• rani_shri 36w

    #nayab_naushad

    समझ नहीं आता ख़ुद से ये नाराज़गी कैसी है,
    जैसी है नहीं ये अक्सर, हमको लगती वैसी है।
    ~R.S.

    Read More

    मिल कर भी हमको ये ज़िंदगी मिली नहीं है,
    दिल ज़िंदा है मगर हममें ज़िंदादिली नहीं है।
    ©rani_shri