• deeptimishra 12w

    #itsjustlove

    यादें की तलाश....��

    Read More

    वो बैठी तेरी यादों के संग
    फिर तन्हा रात में
    ढूंढती कुछ तस्वीरें तेरी
    कुछ कांपती सी धड़कने,,
    कुछ सिसकियां भी साथ थी
    कुछ गलतियां भी अब साफ थी,,
    ठहर जाती तेरा नाम पुकारते ही
    सोचती "क्या अब भी बाकी हैं इश्क़ कही "?
    सूखे गुलाब का पत्ता भी ढूंढा
    ढूंढती तेरी हर बात को..,,
    कहीं तेरी आंखे,, कहीं तेरी आवाज को
    बिखरे बालों में ,,तेरी सांसों को
    मेरी उंगलियों पर तेरे निशान को..,,
    ढूंढती तुझसे जुड़े एहसास को
    अपनी हथेली पर लिखे तेरे नाम को
    तेरे बदलते चेहरे के हर रंग को..,,
    तुझ संग बिताए हर पल को
    वो ढूंढती खुद में, तेरी हमसफर को,,
    कुछ अधमरे वादों को
    कुछ दफन हो गए इरादों को,,
    तुझमें खो चुकी , उस बेहोश को
    उस वक्त को, उस होश को
    बैठी तेरी यादों के संग
    वो फिर तन्हा रात में...!!


    ©deeptimishra