• stardust_16 66w

    ना जाने क्यूँ, हम उनसे प्यार कर बैठे।
    सब जान कर भी इश्क़ का इज़हार कर बैठे।।

    पता था मुझे, बेवफा़ है वो।
    ना चाह कर भी, उनका दीदार कर बैठे।।

    उनकी मासूमियत का दिल कायल हो गया।
    और हम उसे बेकरार कर बैठे।।

    जल रहे थे वो, हमारी अनकही बातों से।
    ऊपर से हम गलत सवाल कर बैठे।।

    जीत कर खुद से हर जंग।
    अपनी मौत का सामान खुद ही तैयार कर बैठे।।

    Read More

    Affection

    ©stardust_16
    Because you can't create it in a vacuum.