Grid View
List View
  • kanha1234 5d

    23 November 2021 6:50pm

    Read More

    उमर का कसूर क्या कहूं गुनाहगार तो बनना ही था !!
    गलती चाहे उम्र की हो या हमारी सजा तो मिलना ही था!!

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 1w

    17 November 2021 7:55pm

    Read More

    तूफानों से भागे नहीं होते तो शायद हमारी मंजिल एक होती...!!
    क्योंकि उस तूफानों में हमारा भी एक आशियाना था!!

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 2w

    11 November 2021 8:55pm

    Read More

    तन्हा जीने का अलग ही मजा है!!
    क्योंकि तन्हाई में आप जो मिलते हो मेरे कान्हा....!!❣️

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 3w

    9 November 2021 7:58pm

    Read More

    एक चाहत थी तुमसे मिलने की वो भी तुम ने पूरी कर दी वृंदावन बुला के....!!❤

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 3w

    8 November 2021 7:40pm

    Read More

    याद करना था मंजिल को ना जाने क्यों मुसाफिर याद आते हैं!!
    मुसाफिर का तो इस जन्म का ही नाता है, मंजिल का तो जन्मो जन्म का नाता है!!
    फिर ना जाने क्यों मुसाफिर ही याद आते हैं!!

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 3w

    6th November 2021 4:00pm

    Read More

    जैसे मोमबत्ती बिना आग के नहीं जल सकती...!!
    वैसे ही मनुष्य आपने अहंकार और स्वार्थ को दूर किए बिना आध्यात्मिक जीवन नहीं जी सकता ....!!

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 5w

    जमीन पे,दरवाजों पे और दीवारों पे लिखा करते ही हैं!!
    अब तो जो मिलता है उसे भी जय राधे कृष्ण किया करते हैं!!

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 5w

    तुम्हारी आंखों में इस तरह खो जाते हैं!!
    की जिंदगी के सारे गम एक पल में भूल जाते हैं!!

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 6w

    16th October 2021 7:45pm

    Read More

    कुछ उम्मीद लगाए बैठे थे उनसे मिलने की... पर वक्त ने ऐसा धोखा दिया मिलने की बात तो दूर देखना भी ना मुमकिन हो गया!!

    कृष्णप्रिया✍

  • kanha1234 6w

    14th October 2021 8:45pm

    Read More

    हकीकत में मिलने के लिए लोग रोकते ही है!!
    अगर मन से भी मिलकर मुस्कुरा दिया तो लोग उस पर भी सवाल उठा देते हैं!!

    कृष्णप्रिया✍