neha_netra

��"मन अस्सी तन काशी"��

Grid View
List View
Reposts
  • neha_netra 4d

    कुछ चीजें हमारे साथ बुरी होती हैं ,
    मगर हमारे अच्छे के लिए ;
    क्योंकि कभी-कभी अच्छी चीजों का रास्ता
    बुरी चीज़ों से होकर गुजरता है ,
    इसलिए बुरी चीज़ों पर शिकवा करने से बेहतर है
    हम अच्छी चीजों का शुक्रिया करें .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 5d

    पिता द्वारा हवा में उछाले जाने पर
    शिशु विश्वास करता है कि ,
    पिता उसे गिरने नहीं देंगे ;
    ठीक वैसा ही विश्वास हमें
    ईश्वर पर करना चाहिए .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 1w

    तुम काॅफी पर नहीं चाय पर मिलना ;
    बनारस की सुबह में नहीं , अस्सी की शाम पर मिलना .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 2w

    अजीब हसरत है दिल की भी ;
    तुम पे मर के जीना चाहता है .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 2w

    उसकी आंखों ने ,
    मेरा चेहरा क्या चूमा ...
    मैं ताउम्र के लिए निखर गयी .!
    ©neha_netra
    ❤️

  • neha_netra 2w

    तुम ज़रूरत नहीं हो ;
    मगर हां , तुम ज़रूरी बहोत हो .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 2w

    जिस शख़्स के गले लगकर रोई थी बहुत ;
    उस शख़्स ने ही , मुझे हॅंसना सिखाया है .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 3w

    उसे मेरा रूठना पसंद है ;
    मुझे उसका मनाना .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 3w

    वो मुझे अपना कहते हैं ;
    साल में एक - दो दफ़ा ही ,
    जो अपने लगते हैं .!
    ©neha_netra

  • neha_netra 3w

    उसने तोहफ़े में मुझे , कभी गुलाब नहीं दिया ;
    उसे डर सताता रहा , मुझे कांटा चुभ जाने का .!
    ©neha_netra