• lazybongness 52w

    खुद को खो देने का तकलीफ चूंकि यह ज़माना जानता है।

    Read More

    ऐसा क्या लिखूँ, सभी के दिलों का राज़ लिखूं
    बेखबर होकर, मैं बेशूमार लिखूं।
    टीस दिल की जलाकर, बेहिसाब रंज-ओ ग़म लिखूं।
    ©lazybongness