jyoti_1891

Be pure then sure..!!

Grid View
List View
Reposts
  • jyoti_1891 34w

    "..जज्बात.."

    तेरी शहर की यादें बड़ी भीड़ में रहतीं हैं,
    लगता है.. वो भी बहुत तकलीफ़ सहती हैं..!!
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 34w

    "..अपूर्ण काही.."

    अबोल तू,
    अबोल मी..!!
    त्या क्षणी तु.. या क्षणी मी।
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 43w

    "_साथ_"

    मैं तुम्हें इस शाम के बदले में,
    एक चांद दूंगा..!!
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 44w

    " महफूज़ "

    उस शख्स़ ने सोने का पिंजरा खरीद लिया था,
    अब उसे किसी परिंदे की तलाश है..शायद..!!
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 45w

    जिंदगी

    कुछ छूट रहा है हाथों से..!!
    "हाँ.. जिंदगी है शायद..!! "
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 46w

    "_नाती_"

    नात्यांनी एक गोष्ट शिकवली,
    आपण खोलवर गुतंत गेलो कि..आपल्यातील सखोलपणा हरवून जातो..!!
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 49w

    "_कविताएँ_"

    कुछ कवियों की कविताएँ कुछ नहीं बोलतीं,
    हाँ... मगर,
    कुछ फ़नकार बोलने पर बेबस कर जातें हैं..!!
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 49w

    "_तनहाई_ "

    क्या तुमने कभी अख़बार की खामोशी पढ़ीं है..??
    नहीं जनाब,
    हम अख़बार से छूटी हुईं ,
    और शोरगुल में डूबीं हुईं खामोशी ढूंढते हैं..!!
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 57w

    "_डर_"

    किसी ने मुझे कुछ अच्छा लिखने की बात कही,
    मैंने अपने सारे डर लिख डाले..!!
    ©jyoti_1891

  • jyoti_1891 58w

    आज फिर झूठी मोहब्बत की
    हमने तरफदारी कर दी,
    लोग पुछते रहें हमसे दिल का हाल..
    हमने उनकी बात हंसी में टाल दी..!!
    ©jyoti_1891