• rani_shri 78w

    हमारे मोहब्बत की इंतेहा ना पूछना मुर्शिद!
    हमें पता है कि तुम हमें नहीं मिलोगे
    फ़िर भी हमने किसी और से मोहब्बत की सोची तक नहीं।
    ~R.S.

    Read More

    हमारे मोहब्बत की इंतेहा न पूछना मुर्शिद!
    बेवफ़ाओं से भरे ज़माने में भी हमने
    सच्ची मोहब्बत की ओर कदम बढ़ा कर
    तुमसे बस सच्ची मोहब्बतें की हैं।
    ©rani_shri