• kamini_bhardwaj1 37w

    जीवन

    जीवन ध्यान भी, योग भी, मनन भी
    जीवन विचारों का अनुपम भंडार है
    जीवन पहाड़ भी, नदी भी, झरना भी
    जीवन सृष्टि में प्रकृति का संचार है
    जीवन शक्ति भी,भक्ति भी, मुक्ति भी
    जीवन है तो बहती प्रेम की रसधार है
    जीवन में प्रेम भी, मिलन भी, विरह भी
    जीवन है तो हर अनुभव का स्वाद है
    जीवन नीरस भी, सरस्, भी, तपन भी
    जीवन हर हाल में जीने का अधिकार है
    जीवन में पतझर भी, सावन भी, बहार भी
    जीवन एक कला और रंगों का संसार है
    जीवन में माता पिता, भाई बहन,पति पत्नी
    जीवन रिश्तों का प्यारा सा एक संसार है
    जीवन प्रेम और प्रकृति से बनी रचना है
    प्रेम है तो हर तरफ बहार है त्यौहार है।
    ©kamini_bhardwaj1