• flame_ 8w

    Inspired from gulzar's zami ko jadu aata hai !!

    Read More

    मिट्टी

    मिट्टी जैसा बनते हुए मिट्टी में मिल जाएंगे,
    इक दिन फूलों की भांति कांटों सहित खिल जाएंगे,

    सब कुछ अंदर सौख ज़मी में मिल जाएंगे,
    दफन कर हसरतें सारे घाव सिल जाएंगे,

    जादू कर सबको चौक्कना कर जाएंगे,
    पुरानी इमारतों के कुछ हिस्से हिल जाएंगे,

    अब्सारों से पीकर नफरतें लोगों की,
    प्यार के दीप जल्द प्रज्वलित कर जाएंगे,

    मिट्टी की तरह कुछ उगाकर बांट जाएंगे,
    उनमें से कुछ लोग अपने हिस्से का छांट जाएंगे !
    ©flame_