Grid View
List View
Reposts
  • lafzzz_ 122w

    दुनिया तो घर में है,
    बाहर तो सिर्फ़ दुनियादारी है...

    @krishnaa...

  • lafzzz_ 123w

    बस इस आस के साथ
    मुस्कुराते रहते हैं,
    के ये जो काली घटा के बादल हैं
    इक न इक दिन तो छठेंगे...

    @krishna...

  • lafzzz_ 123w

    .

  • lafzzz_ 128w

    बेसब्र से हम,
    बेख़बर से तुम ...

    @krishna...

  • lafzzz_ 130w

    तुम बिन,
    सब रूखा-रूखा सा लगने लगा है,
    फिर चाहे चाय हो,या इतवार...



    @krishna...

  • lafzzz_ 131w

    बड़ी अजीब बात हेना,
    इस ज़िन्दगी की दौड़ में,
    कोई हिस्सा बन जाता है,
    तो कोई किस्सा...



    @krishna...

  • lafzzz_ 131w

    किसी तोहफे की फरमाइश नहीं ए-दोस्त,
    बस तू हमेशा साथ रहना,
    इतनी सी गुज़ारिश है तुझसे...



    @krishna...

  • lafzzz_ 131w

    दूर तुमनें तुमसे नहीं,
    हमें खुदसे कर दिया...


    @krishna...

  • lafzzz_ 131w

    चाहने भर से मिल जाती मंज़िले गर,
    तो सफर वह किस्सों में, तब्दील कहाँ होते...



    @krishna...

  • lafzzz_ 131w

    गाँव का वह खुला, आँगन ही अच्छा था,
    जहाँ खुद की आज़ादी तो थी।
    इन शहर की दीवारों ने तो जैसे,
    कैदी बनाकर रख लिया हो...



    @krishna...