• _saahil 16w

    अब नींद नहीं इन आंखों में, सो ख्वाब भी जागा करते हैं
    हम रोज़ नया किस्सा बुन कर ये रात गुज़ारा करते हैं ।

    ©_saahil