nisargwrites

www.instagram.com/nisarg_patil_2408

��live to enjoy�� Author of 'The Uncleared Dream' Compiler of 'Absence of those days' which are available on Amazon.

Grid View
List View
Reposts
  • nisargwrites 34w

    मैं वो क्यों करूँ,
    जो मैंने कभी करना चाहा ही नहीं,
    मैं वो क्यों बनूँ,
    जो मुझे कभी बनना था ही नहीं।
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 34w

    ए मंजिल,
    तेरे दहलीज पर आकर थम गया हूँ मैं,
    नासमझ हूँ, नादान हूँ,
    पर आवारा नहीं हूँ मैं,
    खामोश हूँ, निराश हूँ,
    पर अभी तक हारा नही हूँ मैं।
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 36w

    बहुत दिनो से शांत रह कर,
    हम खुदको ही गुमनाम कर बैठे है,
    पर यूं ही कमजोर ना समझ लेना हमे,
    हम अपने मुकाम को हासिल करने का
    हर एक इंतजाम कर बैठे है।
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 38w

    जब तक जी रहे हो मुस्कुराते रहो,
    क्या पता कब कौन रुला दे,
    खुश रहो और खुशियाँ बांटते रहो,
    क्या पता उप्पर वाला कब किसे बुला ले
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 39w

    परेशान भी रहूं अगर मैं,
    तो अब बहाने बनाना सीख लिया है मैंने,
    रुठ भी जाऊ अगर अब किसी से,
    तो खुद को खुद मनाना सीख लिया है मैंने।
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 42w

    अपनी किस्मत के साथ रुबरु होने से,
    मैं दूर नहीं था,
    पर अपनी मंजिल को मैं हासिल कर लूँ,
    ये जमाने को मंजूर नही था ।
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 49w

    .

  • nisargwrites 51w

    गैरों तक तो ठीक था,
    पर जिसे मैंने अपना समझा,
    उसने भी मुझसे दूरियाँ बनाई है,
    उस से नाराज नहीं हुॅं मैं,
    बस, खुद से अंजान हुॅं मैं,
    क्योंकि शायद मुझमें ही कोई बुराई है।
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 52w

    अगर जीत जाओ तुम,
    तो हम हारकर भी,
    तुम्हारी जीत का जश्न मना लेंगे,
    चाहे कितना भी शातिर दिमाग हो तुम्हारे पास,
    दिल भी तो होगा ही,
    हम उसमें भी अपनी जगह बना लेंगे।
    ©nisargwrites

  • nisargwrites 52w

    .