• aj_potter100 8w

    मुक्ति मुझको दीजे या, संबल करें शरीर।
    मैं सेवक विनती करूं, सुनिए हे रघुवीर।।
    ©aj_potter100