• if_only_we_lost 146w

    मैं खुली किताब सा तेरे सामने हूंँ
    मेरी ख्वाहिश सिर्फ इतनी है कि हर पन्ना तू शिद्दत से पढ़ें।