kamini_bhardwaj1

ORIGINAL CONTENT ONly hindi poetess Feminist

Grid View
List View
Reposts
  • kamini_bhardwaj1 1d

    मौसम इस कदर खुमारी में है,कि
    यादें कत्ल करने की तैयारी में हैं।

    ©kamini_bhardw

  • kamini_bhardwaj1 1d

    कोई बहुत याद आये तो क्या करें
    आँखें यूँ ही बरस जायें तो क्या करें
    दिल मिलने की जिद्द कर बैठा है
    इसे कैसे मनायें बताओ क्या करें ।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 1d

    मन आगे आगे मैं पीछे पीछे यही रहा तमाशा
    यूँ ही मन मुझे दुनिया का मेला घुमाता रहा ।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 2d

    सांसों के रुक जाने से जिस्म की मौत तो तय है
    इश्क अगर रूह का हो तो सफर लम्बा चलेगा ।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 2d

    दिल की आवाज़ फासलों में गुम हो गई
    इंतजार की राहें भी ना जाने कहाँ खो गई
    जिंदगी के साथ चलते चलते दूर निकल आये
    रेश्मी सी ख्वाहिशें भी अब थक कर सो गयीं।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 4d

    दो पल की मोहब्बत में भी एक पूरा जमाना होता है
    जिंदगी फिर कोई मोड़ ले साथ ये खजाना होता है।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 4d

    दिल के शहर में कितने ही मौसम आये
    कभी कांटें से चुभे कभी फूल मुस्कुराये
    बस तेरी यादों की बेल लिपटी रही दिल से
    इसी सुकून में हम पूरा जीवन जी आये ।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 5d

    दिल में नजर में यादों में वादों में
    गम में खुशी में हँसी में अश्कों में
    दुआओं में फिजाओं में हवाओं में
    बता और कहाँ कहाँ तेरा नाम लिखें।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 5d

    जर्रा जर्रा मोहब्बत का पैगाम देता है
    एक शायर के ख्यालों को सँवार देता है
    ये दिल इश्क की कश्ती में बैठाकर
    इस कायनात की सैर करा देता है ।

    ©kamini_bhardwaj1

  • kamini_bhardwaj1 5d

    अपना अपना हिस्सा सभी को मिल गया
    ये सोचना गलत है कोई हमें छल गया
    सबकी अपने कर्मों की किताब खुली है
    ये अलग बात है कौन सा पन्ना खुल गया।

    ©kamini_bhardwaj1