• abhijames 16w

    ...कुछ पुराने खत....

    कुछ पुराने ख़त तुमहरी याद दिलाते हैं,
    कह ना सका लबों से वो पैग़ाम सुनाते हैं,
    मंजर मेरी आशिकी का वो तन्हा बताते हैं,
    नगमो में बसे उन्हीं शब्दों को हम आज भी गुनगुनाते हैं....
    ©abhijames