ पर सिया करो
    ©jaidhinijain

  • jaidhinijain 160w

    सुनो माँ
    जब छोटा था तुम लोरी सुनाती थी
    वह लोरी आज भी याद है मुझे
    लोरी में कहा करती थी
    ‘चंदा मामा दूर के’पर अब कैसे कहूँ माँ
    चाँद पे बढ़ते क़दम रोक नहीं पाउँगा माँ
    पानी की थाली में चंदा की परछाईं
    दिखा कर अब बहला न पाओगी माँ
    बिठाकर चन्द्रयान में जब ले जाऊँ तुम्हें चाँद पर

    सुनो प्रेयसी ,
    जब से चन्द्रयान उड़ने की ख़बर सुनी
    मन करे चाँद की नगरी दिखाऊँ और कहूँ
    देखो मैं सच कहता हूँ ना तुम्हें जो चाँद कहता हूँ इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा अब तुम्हें दर्शन का
    बादलों में छिपा बैठा होगा कहीं डपट देना तुम
    फिर मुझे पानी पिला अपना व्रत तोड़ना
    बिठाकर चन्द्रयान में जब ले जाऊँ तुम्हें चाँद पर ।।

    सुन चकोर
    तू भी जा सकेगा अपने चाँद के पास
    उसे पता चलेगा चाहता है उसे कोई चकोर
    जब वह तुम्हारे पास होगा तो करना शोर
    गिले शिकवों का विरह की बातों का
    करना मन की दिनरात होगी धवल चाँदनी
    बिठाकर चन्द्रयान में जब ले जाऊँ तुम्हें चाँद पर

    सुनो रसिकजन
    दुनिया करें चाँद का अजीब तरह से विग्रह
    गोल कभी आधा कभी टेढ़ा तो कभी उपग्रह
    कविमना ह्रदय का चाँद नाना रूप धरता है
    माँ की रोटी कभी महबूब की चुनर में टँकता है
    जुदाई ,इंतज़ार का यही चाँद गवाह बनता है
    अब के देखना इसे ग़ौर से और मुझे बताना
    बिठाकर चन्द्रयान में जब ले जाऊँ तुम्हें चाँद पर ।।

    # शब्दनिधि #mirakee #hks #hindiwriters #hindiurdunetwork #mirakee #hindikavysangam #hindiwriters #yourquote #hindinama #do_alfaaz #shabdnidhi #मन #yqhindi #poem #writersnetwork #mirakeeworld #hindilekhan #hindinaama # pod #quote #poetrycommunity #poet #writersblock #quoteoftheday #साहित्य_सागर #rekhta#लेखक #शायरी #gazal #instakavi #instagram #चाँद #चन्द्रयान

    Read More

    चाँद

    बिठाकर चन्द्रयान में जब ले जाऊँ तुम्हें चाँद पर


    Read in caption
    ©jaidhinijain