• sanctifiednotes 55w

    जब शर्त समस्त समुंद्र से लगाई है,
    तो लहरों से क्यों भयभीत होना?
    जो तुमने कभी पाया ही नहीं उसे कैसा खोना?
    और जब परिश्रम किया ही नहीं,
    तो सफलता का कैसा रोना?