• poetryhub 181w

    rajdeep

    Read More

    मै क़तरा क़तरा फ़ना हुआ,
    मै ज़र्रा ज़र्रा बीखर गया,
    मै उस से मिलते मिलते ,
    कुद से बिछड़ गया !
    (By raj)