• word_of_sorrow 122w

    तग़ाफ़ूल कर दो! जहन से अपने, वो शख़्श ना रहा
    था जो कभी सख़्त यहाँ, वो अब यहाँ सख़्त ना रहा

    ©_word_of_sorrow_